दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 09.02.16

 

दुराचार के बाद पांच साल की बच्ची को मार डाला – लाइव हिन्दुस्तान

http://www.livehindustan.com/news/Barely/article1-five-year-old-girl-killed-516040.html

दलित विधवा का अश्लील विडियों बनाकर ढाई साल तक करता रहा दुष्कर्म – देश बंधू

http://www.deshbandhu.co.in/newsdetail/147286/2/174#.Vrlybm3Pouw

दौराला में चारा लेने गई दलित महिला की हत्या – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/meerut/meerut-crime-news/meerut-murder-news-hindi-news-35/

दलित किशोरी की गला रेतकर नृशंस हत्या – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/hathras/hathras-crime-news/murder-of-girl-hindi-news/

पूर्व महिला लेखा सहायक ने कराया मामला दर्ज – पत्रिका

http://www.patrika.com/news/ajmer/women-account-was-registered-against-former-assistant-1172141/

आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार करने की मांग – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-OTH-MAT-latest-taranagar-news-070112-3575592-NOR.html

जिले में भू-माफियाओं के खिलाफ खोला मोर्चा – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/mirzapur/front-opened-against-land-mafia-hindi-news/

भीख मांगने वाले बच्चों को मुख्यधारा से जोड़ने को अनु ने छोड़ी नौकरी – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-HIS-OMC-anu-left-her-job-5244210-PHO.html

 

लाइव हिन्दुस्तान

दुराचार के बाद पांच साल की बच्ची को मार डाला

http://www.livehindustan.com/news/Barely/article1-five-year-old-girl-killed-516040.html

साढ़े पांच साल की बच्ची से दुराचार के बाद अधेड़ ने हत्या कर दी। सूचना पर पहुंचे एसपी ने घटनास्थल का निरीक्षण किया। डाग स्क्वायड की मदद से पुलिस ने हत्यारे को ढूंढ निकाला। अधेड़ के खिलाफ हत्या और दलित उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज किया गया है।

यह सनसनीखेज वारदात थाना सेहरामऊ उत्तरी के ग्राम पिपरा मुंजप्ता में हुई। गांव की साढ़े पांच साल की बच्ची रविवार शाम करीब पांच बजे घर से खेलने के लिए बाहर निकली थी। देर शाम तक वह नहीं लौटी तो घरवालों ने उसकी तलाश शुरू की। उसका कोई पता नहीं चल सका। सुबह कुछ लोगों ने गांव में ही एक खाली पडे़ प्लाॠट में बच्ची का शव पड़ा देखा। सूचना सेहरामऊ पुलिस को दी गई, जिसपर सीओ और एसओ पहुंच गए।

सूचना पर एसपी अनिल कुमार सिंह भी डाॠग स्क्वायड के साथ पहुंच गए। रस्सी का फंदा डालकर बच्ची का गला घोंटा गया था। खोजी कुत्ता बच्ची के घर के पड़ोस में रहने वाले रामसेवक (50) के घर जाकर रुका। रामसेवक की चारपाई के नीचे जमीन पर खून पड़ा मिला। इस पर पुलिस ने रामसेवक को हिरासत में ले लिया। थानाध्यक्ष सीपी शुक्ला ने बताया दलित उत्पीड़न और हत्या की धारा में मुकदमा दर्ज कर रामसेवक से पूछताछ की जा रही है।

