दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 12.04.16

 

ट्यूबवेल पर दलित युवक का शव पाए जाने से सनसनी अमर उजाला

http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/kaushambi/crime/murder-case-in-sani-area

नाबालिग को बंधक बनाया और तीन दिन तक हुआ रेप, पंचायत ने परिवार से कहा- वापस लो केस – जनसत्ता

http://www.jansatta.com/national/meerut-minor-dalit-girl-raped-for-3-days-panchayat-says-withdraw-case/85123/

भय में जी रहे सीहोर के दलित नया इंडिया

http://www.nayaindia.com/latest-news-in-hindi/sihor-dalit-thrashing-519307.html

दलित बालिका और युवक की हत्या की जांच सीबीआई से करवाने की मांग दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news-ht/RAJ-JOD-HMU-MAT-latest-jodhpur-news-035626-3986700-NOR.html

दलित युवक की बरामदगी की मांग को लेकर डीएसपी से मिले दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-charkhi-dadri-news-021003-3985198-NOR.html

भेदभाव मिटने तक समता के प्रयास जारी रखे जाएंगे दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-mandsour-news-030023-3987256-NOR.html

अनुसूचित जाति के आरक्षण को बचाने के लिए चलेगा जनजागरण अभियान: डेनवाल दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-OTH-MAT-latest-jhalawar-news-034438-3985550-NOR.html

अद्वितीय प्रतिभा के धनी डॉ. भीमराव आम्बेडकर वेब दुनिया

http://hindi.webdunia.com/inspiring-personality/dr-bheem-rav-ambedkar-116041100072_1.html

 

अमर उजाला

ट्यूबवेल पर दलित युवक का शव पाए जाने से सनसनी

http://www.amarujala.com/uttar-pradesh/kaushambi/crime/murder-case-in-sani-area

सोमवार की शाम सैनी क्षेत्र के भैरावां  स्थिति एक ट्यूबेल पर सोमवार की शाम एक दलित युवक का शव पाए जाने की खबर है। परिजनों का आरोप है कि हत्यारों ने सुनसान जंगल में वारदात को अंजाम देने के बाद शव को रस्सी से बांध कर लटका दिया था। सूचना पर पहुंची सैनी पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेज  दिया है।

murder case in sani area

सैनी क्षेत्र के भैरांवा निवासी नरेंद्र कुमार पुत्र ननका पासी परिवार के भरण-पोषण के लिए संतोष पंडित के ट्यूबेल की रखवाली किया करता था। ताजे घटनाक्रम में बताते हैं कि आज 8 बजे पत्नी सुनीता देवी अपने पति को खाना देने के लिए गई तो उसके पैरो तेले जमीन खिसक गई। सुनीता का कहना है कि उसके पति का शव ट्यूबेल के सामने पड़ी कुरिया में लगी धन्नी से लटक रहा था। पति के  शव को फांसी के फंदे से लटकता देख सुनीता उल्ले पांव गांव लौट परिजनोे को घटना की सूचना दी तो हडकंप मच गया। परिजनों के साथ ग्रामीण भागकर मौके पर पहुंचे। प्रत्यक्षदर्शियोे का कहना है कि देखने से ऐसा लग रहा था। जैसे हत्यारे सातिर दिगाम के थे। उन्होंने घटना का मोटिव बदलने के लिए शव को जानबूझ कर लटकता  दिया था। सूचना पर सैनी कोतवाल दिनेश सिंह और अजुहा चौकी प्रभारी संजय गुप्ता मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पीएम के लिए भिजवा दिया है। चौकी प्रभारी का कहना है कि शव पीएम के लिए भेजा जा रहा है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद मौत की गूत्थी सुलझ सकेगी। पुलिस का कहना है कि घटना का शीघ्र ही खुलासा हो जाएगा। परिजन घटना को लेकर कुछ भी नहीं बता पा रहे हैं।

जनसत्ता

नाबालिग को बंधक बनाया और तीन दिन तक हुआ रेप, पंचायत ने परिवार से कहा- वापस लो केस

http://www.jansatta.com/national/meerut-minor-dalit-girl-raped-for-3-days-panchayat-says-withdraw-case/85123/

