दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 01.02.16

 

दलित लड़कियों को अगवा कर रेप का मामला, पुलिस ने आरोपियों पर किया मामला दर्ज न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/madhya-pradesh/police-register-case-in-alleged-rape-case-of-dalit-girls-1347129.html

आज से शुरू हो सकती है हैदराबाद विश्‍वविद्यालय में पढ़ाई! न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/uttarakhand/hyderabad-university-studies-will-start-soon-after-rohit-vemula-suicide-case-1350224.html

दलित सेना का हुआ विस्तार – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-CHHT-MAT-latest-chhatarpur-news-031045-3524596-NOR.html

SC ने दलित महिला की हत्या मामले की जांच सीबीआई को सौंपी पंजाब केसरी

http://haryana.punjabkesari.in/karnal/news/dalit-woman-s-murder-438176

 

न्यूज़ 18

दलित लड़कियों को अगवा कर रेप का मामला, पुलिस ने आरोपियों पर किया मामला दर्ज

http://hindi.news18.com/news/madhya-pradesh/police-register-case-in-alleged-rape-case-of-dalit-girls-1347129.html

भिंड पुलिस ने दो दलित लड़कियों के साथ रेप के मामले में तीन आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस मामले में पुलिस ने पहले छेड़छाड़ की धाराओं में केस दर्ज किया था. पीड़ित लड़कियों के एएसपी को शिकायत करने के बाद अब पुलिस ने रेप का मामला दर्ज किया है.

दरअसल, इन दोनों लड़कियों ने शुक्रवार को एएसपी अमृत मीणा से मुलाकात की थी. उन्होंने आरोप लगाया था कि इस मामले में स्थानीय पुलिस निष्पक्ष जांच नहीं कर रही है. इसी के बाद नए सिरे से जांच कर आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज किया गया है.

दलित लड़कियों को अगवा कर रेप का मामला, पुलिस ने आरोपियों पर किया मामला दर्ज

क्या है पूरा मामला

भिंड में दो दलित परिवार की लड़कियों ने स्थानीय दबंगों पर घर से अगवा कर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया. पीड़ित युवतियों ने परिजनों के साथ थाने जाकर मामले की शिकायत की है.

मामला जिले के बरासों थाना क्षेत्र के टीकरी खुर्द गांव का है. परिजनों का आरोप है कि थाना स्तर पर उनकी कोई सुनवाई नहीं की गई और दुष्कर्म के बजाए छेड़खानी का मामला दर्ज कर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास किया गया. थाने से न्याय न मिलने पर परिजनों ने जिला मुख्यालय पहुंचकर एएसपी से गुहार लगाई है.

दरअसल, टीकरी खुर्द गांव में दबंगों दलवीर और जितेन्द्र द्वारा गांव की एक लड़की को कथित तौर पर कट्टे की नोंक पर अगवा कर दुष्कर्म किया गया. उसी समय एक अन्य दबंग द्वारा भी एक लड़की के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया.

वहीं, एएसपी अमृत मीणा ने पीड़ितों द्वारा पुलिस पर लगाए गए आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए मामले की निष्पक्ष जांच कर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया है.

न्यूज़ 18

आज से शुरू हो सकती है हैदराबाद विश्‍वविद्यालय में पढ़ाई!

http://hindi.news18.com/news/uttarakhand/hyderabad-university-studies-will-start-soon-after-rohit-vemula-suicide-case-1350224.html

हैदराबाद केंद्रीय विश्‍व‍विद्यालय के छात्र रोहित वेमुला की आत्‍महत्‍या के बाद से ही विवि के छात्र आंदोलन पर बैठे हुए थे. रविवार को छात्रों ने अपना आंदोलन वापस लेने की रजामंदी दे दी है.