देश बंधू

दलित विधवा का अश्लील विडियों बनाकर ढाई साल तक करता रहा दुष्कर्म

http://www.deshbandhu.co.in/newsdetail/147286/2/174#.Vrlybm3Pouw

फरीदाबाद में दलित विधवा के साथ रेप के बाद विडियों बना कर उसे नेट पर डालने की धमकी देकर एक महिला से 8 लाख रुपए हड़पने और फर्जी तरीके से मकान को अपने  नाम कराने का मामला प्रकाश में आया है। महिला आरोपी के खिलाफ महिला थाने में एफआईआर दर्ज कराने के लिए पिछले एक महीने से थाने के चक्कर काट रही है लेकिन पुलिस ने अब तक महिला की शिकायत दर्ज नहीं की है। महिला ने मुख्यमंत्री से हाथ जोड़कर  न्याय दिलाने की अपील की है। वही महिला ने धमकी दी है की यदि उसे न्याय न मिला तो वह थाने में ही आत्मदाह कर लेगी। पीडि़ता की मानें तो वह पिछले एक महीने से महिला थाने में अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए चक्कर काट रही है। दरअसल में यह महिला दलित और विधवा है जो अपने पति के मरने के बाद फरीदाबाद में अपनी मं के पास रहने लगी एक दिन यह महिला अपनी मां के साथ बैंक में किसी काम से पहुची जहां बैंक ने उसे कुछ गारंटर को लाने के लिए कहा।

यह बात सुन पहले से बैंक में खड़े पलवल के हरपाल और फरीदाबाद के तीन नंबर के संदीप ने उसे बैंक में गारंटी देने की बात कही जहां से दोनों की जान पहचान हो गई गारंटी देने के बाद हरपाल और संदीप का महिला (रेखा ) बदला हुआ नाम, के घर आना जाना शुरू हो गया। एक बार फिर रेखा के भाई के झगड़े में दोनों ने उसके भाई की थाने में मदद कर दी जिससे रेखा का उनपर और जादा विश्वास हो गया। पीडि़त रेखा के अनुसार एक दिन हरपाल ने उसे उसी के घर पर अकेला पा कर चाय बनाने के लिए कहा और बाहर से बिस्कुट लेकर आने के लिए कहा जब रेखा बिस्कुट लेकर आई तब तक वह चाय में कुछ मिला चूका था। जब रेखा ने चाय पी तो उसे होश नहीं रहा और जब वह होश में आई तब उसके तन पर एक भी कपड़े नहीं थे। रेखा का आरोप है की हरपाल ने उसके साथ रेप किया और उसका वीडियों भी बना लिया और उसने कहा की किसी को बताया तो वह उसे बदमान कर देगा।  अपनी अस्मत लूटने के बाद रेखा ने समाज डर की वजह से किसी को कुछ नहीं बताया।

पीडिता की मानें तो आरोपी हरपाल की हवस वही खत्म नहीं हुई। हरपाल वीडियों का डर दिखा कर रेखा को लगातार ढाई साल तक अपनी हवस का शिकार बनाता रहा और बदमान करने की धमकी देकर रेखा से 8 लाख रूपए भी ऐंठ लिए। रेखा ने आरोप लगाया है की हरपाल ने मकान के फर्जी कागजात बना कर मकान को भी अपने नाम करवा कर लिया है । ठगी और हवस का शिकार रेखा आरोपी हरपाल के खिलाफ एफआईआर र्ज कराने के लिए महिला थाने के पिछले एक महीने से चक्कर काट रही है लेकिन उसे थाने में बैठ कर घर वापस भेज दिया जाता है और मानसिक तौर पर परेशान किया जा रहा है । वही इस मामले में जब हमने महिला थाने की एसएचओ से बात करने का प्रयास किया तो एसएचओ ने बताया कि दो दिन पहले ही उसके पास यह मामला आया है और आईओ कोर्ट में गई है उन्होनें आईओ आरोपी को उसके सामने पेश करने के लिए कहा है।

अमर उजाला

दौराला में चारा लेने गई दलित महिला की हत्या

http://www.amarujala.com/news/city/meerut/meerut-crime-news/meerut-murder-news-hindi-news-35/