मेरठ के दरौला थानांतर्गत नंगला मंदौर गांव में एक 15 साल की लड़की के साथ रेप के मामले में पंचायत ने पीडि़त परिवार से केस वापस लेने को कहा है। पंचायत ने कहा कि या तो केस वापस लो या फिर उनकी जान जोखिम में होगी। परिवार को गांव छोड़ने का आदेश भी दिया गया है। हालांकि पंचायत के दौरान परिवार का कोई भी सदस्‍य मौजूद नहीं था लेकिन उन्‍ह‍ें मैसेज भेज दिया गया। बता दें कि पीडि़ता को बंधक बनाकर रखा गया और तीन दिन तक उससे कई लोगों ने रेप किया। जानकारी के अनुसार बॉबी, आदेश और उनके दो दोस्‍तों ने 8 अप्रैल को लड़की को अगवा कर लिया। इसके बाद उसके खेत में बंधक बनाकर रखा। वहां पर उससे तीन दिन तक रेप किया गया।

आरोपियों ने लड़की को उपलों के नीचे छोड़ दिया। उन्‍होंने उसे उपलों में आग लगाकर मारने का प्‍लान बनाया था। लेकिन गांव के कुछ लोग वहां पहुंच गए और उन्‍होंने उसे बचा लिया। पुलिस ने बॉबी और आदेश को गिरफ्तार कर लिया है। उन्‍हें रविवार को जेल भेज दिया गया। दरौला थाने के इंचार्ज परशुराम यादव ने बताया,’दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। बाकी बचे आरोपियों की तलाश में छापे मारे जा रहे हैं।’ लड़की का पिता मजूदरी करता है और परिवार काफी गरीब है। इसलिए उन पर दबाव बनाया जा रहा है। यह आरोप भी लगाया जा रहा है कि समाजवादी पार्टी का नेता भी आरोपी को बचा रहा है। इसी बीच बहुजन समाज पार्टी के जिला अध्‍यक्ष अश्विनी जाटव भी परिवार से मिले और मदद का आश्वासन दिया।

नया इंडिया

भय में जी रहे सीहोर के दलित

http://www.nayaindia.com/latest-news-in-hindi/sihor-dalit-thrashing-519307.html

भोपाल।संवाद सूत्र : सीहोर जिले के इछावर थाना क्षेत्र में स्थित दुदलाई गांव में रहने वाले दलित भय और आतंक की स्थिति में जी रहे हैं। 3 अप्रैल को अशोक नाम के 13 साल के अनुसूचित जाति के बच्चे की पिटाई की खबर है क्योंकि उसने एक ऊंची जाति के किसान के ट्यूबवेल से पानी पिया।

भागीरथ नाम के जाट ने उसे इतना मारा कि उसके एक हाथ की हड्डी टूट गई। बाद में गांव के ऊंची जाति के लोग इतने नाराज़ हो गए कि पीड़ित बच्चे के परिवार की ओर से घटना की रिपोर्ट थाने में दर्ज की गई। रिपोर्ट लिखने के बाद डोंडीपिटवा कर उच्च जाति के लोगों ने अनुसूचित जाति के लोगों के बहिष्कार की घोषणा दी।

यह बात गांव के अनुसूचित जाति के लोगों ने बताई है। घटना की खबर लगते ही भोपाल से एक जांच दल दुदलाई गया। जांच टीम में राष्ट्रीय सेक्युलर मंच के एलएस हरदेनिया, डा. अंबेडकर सामाजिक न्याय केंद्र की अनिता मालवीय, एक्शन एड की सारिका सिन्हा और स्वाति शामिल थे। यह दल पीड़ित परिवार से मिलने गया। दल के सदस्यों ने पाया कि अशोक के हाथ में प्लास्टर लगा हुआ है।

बच्चे ने बताया कि वह अपनी भाभी के साथ पशुओं को चरा रहा था। उसी दौरान उसे प्यास लगी। पास में एक ट्यूबवेल से पानी निकल रहा था वहां उसने पानी पिया। बच्चा और उसकी भाभी पानी पी ही रहे थे कि खेत मालिक भागीरथ जाट वहां आ गया और हमारे साथ गालीगलौच करने लगा। उसने पहले भाभी को लाठी से मारना चाहा। भाभी ने उसका चिल्लाकर विरोध किया।

इसके बाद उसने बच्चे की पिटाई शुरू कर दी। पिटाई से वह बेहोश हो गया। किसी ढंग से दोनों घर पहुंचे। बाद में पता लगा कि उसके एक हाथ की हड्डी टूट गई है। अशोक के पिता बाबूलाल जांगड़ा ने बताया कि दूसरे दिन इछावर रिपोर्ट लिखवाने गए, पर थानेदार ने उनकी रिपोर्ट नहीं लिखी, न ही कोई कार्यवाही की। उसके दो-तीन दिन बाद घटना की खबर अखबारों में छपी। उसके बाद पुलिस प्रशासन ने कार्यवाही की।

