दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 30.04.16

 

मारपीट कर घृणित कार्य करने का लगाया आरोप – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-SONI-MAT-latest-sonipat-news-024003-85183-NOR.html

भंडारे में पूरी छूने पर दलितों को सुनाया तुगलकी फरमान – न्यूज़ ट्रैक

http://www.newstracklive.com/news/Dalit-punished-for-touching-food-in-program-in-up-1051872-1.html

दलित सिपाही के साथ बदसलूकी, दूल्हा-दुल्हन को मंदिर में जाने से रोका – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/dehradun/dalit-constable-not-allowed-to-enter-in-temple-with-bride

छुआछूत का खेल, दलित सरपंच को खाना खाते हुए बीच पंगत से उठाया ­- दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-UDA-OMC-being-raised-in-the-dalit-community-meal-5312103-NOR.html

बेलरायां रेलवे स्टेशन से  दलित किशोरी अगवा – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/lakhimpur-kheri/crime/belrayan-railway-station-dalit-girl-abducted

सहारनपुर में ठाकुर-दलित समुदाय के बीच संघर्ष – नई दुनिया

http://naidunia.jagran.com/national-clash-between-thakur-and-backward-classes-in-saharanpur-of-uttar-pradesh-731233

दलितों के 15 मकान ढहाने में तीन गिरफ्तार – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/bulandshahr/crime/demolition-of-15-houses-of-dalits-three-arrested

बहुचर्चित अॉर्बिट बस कांडः एक वर्ष हुअा मां की कोख उजड़े,फिर भी न चेती सरकार पंजाब केसरी

http://punjab.punjabkesari.in/moga/news/moga-case-god-will-punish-accused-want-only-a-govt-job-now-say-victim’s-parents-467566

बारात झगड़ाः दलित समाज ने भरतपुर कलेक्ट्रेट पर किया प्रदर्शन  – प्रदेश 18

http://hindi.pradesh18.com/news/rajasthan/bharatpur/dalit-society-protests-outside-the-bharatpur-collectorate-1408620.html

दैनिक भास्कर

मारपीट कर घृणित कार्य करने का लगाया आरोप

http://www.bhaskar.com/news/HAR-SONI-MAT-latest-sonipat-news-024003-85183-NOR.html

रतनगढ़में एक दलित युवक की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है। पीड़ित युवक ने पिटाई के बाद मुंह पर मूत्र करने के भी गंभीर आरोप दबंगों पर लगाए हैं। घायल युवक का इलाज खानपुर स्थित मेडिकल कालेज में चल रहा है।

जहां घटना की सूचना के बाद बसपा के कई नेता घायल युवक से मिलने पहुंचे। उन्होंने आरोपियों पर उचित कार्रवाई की मांग की। फिलहाल पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर एससीएसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। थाना मोहाना पुलिस को दी गई शिकायत में रमेश निवासी रतनगढ़ ने बताया कि गत 25 अप्रैल को उसका भाई सतपाल खेत में फसल में पानी देने के लिए गया था। वहां पर गांव के ही जितेंद्र, आशु अन्य आधा दर्जन युवकों ने सतपाल की पिटाई की। शिकायतकर्ता ने बताया कि वह उसके अन्य साथी सतपाल की मदद के लिए खेत पहुंचे तो उन्होंने देखा कि आरोपी लाठी-डंडों के अलावा चाकू भाला जेली से लैस थे और सतपाल पीट रहे थे। पिटाई से बेहोश हुए सतपाल के मुहं पर एक आरोपी जितेंद्र ने मूत्र भी किया गालियां देते हुए वहां से चले गए।

न्यूज़ ट्रैक

भंडारे में पूरी छूने पर दलितों को सुनाया तुगलकी फरमान

http://www.newstracklive.com/news/Dalit-punished-for-touching-food-in-program-in-up-1051872-1.html

भले ही हमारी सरकार मैक इन इंडिया और डिजिटल इंडिया की बात करती हो लेकिन आजादी के बाद से लेकर आज भी हमारे देश में पुरानी कुरूतियो की जड़ वैसी की वैसी ही है. झाँसी के जालौन जिले के उरई के पास गांव गिरथान में ऐसा ही एक संगीन मामला आया है जहां छुआ-छूत को लेकर तुगलकी फरमान सुना दिया गया.