दौराला थाना क्षेत्र के एक गांव में चारा लेने गई दलित महिला की धारदार हथियारों से वार कर हत्या कर दी। उसका शव अर्द्धनग्न हालत में खेत में मिला। परिजनों ने गैंगरेप की आशंका जताई है। वहीं घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने गांव में पहुंचे पुलिस अफसरों का घेराव किया और तीन घंटे तक शव नहीं उठाने दिया। पुलिस ने दो दिन में घटना का खुलासे करने और पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद दिलाने का आश्वासन दिया। रात को एसएसपी ने भी थाने पहुंचकर सीओ और एसओ को घटना का जल्द खुलासा करने को कहा।

गांव निवासी एक दर्जी की पत्नी (45) सोमवार दोपहर करीब एक बजे खेतों में चारा लेने गई थी, लेकिन शाम तक नहीं लौटी। इस पर उसके पति ने ग्रामीणों के साथ उसकी तलाश शुरू की। गांव के निकट एक ईख के खेत में महिला का अर्द्धनग्न शव मिला। उसके शरीर पर धारदार हथियारों से वार के निशान थे। शव की हालत देख महिला के पति और ग्रामीणों ने गैंगरेप की आशंका जताई है।

घटना की सूचना पर सीओ दौराला डॉ. अरविंद कुमार और इंस्पेक्टर परशुराम मय फोर्स मौके पर पहुंचे तो ग्रामीणों पुलिस पर देर से पहुंचने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। ग्रामीण डीएम को बुलाने की जिद पर अड़ गए। हंगामा बढ़ता देख एसपी सिटी ओमप्रकाश, एसपी क्राइम तेज स्वरूप, तहसीलदार सरधना रणजीत सिंह, सीओ सरधना ब्रिजेश सिंह, दौराला, कंकरखेड़ा और पल्लवपुरम सहित कई थानों की पुलिस फोर्स भी पहुंच गई। एसपी सिटी ने दो दिन में घटना का खुलासा करने और तहसीलदार रणजीत सिंह ने पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद दिलाने का आश्वासन देकर लोगों को शांत किया। इसके बाद पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

वहीं महिला के पति ने अज्ञात में मुकदमा दर्ज कराया है। उधर, घटना के बाद डॉग स्क्वायड और फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट की टीम ने मौके पर पहुंचकर जांच की। रात करीब 10 बजे एसएसपी डीसी दूबे ने थाने पहुंचकर और सीओ और एसओ से घटना की जानकारी ली। वहीं सीओ दौराला डॉ. अरविंद कुमार कहना है कि महिला के पति की तहरीर पर रिपोर्ट दर्ज कर ली है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा कि महिला के साथ दुष्कर्म हुआ है नहीं। मामले में जांच की जा रही है।

अमर उजाला

दलित किशोरी की गला रेतकर नृशंस हत्या

http://www.amarujala.com/news/city/hathras/hathras-crime-news/murder-of-girl-hindi-news/

थरस। चंदपा थाना क्षेत्र के एक गांव में एक दलित किशोरी की गला रेतकर निर्मम हत्या कर दी गई। घर से 300 मीटर दूर आलू के खेत में किशोरी का शव निर्वस्त्र अवस्था में मिला। किशोरी के पिता ने पड़ोसी युवक पर हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

एसपी का कहना है कि किशोरी के साथ रेप हुआ है अथवा नहीं, यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चल सकेगा।

पिछले साल इंटर उत्तीर्ण कर चुकी छात्रा के पिता ने पुलिस को बताया कि सुबह करीब तीन बजे उनकी मां की आंख खुली तो उन्होंने लड़की को चारपाई पर नहीं पाया। इसके बाद घर वालों ने लड़की की तलाश शुरू कर दी। देर तक खोजबीन के बाद उसका कहीं पता नहीं चला। सुबह करीब साढ़े नौ बजे गांव की महिला शौच को आलू के खेत में गईं तो वहां एक शव को देखकर उनके होश उड़ गए। सूचना पाकर ग्रामीण जब खेत में पहुंचे तो लड़की का रक्तरंजित शव मिला। उसके सभी कपड़े पैरों में पड़े थे। उसके गले को धारदार हथियार से काटा गया था। हथेली और अंगूठे पर भी काटे जाने के निशान थे।