दैनिक भास्कर

दलित बालिका और युवक की हत्या की जांच सीबीआई से करवाने की मांग

http://www.bhaskar.com/news-ht/RAJ-JOD-HMU-MAT-latest-jodhpur-news-035626-3986700-NOR.html

कांग्रेसने बीकानेर के नोखा में नाबालिग दलित बालिका की हत्या की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पुलिस इस घटना की लीपापोती में लगी है। इस संबंध में पार्टी ने सोमवार को प्रदेश के गृहमंत्री के नाम एक ज्ञापन जिला कलेक्टर को सौंपा।

संभागीय प्रवक्ता डाॅ. अजय त्रिवेदी के अनुसार प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के निर्देशानुसार कांग्रेस का एक प्रतिनिधि मंडल सोमवार को अध्यक्ष सईद अंसारी के नेतृत्व में कलेक्टर से मिला और गृहमंत्री के नाम ज्ञापन देकर सीबीआई से जांच करवाने की मांग की। साथ ही जोधपुर के बोरानाडा में दलित अनिल मेघवाल की हत्या पर भी कड़ी कार्रवाई की मांग की। प्रतिनिधि मंडल में पूर्व विधायक जुगल काबरा, राजेंद्र सोलंकी, सोमदत्त हर्ष, लियाकत अली रंगरेज, मनीषा पंवार, पुखराज पेंटर, राजेश रामदेव, अहमद मेहर, राजेश गुर्जर, ओपी भाटी, करणसिंह राजपुरोहित, रामअवतार खर्रा, चंद्रप्रकाश आसेरी, सलीम खान, धनपत गुर्जर दानिश फौजदार सहित कई कांग्रेसी शामिल थे।

सईद अंसारी के नेतृत्व में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा।

दैनिक भास्कर

दलित युवक की बरामदगी की मांग को लेकर डीएसपी से मिले

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-charkhi-dadri-news-021003-3985198-NOR.html

दलितयुवक को जल्द बरामद करें दोषीगण के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए। यह बात अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग परिसंघ के सदस्य लक्ष्मी सैन सुरेन्द्र दिसोदिया ने सोमवार को प्रेस को जारी बयान में कही। उन्होंने इस दौरान उप-पुलिस अधीक्षक को एक ज्ञापन भी सौंपा।

उन्होंने बताया कि गांव पैंतावास कलां निवासी अक्षय कुमार को उसके ही गांव का बलजीत जो मुर्गा फार्म की गाड़ी चलाता है। उसने 31 मार्च को अपने साथ यह कहकर ले गया कि एक चक्कर इंद्री का लगाकर आना है। उसके बाद 2 अप्रैल को अक्षय के भाई सुरेंद्र के पास रात डेढ़ बजे फोन आया कि आपके भाई को घरौंडा टोल टैक्स पर उतार दिया है। सुरेंद्र ने कहा कि आप इसको साथ लेकर गए है घर पर ही लेकर आना। ट्रक ड्राइवर 3 अप्रैल को अपने घर गया, लेकिन दलित युवक अक्षय आज तक घर नहीं आया है। परिसंघ के सदस्यों ने प्रार्थना पत्र देते हुए कहा कि युवक को जल्द से जल्द बरामद किया जाए वे तथा दोषीगण के खिलाफ एससी/एसटी एक्ट के तहत मुकद्दमा दर्ज करके कानूनी कार्रवाई की जाए।

उप-पुलिस अधीक्षक ने परिसंघ सदस्यों पीडि़त परिवार को आश्वासन दिया है कि मैं स्वयं इस मामले की छानबीन सीआईए को साथ लेकर करूंगा। प्रार्थना पत्र देने वालों में पीड़िता मुकेश देवी, फूलपति, संतरा, सोहना देवी, सावित्री, पूनम, सुधीर, स्वरूप नंबरदार, गोकल चंद सोनी, दिलबाग सांगवान, एडवोकेट रामकिशन, विपिन, हवासिंह, हेमंत, वेदप्रकाश, शशीकांत, बिजेंद्र, भीम सिंह सहित सैकड़ों ग्रामीण मौजूद थे।

दलित युवक को बरामद करने के लिए उप अधीक्षक को ज्ञापन देने जाते अनुसूचित एवं पिछड़ा वर्ग परिसंघ सदस्य।

दैनिक भास्कर

भेदभाव मिटने तक समता के प्रयास जारी रखे जाएंगे

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-mandsour-news-030023-3987256-NOR.html

देश की आजादी का ध्येेय केवल सत्ता हस्तांतरण नहीं था बल्कि सभी प्रकार के भेदभाव और अन्याय, अत्याचार को समाप्त करना था। आजादी के बाद कांग्रेस ने इस दिशा में कारगर उपाय किए। भेदभाव मिटने तक समता के प्रयास जारी रखेंगे। लोकतंत्र की मजबूती के लिए यह जरूरी है।