दरअसल कुछ दि‍न पहले एक भंडारे के आयोजन में कुछ दलि‍तों ने पूड़ी की डलिया छू ली. इसके बाद ऊँची जाती वाले ग्रामीणों ने भंडारे का बहि‍ष्‍कार कर दि‍या और हुक्‍का-पानी बंद करने का फरमान सुना दिया.

भंडारे में पूरी छूने पर दलितों को सुनाया तुगलकी फरमान

एलान किया गया की जिसने भी दलितों की मदद की उनसे 1 हजार रुपए जुर्माना वसूला जाएगा. साथ सबके सामने 5 जूते भी मारे जाएंगे. इस डर से लोगों ने उनसे नाता तोड़ लिया है. ग्रामीण कमलेश कुमार के मुताबिक दलितों का बहिष्कार करने का फरमान जारी हुआ. इसके बाद गांव के दुकानदारों ने उन्हें रोज की जरूरतों का सामान देना बंद कर दिया. नाई की दो दुकानें थीं.

एक ने बवाल के चक्कर में दुकान बंद कर दी, दूसरे ने उनके बाल काटने से इनकार कर दिया. पंप से दलितों के घर पहुंचने वाला पानी भी रोक दिया गया. यहां का एक युवक दलित बच्चों को ट्यूशन पढ़ाता था. उसने क्लास 5 तक के 5 दलित बच्चों ट्यूशन पढ़ने से मना कर दिया. तीसरी कक्षा में पढ़ने वाली साक्षी ने बताया कि सर ने उसे कहा कि छुट्टी है. दलित महिलाओं को मंदिर जाने से रोक दिया गया है.

इस मामले के सामने आने के बाद प्रशासन ने की खानापूर्ति की. घटना के दो दिन बाद शिकायत उरई जिला प्रशासन से की गई. दोनों पक्ष सीओ जंग बहादुर सिंह के सामने पहुंचे. यहां अधिकारियों ने यह कहते हुए समझौते के कागज पर साइन करा लिया कि आगे कोई दिक्कत नहीं होगी. बता दे की प्रशासनिक-राजनीतिक तौर पर गांव में दलितों की इस घटना के बाद कोई मदद नहीं की गई.

अमर उजाला

दलित सिपाही के साथ बदसलूकी, दूल्हा-दुल्हन को मंदिर में जाने से रोका

http://www.amarujala.com/dehradun/dalit-constable-not-allowed-to-enter-in-temple-with-bride

देहरादून के जौनसार बावर जनजातीय क्षेत्र में दलित उत्पीड़न का एक और मामला प्रकाश में आया है। इस बार उत्पीड़न का शिकार उत्तराखंड पुलिस का जवान हुआ है। आरोप है कि रंगेऊ गांव में स्थित मंदिर में सिपाही की बारात को प्रवेश नहीं करने दिया गया।

मंदिर समिति पर कार्रवाई की मांग को आराधना ग्रामीण विकास केंद्र समिति ने उपजिलाधिकारी के माध्यम से ज्ञापन राज्यपाल को भेजा। ज्ञापन में यह घटना 27 अप्रैल की बताई गई है।

आराधना ग्रामीण विकास केंद्र समिति के संरक्षक दौलत कुंवर ने बताया कि सिपाही गीताराम निवासी बिसोई तहसील कालसी टिहरी जिले के चंबा थाने में तैनात है। 27 अप्रैल को सिपाही की बारात तहसील चकराता के रंगेऊ गांव गई थी। लौटते समय दूल्हा दुल्हन समेत बारात गांव में स्थित मंदिर में नाग देवता, शिलगुर और महासु देवता के दर्शन करने पहुंची।

दैनिक भास्कर

छुआछूत का खेल, दलित सरपंच को खाना खाते हुए बीच पंगत से उठाया

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-UDA-OMC-being-raised-in-the-dalit-community-meal-5312103-NOR.html