हत्यारे ने गर्दन काटने के बाद कटी त्वचा के अंदर लड़की की चुन्नी को घुसेड़ दिया था। पास में खून से सनी एक गोलनुमा लकड़ी पड़ी थी, जो शायद किसी फावड़े से निकाली गई थी। एक रुमाल भी था। इन दोनों को पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया। लड़की के पिता का कहना है कि पड़ोसी युवक शीटू उनकी बेटी को परेशान करता रहा है। आगरा से ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा शीटू हाल ही में आगरा से आया था। घटना के बाद से आरोपी फरार है। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में ले लिया। महिलाओं का करुण-क्रंदन शुरू हो गया। एसपी डॉ. एस. चन्नप्पा, एएसपी अजय शंकर राय, सीओ प्रीति सिंह और थानाध्यक्ष एके सिंह ने भी मौके पर पहुंचकर जांच-पड़ताल की। बसपा नेता रामेश्वर उपाध्याय, जिला पंचायत सदस्य बृज मोहन राही, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष रामवती सिंह बघेल और उनके पति बनी सिंह बघेल ने मौके पर पहुंचकर शोकाकुल परिवार को सांत्वना दी और पुलिस प्रशासन से आरोपियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की।

— डॉ. एस चन्नप्पा, एसपी हाथरस—-

पत्रिका

पूर्व महिला लेखा सहायक ने कराया मामला दर्ज

http://www.patrika.com/news/ajmer/women-account-was-registered-against-former-assistant-1172141/

मदनगंज-किशनगढ़. राजस्थान केन्द्रीय विश्वविद्यालय में एक के बाद एक प्रताडऩा के मामले सामने आ रहे हैं। अब एक पूर्व महिला लेखा सहायक से विवि के वित्त अधिकारी के खिलाफ उसे प्रताडि़त करने का मामला दर्ज कराया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पीडि़ता ने पुलिस को बताया कि 13 जुलाई 2015 को वह बतौर लेखा सहायक यूनिवर्सिटी में काम पर लगी थी। इसके बाद से ही वित्त अधिकारी दिनेश कुमार अग्रवाल उसे परेशान करने लगा। वह उस पर नजदीकियां बढ़ाने को लेकर परेशान करने लगा और दिन में करीब 15-20 कॉल करता था।

Ajmer photo

वह इसका विरोध करती तो भी वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आता और उसे परेशान करना जारी रखे रहा। पीडि़ता का कहना है कि अग्रवाल कभी साथ चलने, होटल में खाना खिलाने की बात कहता तो कभी उसे कपड़े दिलाने या घुमने चलने का दबाव बनाता। पीडि़ता ने वित्त अधिकारी पर किसी ना किसी बहाने शरीर को भी छूने के आरोप लगाए हैं। परेशान होकर उसने यूनिवर्सिटी का छात्रावास भी छोड़ दिया और वह बांदरसिंदरी गांव में किराए का कमरा लेकर रहने लगी। पीडि़ता का आरोप है कि उसने दो तीन बार कुलपति से भी इसकी शिकायत की लेकिन वित्त अधिकारी पर कार्रवाई के बजाए उसे ही अनुबंध से दो- तीन दिन पूर्व 30 सितम्बर को ही हटा दिया गया।

पूर्व में आए मामले

गौरतलब है कि विवि में पीएचडी शोधार्थी मोहित अग्रवाल ने गत 5 फरवरी को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसके पिता ने महिला गाइड विद्युतमा पर मोहित को प्रताडि़त करने का आरोप लगाया है। इससे पहले एक दलित शोधार्थी उमेश किशोर जोनवाल भी उसे प्रताडि़त करने के आरोप में मामला दर्ज करवा चुका है।