यह बात पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन ने कही। वे विकासखंड के मोरखेड़ा, शिवगढ़, कम्माखेड़ी, खोती, सूर्याखेड़ी, पतलासीखेड़ा, डाबड़ी, सेमलखेड़ा, दलावदा में 15 अप्रैल को सीतामऊ में सामाजिक न्याय सम्मेलन के संबंध में सभाओं में बोल रही थीं। उन्होंने कहा डॉ. आंबेडकर ने केवल दलित वर्ग ही नहीं बल्कि मानव अधिकारों, महिलाओं को समान स्थिति दिलाने के प्रयास किए। कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रकाश रातड़िया ने कहा अनेकता में एकता के भाव को अपनाकर ही देश को एक रखा जा सकता है। विषमता को समाप्त करने की जरूरत है। विधायक हरदीपसिंह डंग ने कहा योजनाओं के पात्रों, किसानों को अधिकार दिलाने के लिए संघर्ष तेज करेंगे। सभाओं में हरिजन सेवक संघ जिलाध्यक्ष जंगीबाबू तंवर, ओमसिंह भाटी, गिरीश वर्मा, फकीरचंद गुर्जर, सोमिल नाहटा, रामसिंह मंडलोई, सुमित रावत समेत पदाधिकारी, सदस्य मौजूद थे। संचालन ब्लाॅक अध्यक्ष भंवरलाल रांका ने किया।

दौरा आज इन गांवों में 

पूर्व सांसद नटराजन 12 अप्रैल को मंदसौर विधानसभा के गांवों के दौरे पर रहेंगी। वे सुबह 9 बजे सिंदपन से शुरुआत करेंगी। इसके बाद साबाखेड़ा, अलावदाखेड़ी, छाजूखेड़ा, राजाखेड़ी, रीछाबच्चा, निरधारी, टोलखेड़ी, मजेसरी, हरचदी गांवों में किसानों से मिलेंगी। इस दौरान जिलाध्यक्ष रातड़िया, उपाध्यक्ष महेंद्रसिंह गुर्जर समेत पदाधिकारी साथ रहेंगे।

दैनिक भास्कर

अनुसूचित जाति के आरक्षण को बचाने के लिए चलेगा जनजागरण अभियान: डेनवाल

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-OTH-MAT-latest-jhalawar-news-034438-3985550-NOR.html

अखिलअनुसूचित जाति समन्वय परिषद के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष गोपाल डेनवाल ने कहा कि धीरे धीरे अनुसूचित जाति का आरक्षण घटाया जा रहा है। इसको बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

डेनवाल सोमवार काे झालावाड़ के दौरे पर थे इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में यह बात कही। आरक्षण की पुन बहाली की मांग की जा रही है। इसी को लेकर अखिल अनुसूचित जाति समन्वय परिषद की आेर से प्रत्येक संभाग स्तर पर जनजागरण चला रहे हैं और समाज के लोगों को जागरूक करने का काम किया जा रहा है। इसके बाद न्याय यात्रा निकाली जाएगी जिसमें जयपुर तक कूच करेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार एससी वर्ग के साथ आरक्षण को घटाकर अन्याय कर रही है।

उन्होंने कहा कि अम्बेडकर सेना और मेघव सेना को मजबूत किया जा रहा है। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां एससी वर्ग को वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल कर रही हैं। उन्होंने कहा कि दलित वर्ग के साथ अन्याय और अत्याचार हो रहे हैं। घोड़ी से उतारने, मारपीट जैसी घटनाएं हो रही हैं। इन मारपीट और अत्याचार करने वालों पर कार्यवाही भी नहीं हो पा रही है। उनके साथ लालचंद मेघवाल, फूलचंद, बीरमचंद, प्रहलाद, घनश्याम, शंकरलाल सहित अन्य मौजूद थे।

वेब दुनिया

अद्वितीय प्रतिभा के धनी डॉ. भीमराव आम्बेडकर

http://hindi.webdunia.com/inspiring-personality/dr-bheem-rav-ambedkar-116041100072_1.html