कुंभलगढ़।मजेरा में चल रहे देव भैरू जी मंदिर प्रतिष्ठा महोत्सव कार्यक्रम में भोजन करने पंगत में बैठे सरपंच, सहायक सचिव, डाककर्मी सहित एक अन्य दलित को एक व्यक्ति ने अपमानित कर उठा दिया। इस संबंध में सरपंच ने एससीएसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज करवाया है।

दलित होने के कारण उठा दिया पंगत से

जानकारी के अनुसार मजेरा में पिछले तीन दिनों से चल रही देव भैरू जी मंदिर आयोजन समिति ने कार्यक्रम में मजेरा सरपंच रामेश्वर लाल मेघवाल को अतिथि के रूप में आमंत्रित किया। रामेश्वरलाल गुरुवार दोपहर दो बजे अपने साथी सहायक सचिव रामलाल मेघवाल, डाककर्मी करमचंद मेघवाल व जगदीश मेघवाल के साथ भोजन करने के लिए पहुंचे। मुख्य पांडाल में भोजन की पंगत में बैठे ही थे कि सामने की पंगत में बैठे भंवर सिंह ने उनको ठोक दिया। चारों को दलित होने के कारण पंगत से उठा दिया। शुक्रवार को सरपंच रामेश्वरलाल ने भंवरलाल के खिलाफ एससीएसटी का मामला दर्ज कराया। इसकी जांच केलवाड़ा डीएसपी चंदन सिंह कर रहे है। घटना को लेकर कुंभलगढ़ मेघवाल युवा मंडल ने आक्रोश जताया। मंडल अध्यक्ष किशन मेघवाल ने प्रशासन से आरोपी के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की।

मामले की जानकारी मिली है। रिपोर्ट मिलने के बाद एफआईआर दर्ज कर ली है। जांच के बाद आरोपी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

डॉ. विष्णुकांत, एसपी, राजसमंद

अमर उजाला

बेलरायां रेलवे स्टेशन से  दलित किशोरी अगवा

http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/lakhimpur-kheri/crime/belrayan-railway-station-dalit-girl-abducted

बेलरायां रेलवे स्टेशन से 

दलित किशोरी अगवा 

जीआरपी ने मुकदमा दर्ज कर तलाश शुरू की 

बेलरायां रेलवे स्टेशन से दलित किशोरी को अगवा करने का मामला सामने आया है। किशोरी के पिता ने गैर बिरादरी के एक शादीशुदा युवक के खिलाफ तहरीर दी है। जिस पर जीआरपी ने अपहरण की रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पिता के मुताबिक किशोरी अपनी मां के साथ ट्रेन से शुक्रवार की शाम करीब चार बजे अपनी मौसी के घर पूरनपुर से वापस बेलरायां स्थित अपने घर लौट रही थी। आरोप है कि बेलरायां रेलवे स्टेशन पर गैर बिरादरी के एक शादीशुदा युवक ने उसका अपहरण कर लिया। किशोरी के साथ रही मां ने इसकी शिकायत बेलरायां पुलिस से की, लेकिन पुलिस ने उसकी नहीं सुनी। लड़की की तलाश के लिए उसकी मां तिकुनियां पुलिस के पास भी गई। फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस मामले की जानकारी होने के बाद एसओ जीआरपी राघवेंद्र बहादुर सिंह ने सिपाहियों के साथ बेलरायां रेलवे स्टेशन का निरीक्षण भी किया। एसओ ने बताया कि अपहृत लड़की की मां कई महिलाओं के साथ जीआरपी थाने पहुंच कर उनसे मिली हैं। इस मामले में किशोरी के अपहरण होने की रिपोर्ट दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। इधर परिवारीजनों ने बताया कि दो दिन बीत जाने के बावजूद अभी तक किशोरी का सुराग नहीं मिला है। आरोपी भी फरार बताया जा रहा है।

नई दुनिया

सहारनपुर में ठाकुर-दलित समुदाय के बीच संघर्ष

http://naidunia.jagran.com/national-clash-between-thakur-and-backward-classes-in-saharanpur-of-uttar-pradesh-731233