डीएसपी ने की पूछताछ

मामले की जानकारी पाकर देर शाम पुलिस उप अधीक्षक जगदीश प्रसाद राव भी थाने पहुंचे। यहां उन्होंने पीडि़ता के बयान लिए और पूछताछ की। पीडि़ता ने पुलिस उप अधीक्षक को अपनी आप बीती सुनाई। इस पर उन्होंने पीडि़ता को निष्पक्ष कार्रवाई का भरोसा दिया। इस दौरान एसएचओ शिवराज सिंह भी मौजूद रहे।

इनका कहना है…

पूर्व महिला कर्मचारी की रिपोर्ट पर वित्त अधिकारी दिनेश कुमार अग्रवाल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। जांच की जा रही है।शिवराज सिंह, एसएचओ, बांदरसिंदरी थाना

दैनिक भास्कर

आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार करने की मांग

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-OTH-MAT-latest-taranagar-news-070112-3575592-NOR.html

जिलाकांग्रेस कमेटी अनुसूचित जाति विभाग के प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को मुख्यमंत्री के नाम कलेक्टर को ज्ञापन देकर सरदारशहर तहसील के गांव नाहरसरा के राउप्रावि में अध्ययनरत आठ साल की छात्रा के साथ कुकर्म करने के आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार करने की मांग की है।

ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि घटना के नाै दिन बाद भी आरोपी शिक्षक पुलिस गिरफ्त से दूर है, जिससे दलित समाज में आक्रोश व्याप्त है। पुलिस ने दो दिन में आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार नहीं किया, तो दलित समाज के लोग कलेक्ट्रेट के आगे धरना-प्रदर्शन करेंगे। ज्ञापन देने वालों में जिलाध्यक्ष विद्याधर मेघवाल, पूर्व उप जिला प्रमुख सोहनलाल मेघवाल, दुलीचंद बरोड़, संयुक्त दलित वर्ग संघर्ष समिति अध्यक्ष लादूराम जोइया, पार्षद ओमप्रकाश बजाड़, सत्यनारायण मेघवाल, बजरंगलाल बजाड़, हीरालाल नायक, कुंदनमल चंदेल, भादरराम मेघवाल, गोरधनराम वाल्मीकि, श्रवण बसेर, अजीत सोमासी, संदीप कुमार मेघवाल, फकीरचंद दानाेदिया आदि शामिल थे।

एसएफआईऔर दलित शोषण मुक्ति मंच का प्रदर्शन : सरदारशहर | कुकर्मके आरोपी को गिरफ्तार करने की मांग को लेकर एसएफआई और दलित शोषण मुक्ति मंच ने गांधी चौक में प्रदर्शन किया।

प्रदर्शनकारियों ने तहसीलदार को ज्ञापन देकर पूरे मामले की न्यायिक जांच कराने और आरोपी अध्यापक को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की है। उन्होंने नाहसरा के स्कूल में रिक्त अध्यापकों के पदों की शीघ्र आपूर्ति किए जाने की मांग भी की। एसडीएम ने बीईईओ से वार्ता कर एक शिक्षक को लगाया। शेष अध्यापकों को दो दिन में लगाने का आश्वासन दिया। ज्ञापन देने वालों में दलित शोषण मुक्ति मंच के जीवणराम मेघवाल, एसएफआई के प्रदेश संयुक्त सचिव रामकृष्ण छींपा, तारानगर पंस प्रधान दशोमुमं के जिला संयोजक जयसिंह मेघवाल, राकेश चौधरी, भानूप्रताप धनकड़, चेतनराम मेघवाल, पालाराम, श्रवण सारण, प्रवीण सैनी, कानाराम, विनोद सींवर सहित मोहरसिंह मेघवाल, रणजीतसिंह, शिशपाल, किशनलाल जोराराम, लेखराम प्रेमकुमार, कालूगर, आयूब महबूब आिद मौजूद थे।