14 अप्रैल 1891 को महू में सूबेदार रामजी शकपाल एवं भीमाबाई की चौदहवीं संतान के रूप में डॉ. भीमराव आम्बेडकर का जन्म हुआ। उनके व्यक्तित्व में स्मरण शक्ति की प्रखरता, बुद्धिमत्ता, ईमानदारी, सच्चाई, नियमितता, दृढ़ता, प्रचंड संग्रामी स्वभाव का मणिकांचन मेल था। संयोगवश भीमराव सातारा गांव के एक ब्राह्मण शिक्षक को बेहद पसंद आया। वे अत्याचार और लांछन की तेज धूप में टुकड़ा भर बादल की तरह भीम के लिए मां के आंचल की छांव बन गए।

वे अनन्य कोटि के नेता थे, जिन्होंने अपना समस्त जीवन समग्र भारत की कल्याण कामना में उत्सर्ग कर दिया। खासकर भारत के 80 फीसदी दलित सामाजिक व आर्थिक तौर से अभिशप्त थे, उन्हें अभिशाप से मुक्ति दिलाना ही डॉ. आम्बेडकर का जीवन संकल्प था।

बाबा साहब ने कहा- वर्गहीन समाज गढ़ने से पहले समाज को जातिविहीन करना होगा। समाजवाद के बिना दलित-मेहनती इंसानों की आर्थिक मुक्ति संभव नहीं। डॉ. आम्बेडकर की रणभेरी गूंज उठी, ‘समाज को श्रेणीविहीन और वर्णविहीन करना होगा क्योंकि श्रेणी ने इंसान को दरिद्र और वर्ण ने इंसान को दलित बना दिया। जिनके पास कुछ भी नहीं है, वे लोग दरिद्र माने गए और जो लोग कुछ भी नहीं है वे दलित समझे जाते थे।’

बाबा साहेब ने संघर्ष का बिगुल बजाकर आह्वान किया, ‘छीने हुए अधिकार भीख में नहीं मिलते, अधिकार वसूल करना होता है।’ उन्होंने ने कहा है, ‘हिन्दुत्व की गौरव वृद्धि में वशिष्ठ जैसे ब्राह्मण, राम जैसे क्षत्रिय, हर्ष की तरह वैश्य और तुकाराम जैसे शूद्र लोगों ने अपनी साधना का प्रतिफल जोड़ा है। उनका हिन्दुत्व दीवारों में घिरा हुआ नहीं है, बल्कि ग्रहिष्णु, सहिष्णु व चलिष्णु है।’

बड़ौदा के महाराजा सयाजीराव गायकवाड़ ने भीमराव आम्बेडकर को मेधावी छात्र के नाते छात्रवृत्ति देकर 1913 में विदेश में उच्च शिक्षा के लिए भेज दिया। अमेरिका में कोलंबिया विश्वविद्यालय में राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, मानव विज्ञान, दर्शन और अर्थ नीति का गहन अध्ययन बाबा साहेब ने किया। वहां पर भारतीय समाज का अभिशाप और जन्मसूत्र से प्राप्त अस्पृश्यता की कालिख नहीं थी। इसलिए उन्होंने अमेरिका में एक नईदुनिया के दर्शन किए। डॉ. आम्बेडकर ने अमेरिका में एक सेमिनार में ‘भारतीय जाति विभाजन’ पर अपना मशहूर शोध-पत्र पढ़ा, जिसमें उनके व्यक्तित्व की सर्वत्र प्रशंसा हुई।

डॉ. आम्बेडकर के अलावा भारतीय संविधान की रचना हेतु कोई अन्य विशेषज्ञ भारत में नहीं था। अतः सर्वसम्मति से डॉ. आम्बेडकर को संविधान सभा की प्रारूपण समिति का अध्यक्ष चुना गया। 26 नवंबर 1949 को डॉ. आम्बेडकर द्वारा रचित (315 अनुच्छेद का) संविधान पारित किया गया।

डॉ. आम्बेडकर का लक्ष्य था- ‘सामाजिक असमानता दूर करके दलितों के मानवाधिकार की प्रतिष्ठा करना।’ डॉ. आम्बेडकर ने गहन-गंभीर आवाज में सावधान किया था, ’26 जनवरी 1950 को हम परस्पर विरोधी जीवन में प्रवेश कर रहे हैं। हमारे राजनीतिक क्षेत्र में समानता रहेगी किंतु सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में असमानता रहेगी। जल्द से जल्द हमें इस परस्पर विरोधता को दूर करना होगी। वर्ना जो असमानता के शिकार होंगे, वे इस राजनीतिक गणतंत्र के ढांचे को उड़ा देंगे।’ बाबा साहेब डॉ. आम्बेडकर एक मनीषी, योद्धा, नायक, विद्वान, दार्शनिक, वैज्ञानिक, समाजसेवी एवं धैर्यवान व्यक्तित्व के धनी थे। उनकी अद्वितीय प्रतिभा अनुकरणीय है।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s