सहारनपुर। उप्र के सहारनपुर जिले में बीते सप्ताह दलित-ठाकुर संघर्ष में दलित युवक की हत्या के गम से लोग उबरे भी नहीं थे कि शुक्रवार देर शाम गांव घड़कोली में अंबेडकर की प्रतिमा पर कालिख पोतने को लेकर दलित और ठाकुरों के बीच बवाल हो गया।

जमकर हुए पथराव व फायरिग में थानाध्यक्ष समेत पांच पुलिसकर्मी और आधा दर्जन दलित घायल हो गए। दलित पक्ष के लोगों ने देहरादून-रुड़की हाईवे पर जाम लगा दिया।

गांव घड़कोली निवासी ब्रजपाल सिह, प्रीतम, ध्यान सिह व धर्मवीर सिह के मुताबिक, उन्होंने अपनी निजी संपत्ति पर साइनबोर्ड लगा रखा है। इसके विरोध में ठाकुरों ने थाने में तहरीर दी थी। पुलिस ने दोनों पक्षों में समझौता कराते हुए साइन बोर्ड पर पेंट करवा दिया था।

इसके कुछ देर बाद डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर कालिख पोत दी गई। इस पर दोनों पक्षों में संघर्ष हो गया। दलितों का आरोप है कि ठाकुरों में एक व्यक्ति पुलिस तो दूसरा सेना में है। दोनों ने पांच राउंड फायरिग भी की।

दोनों ओर से जमकर पथराव हुआ, जिसमें दलित पक्ष की महिलाओं समेत आधा दर्जन ग्रामीण घायल हो गए। सीओ आनंद पाण्डेय व एसडीएम सदर कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंची और लाठियां फटकार भीड़ को खदेड़ा। इस दौरान पुलिस पर भी पथराव हुआ।

उसमें एसओ फतेहपुर बृजेश कुशवाहा समेत छह पुलिस कर्मी घायल हो गए। इसी बीच दलितों ने ज्योतिबाफूले चौक पर जाम लगा दिया। नारेबाजी करते हुए हमलावर व बाबा साहब की प्रतिमा पर कालिख पोतने के आरोपियों पर कार्रवाई की मांग की।

अमर उजाला

दलितों के 15 मकान ढहाने में तीन गिरफ्तार

http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/bulandshahr/crime/demolition-of-15-houses-of-dalits-three-arrested

बराल गांव में दलितों के 15 मकान तोड़े जाने के मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही शुक्रवार को एसडीएम और सीओ के मौका-मुआयना के बाद राजस्व टीम ने विवादित जमीन की पैमाइश की। फिलवक्त गांव में तनाव है और एहतियातन फोर्स तैनात कर दी गई है।

ग्राम बराल में करीब एक दर्जन लोगों ने बृहस्पतिवार को दलितों के 15 मकान तोड़ डाले थे। उक्त घटना के बाद दो पक्षों में तनाव पैदा हो गया था।  शुक्रवार को पुलिस ने तीन लोगों को मकान तोड़ने के आरोप में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार लोगों में शाईन, अल्ताफ एवं अशफाक निवासी बराल शामिल हैं।

दलित महिला लक्ष्मी पत्नी मदनपाल आदि ने चार लोगों को नामजद करते हुए करीब एक दर्जन लोगों के खिलाफ उनके साथ मारपीट, गाली गलौज, तोड़फोड़, जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करने का आरोप लगाते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई है।

पीड़ितों लक्ष्मी, पूनम, गजेंद्र, सन्नी सिंह, प्रकाश, सुभाष, संजय, गौतम, महेंद्र, धर्मपाल, हरेंद्र, बिट्टू, विशंबर ने मांग की है कि सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए तथा उनके गिराए गए मकानों का पुन: निर्माण कराया जाए।

शुक्रवार को तहसीलदार अशोक कुमार, राजस्व निरीक्षक महावीर सिंह, लेखपाल गंगालाल, राजेंद्र भारती, भानवीर सिंह आदि के साथ घटनास्थल पर पहुंचे तो दोनों पक्षों के लोग जमा थे। पुलिस बल की मौजूदगी में विवादित जमीन की नपाई कराई गई।