सरदारशहर. एसएफआई और दलित शोषण मुक्ति मंच के सदस्य ज्ञापन देते हुए।

चूरू. जिला कांग्रेस कमेटी अनुसूचित जाति विभाग पदाधिकारियों ने दिया ज्ञापन

अमर उजाला

जिले में भू-माफियाओं के खिलाफ खोला मोर्चा

http://www.amarujala.com/news/city/mirzapur/front-opened-against-land-mafia-hindi-news/

दलितों को पुश्तैनी भूमि से बेदखल करने का आरोप लगाते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी माले के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को लाल झंडों के साथ जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी करते हुए अपनी मांगों से संबंधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा।

सोमवार की सुबह भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी माले के कार्यकर्ता रेलवे स्टेशन के पास एकत्रित हुए और वहां से जुलूस की शक्ल में दोपहर को कलेक्ट्रेट के लिए रवाना हुए। अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी करते हुए माले कार्यकर्ता दोपहर तीन बजे कलेक्ट्रेट में पहुंचे और सभा करना आरंभ कर दिया।

सभा को संबोधित करते हुए केंद्रीय कमेटी के सदस्य मोहम्मद सलीम ने कहा कि देश को आजाद हुए कई दशक बीत गए लेकिन आज भी गरीबों और दलितों का उत्पीड़न जारी है। हनुमान पड़रा गांव में सैकड़ों वर्षों से बसे दलितों को शासन प्रशासन की मिलीभगत से उजाड़ा जा रहा है।

बिल्डर प्रशासन की मदद से दलित बस्ती को जबरदस्ती उजाड़ कर रास्ता बनाने पर तुले है। पुलिस भी उनके इस प्रयास को शह दे रही है। माले नेता आशाराम भारती ने कहा कि दलितों को उजाड़ कर रास्ता बनाया जाना उचित नहीं है।

जमींदारी समाप्त हुए कई दशक बीत गए लेकिन जमींदारों का नाम और उनका उत्पीड़न आज भी जारी है। प्रशासन को भू-माफियाओं को जेल भेजना चाहिए ताकि दलितों शोषितों को न्याय मिल सके।

धरना प्रदर्शन करने वालों में लालता, कल्लू, दूधनाथ, नन्हें, रामबाबू, रामअवतार, विश्राम भारती, अनीता, शिवशंकर, अमृतलाल, भगेडू, जितेन्द्र कुमार, धर्मेंद्र, साहेब अंसारी, लालचंद भारती आदि शामिल रहे

दैनिक भास्कर

भीख मांगने वाले बच्चों को मुख्यधारा से जोड़ने को अनु ने छोड़ी नौकरी

http://www.bhaskar.com/news/HAR-HIS-OMC-anu-left-her-job-5244210-PHO.html

हिसार. दुर्जनपुर गांव की दलित बेटी अनु चीनिया (24) ने करीब डेढ़ साल पहले शहर के चौराहे पर बच्चों को भीख मांगते देखा। उसे लगा कि इन बच्चों को भीख की नहीं, किताब की जरूरत है। फिर सोचा, यह कौन करेगा? सरकार? खुद से जवाब मिला-पॉलिटेक्निक से डिप्लोमा किया हुआ है, ऐसे कुछ बच्चों को तो खुद पढ़ा सकती हूं। इस तरह कारवां बढ़ सकता है।

यहीं सोचकर अपने गांव से करीब पांच किलोमीटर दूर राजीव नगर (झीड़ी) में जाकर उन पांच बच्चों को पढ़ाना शुरू कर दिया। इन बच्चों के माता-पिता ने अनु को रोका। बोले- हर रोज 100-150 रुपये भीख मांगकर लाते हैं। तुम पढ़ाने के बदले में कितने रुपये दोगी। अनु ने समझाया तो समझ गए कि शिक्षित होना कितना जरूरी है। जब बच्चों का मन पढ़ाई में लग गया तो उनके कागजात तैयार करा सरकारी स्कूल में दािखला दिला दिया। अब अनु का मिशन पूरे देश को भिखारी मुक्त बनाना है।