बराल चौकी इंचार्ज रामकुमार यादव ने बताया कि जिन लोगों के मकान गिराए गए हैं, उनका कहना है कि उन्होंने पूर्व ग्राम प्रधान से पट्टे पर मिली जमीन पर मकान बनाए थे। राजस्व विभाग की टीम एसडीएम को अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।

पंजाब केसरी

बहुचर्चित अॉर्बिट बस कांडः एक वर्ष हुअा मां की कोख उजड़े,फिर भी न चेती सरकार

http://punjab.punjabkesari.in/moga/news/moga-case-god-will-punish-accused-want-only-a-govt-job-now-say-victim’s-parents-467566

लंडेके/मोगा (ग्रोवर): पंजाब की मौजूदा अकाली-भाजपा सरकार के लिए गले की हड्डी बना रहा बहुचर्चित अॉर्बिट बस कांड के एक वर्ष पूरा होने के बावजूद भी अभी तक इस हादसे में मृतक नन्ही अर्शदीप का परिवार सरकारी नौकरी की प्रतीक्षा कर रहा है। 29 अप्रैल, 2015 की मनहूस शाम लंडेके गांव के दलित वर्ग से संबंधित सुखदेव

सिंह पर कहर बन कर टूट पड़ी थी, जब उनकी लाडली बेटी अॉर्बिट  बस में हादसे का शिकार होकर इस दुनिया से रुख्सत हो गई थी। यह मामला मीडिया में आने के बाद पंजाब में सरकार विरोधी पार्टियों ने इसे मुख्य मुद्दे के तहत उभार लिया था। एक वर्ष पहले मोगा शहर दुनिया भर की मीडिया में सुर्खियों में रहा।

आज जब ‘पंजाब केसरी’  टीम ने  अर्शदीप के गांव लंडेके का दौरा किया तो अपनी बेटी की बरसी से अंजान अर्शदीप का पिता अपने 18 वर्ष पुराने घर को पुन: बनाने के लिए मिट्टी के भट्ठ उठा कर भर्त डालने का काम कर रहा था तथा अर्शदीप की मां छिंदर कौर रोजाना की तरह अपने घर के कामकाज में लगी हुई थीं। पत्रकारों के पहुंचने पर जब उनको इस बात का पता चला कि उनकी बेटी को इस संसार से गए एक वर्ष पूरा हो गया है तो छिंदर कौर व उसका पति सुखदेव सिंह रो पड़े और उन्होंने अपनी बेटी की तस्वीर पर हार डाल कर उसकी आत्मिक शांति के लिए अरदास की।

दुखी मन से बातचीत करते हुए मरहूम अर्शदीप के पिता सुखदेव सिंह ने बताया कि चाहे उनकी बेटी इस संसार से सदा के लिए चली गई है, लेकिन आज उनको अपने बेटे आकाशदीप में अपनी बेटी अर्शदीप की झलक मिलती है। सुखदेव ने बताया कि बस कांड के मामले में उनके परिवार को सहायता के तहत मिले 24 लाख रुपए उन्होंने संभाल कर रखे हुए हैं, जिनमें से 10 लाख रुपए खुद सुखदेव के नाम, 10 लाख रुपए उसकी पत्नी छिंदर कौर, जबकि 4 लाख रुपए उनके बेटे आकाशदीप के नाम पर बैंक में जमा करवाए हुए हैं।

सुखदेव ने कहा कि सरकार ने उनके परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने, गांव लंडेके के स्कूल को बारहवीं तक अपग्रेड करने, स्कूल का नाम अर्शदीप के नाम पर रखने के अलावा बेटे आकाशदीप की पढ़ाई का खर्चा देने के वायदे अभी तक पूरे नहीं किए। उन्होंने कहा कि एक वर्ष पहले जब उनकी बेटी का शव सिविल अस्पताल मोगा में पड़ा था तब विभिन्न राजनीतिक पाॢटयों ने उनकी बेटी के शव पर राजनीतिक रोटियां सेंकीं तथा अपने-अपने घर को चलते बने, लेकिन उक्त दिन बीत जाने के बावजूद अभी तक किसी भी राजनीतिक पार्टी के नेता ने उनके परिवार की सुध नहीं ली।

क्या कहना गण्यमान्यों का

इस मामले संबंधी जब पूर्व मंत्री व पंजाब महिला कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष डा. मालती थापर से बात की तो उन्होंने कहा कि पंजाब में सत्ता पर काबिज अकाली-भाजपा सरकार ने पैसों के जोर पर जहां इस मामले में गवाहों को खरीद लिया, वहीं अॉर्बिट बस के मालिक बादल परिवार ने अपने आपको भी इस घिनौने अपराध से बचा लिया। उन्होंने कहा कि पंजाब में गुंडा राज चल रहा है तथा बहू-बेटियों की इज्जत महफूज नहीं है।

विधानसभा हलके के विधायक जोगिंद्र पाल जैन से बात की तो उन्होंने कहा कि जब परिवार से समझौता हुआ तो तब वह बीच में नहीं थे। परिवार या गांव से संबंधित जो मांगें मानी गई हैं उनको पूरा करवाने के लिए वह मुख्यमंत्री तथा उप-मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल से बात करेंगे। सीनियर कांग्रेसी नेता व पूर्व वित्त मंत्री पंजाब मनप्रीत सिंह बादल से बात की तो उन्होंने कहा कि समय के हालात बहुत कुछ करवा देते हैं तथा लोगों की मजबूरियों से खेलना सत्ता पर काबिज बादल परिवार की फितरत है।

परिवार व गांव की मांगें होंगी पूरी : डिप्टी कमिश्नर 

अॉर्बिट बस कांड में मरने वाली मरहूम अर्शदीप के नाम पर गांव लंडेके के स्कूल को अपग्रेड करने व स्कूल का नाम अर्शदीप के नाम पर रखने के अलावा अर्शदीप के पारिवारिक सदस्य को सरकारी नौकरी देने के वायदे पूरे न होने संबंधी जब डिप्टी कमिश्नर मोगा कुलदीप सिंह वैद्य से बात की तो उन्होंने कहा कि इस मामले की पूरी फाइल  उनसे मंगवा ली गई है तथा वह बहुत जल्द इस मामले को उच्चाधिकारियों व पंजाब सरकार तक ले जाएंगे।

प्रदेश 18

बारात झगड़ाः दलित समाज ने भरतपुर कलेक्ट्रेट पर किया प्रदर्शन

http://hindi.pradesh18.com/news/rajasthan/bharatpur/dalit-society-protests-outside-the-bharatpur-collectorate-1408620.html

भरतपुर जिले में पिछले दिनों दलित समाज की बरातों में झगड़े की घटनाओं के विरोध में शुक्रवार को जिला जाटव महासभा समिति द्वारा कलेक्ट्रेट के सामने धरना देकर प्रदर्शन किया और राज्यपाल के नाम से ज्ञापन दिया.

समिति के जिला अध्यक्ष राजकुमार पप्पा का कहना था कि पिछले 15 दिनों में दलितों की बारात में दूल्हों को घोड़ी से उतार कर पीटा गया और कई जगह बारात को भी पीटा गया.

प्रशासन द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई उल्टा इन्द्रा कॉलोनी में हुई घटना में दलित समाज के लोंगो को बन्द कर दिया और दूसरे समाज के लोंगो को कुछ नहीं कहा गया. ये सरासर दलितों के साथ अत्याचार हो रहा है और प्रशासन मूक बनकर देख रहा है.

दलित समाज अब चुप नहीं बैठेगा अगर प्रशासन द्वारा दलितों पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो दलित समाज आंदोलन करेगा.

जिला जाटव महासभा समिति द्वारा जिला कलेक्टर को राजयपाल के नाम ज्ञापन देकर शीघ्र कार्रवाई करने की मांग की. इस अवसर पर राजकुमार पप्पा, मोती सिंह नगर निगम के पार्षद, किशनपाल पार्षद, उमाशंकर पार्षद राजेन्द्र सिंह सोना आदि नेता मौजूद रहे.

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s