दूसरी तरफ चंडीगढ़ में अनु रिश्ता हो चुका था। उन्हें पता चला तो बोले- जॉब करोगी तो ठीक है, वरना यह समाजसेवा पसंद नहीं। अनु ने शादी न करने का फैसला कर अपना मिशन जारी रखा। परिजन बोले कि शादी न करके क्यों अपनी जिंदगी खराब कर रही हो।

कोलकाता के एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट में कार्यरत जगदीश कुमार की तीन बेटियों और एक बेटे में सबसे बड़ी अनु बताती है-जॉब छोड़ने के फैसले पर परिजनो ने कहा-लाइफ खराब कर लेगी। मुझे बच्चों को पढ़ाने में संतुष्टि मिलती थी। जिस काम में संतुष्टि मिले, वहीं करना चाहिए। फिर अनु चीनिया हिसार के सूर्य नगर की झुग्गियों में पहुंची। यहां के 500 से ज्यादा बच्चे भीख मांगते थे। अनु ने 50 बच्चों को पढ़ाना शुरू किया। फिर उसी इलाके के सरकारी स्कूल में 30 बच्चों का एडमिशन करवा दिया। करीब 20 बच्चों के सरकारी प्रमाण पत्र न होने से दाखिला नहीं ले पाए। अनु ने उन बच्चों के साथ 40 और बच्चों को साथ लेकर दूसरा बैच शुरू कर दिया।

अनु को यहां तक पहुंचने में उसके गांव के अशोक नंदा और सुरेश पूनिया ने अहम भूमिका निभाई। इन तीनों ने मिलकर सोचा कि अब संगठन बनाकर मिशन को आगे बढ़ाए। तभी पिछले साल अगस्त में 11 सदस्यीय कमेटी बनाकर संगठन पंजीकृत कराया। नाम रखा-भीख नहीं, किताब दो। अनु प्रधान हैं और सुरेश सचिव।

सड़क पर बच्चों को भीख देना पुण्य नहीं, पाप जैसा : अनु

मैं बच्चों को सड़कों पर भीख मांगते देखती हूं तो सोचती हूं कि उन्हें अपना बचपन ही नहीं पता। लोग भीख देकर गर्व महसूस करते हैं कि यह पुण्य का काम है। मेरी नजर में पाप की तरह है। भीख को बढ़ावा देना है। अगर हम भीख में पैसे, कंबल, खाने का सामान इत्यादि देते हैं तो उन्हें आश्रित होने की आदत डालेंगे। जब खाने-पीने, पहनने और रहने को सड़क पर बैठे मिल जाएगा तो मेहनत नहीं करेंगे। अगर मुख्यधारा से जोड़ना है तो शिक्षा दो, भीख में सामान नहीं। अनु चीनिया, अध्यक्ष, भीख नहीं, किताब दो।

खुद लाते हैं झुग्गियों से बच्चे

अब इस संगठन के बैनर तले अनु टाउन पार्क के पास शहीद सूबे सिंह स्मारक के पार्क में खुले आसमान के नीचे बच्चों को पढ़ाती हैं। अनु बताती हैं-जब मौसम खराब होता है तो प्रार्थना करती हूं बारिश न हो, वरना क्लास बंद हो जाएगी। अभी तक तो ऊपर वाला सुनता आया है। सर्दी की वजह से अनु ने क्लास बंद कर दी थी। अब फिर से शुरू होने वाली है। अनु और संगठन से जुड़े लोग खुद झुग्गियों में जाकर बच्चों को पार्क तक लाते हैं। अनु मटका चौक के पास वाली झुग्गियों से बच्चों को रोजाना पैदल लाती है, वहीं ज्योति नाम की एक लड़की सूर्य नगर झुग्गियों से बच्चों को लाती है।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s