कार्यवाहक कुलपति एम पेरियासामी ने रविवार को दावा किया कि सोमवार से विवि में पढ़ाई शुरू हो जाएगी और कैंपस का माहौल भी पहले जैसा सामान्‍य हो जाएगा. वहीं, दूसरी ओर छात्रों का कहना है कि इस संबंध में अंतिम फैसला संयुक्त कार्रवाई समिति की बैठक में ही लिया जाएगा.

पेरियासामी का कहना है कि गतिरोध खत्म करने के लिए हमने छात्र प्रतिनिधियों से बात की है. वे कुछ शर्तों के साथ एकेडमिक गतिविधि बहाल करने के लिए तैयार हो गए हैं. उन्‍होंने बताया कि छात्र प्रतिनिधि चाहते थे कि रोहित समेत पांच शोध छात्रों के निलंबन में शामिल लोगों को प्रशासनिक कामकाज से बाहर किया जाए.

इसके अलावा एससी-एसटी वर्ग के जिन शिक्षकों ने छात्रों के समर्थन में प्रशासनिक पदों से त्यागपत्र दिया है, उन्हें काम पर वापस लिया जाए. पेरियासामी ने कहा कि हम इसके लिए तैयार हैं. बता दें कि विश्‍वविद्यालय के हालात को सामान्‍य करने के लिए पहले कुलपति अप्पा राव और उसके बाद प्रभारी कुलपति बनाए गए विपिन श्रीवास्तव लंबी छुट्टी पर चले गए. इसके बाद पेरियासामी को कार्यवाहक कुलपति बनाया गया.

बीते दो दिनों से विश्वविद्यालय प्रशासन ने कक्षाएं शुरू करवाने की कोशिशें कीं, लेकिन जेएसी द्वारा तीखा विरोध करने के कारण कक्षाएं शुरू नहीं हो सकीं. जेएसी में 14 विद्यार्थियों की समिति है.

गौरतलब है कि कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी रोहित वेमुला के लिए न्याय की मांग कर रहे हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ शनिवार को एक बार फिर प्रदर्शन में शामिल हुए और भूख हड़ताल पर बैठे.

राहुल के भूख हड़ताल में शामिल होने पर भाजपा ने उन पर हमला बोलते हुए कहा कि राहुल लाश पर राजनीति कर रहे हैं. राहुल ने 12 घंटों से ज्यादा समय से छात्रों के साथ बिताया है और शुक्रवार रात मोमबत्ती जुलूस में शामिल रहे. उन्होंने पूरी रात विश्वविद्यालय परिसर में ही बिताई. उन्होंने छात्रों के साथ खाना खाया, जिसमें रोहित के साथ बर्खास्त किए गए चार अन्य छात्र भी शामिल थे.

रोहित के जन्मदिन पर किए गए विरोध प्रदर्शन में उसके परिवार वाले भी शामिल हुए. दिन भर भूख हड़ताल की. दलित चितक इलैया राजा ने दिन के अंत में भूख हड़ताल खत्म करवाने के लिए उन्हें जूस पिलाया.

इससे पहले राहुल ने रोहित द्वारा खुदकुशी किए जाने के दो दिन बाद 19 जनवरी को विश्वविद्यालय परिसर का दौरा किया था. उन्होंने रोहित की मां से और प्रदर्शनकारी चार अन्य दलित छात्रों से मुलाकात की थी. उन्होंने कुलपति, कुछ केंद्रीय मंत्रियों और खुदकुशी के लिए जिम्मेदार अन्य लोगों पर कार्रवाई की मांग की थी.

रोहित की खुदकुशी के बाद से ही सामाजिक न्याय के लिए संयुक्त कार्रवाई समिति (जेएसी) का विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है और तभी से विश्वविद्यालय भी बंद चल रहा है. उल्लेखनीय है कि रोहित सहित पांच दलित छात्रों को एबीवीपी के एक नेता के साथ कथित मारपीट के आरोप में निलंबित किया गया था.

दैनिक भास्कर

दलित सेना का हुआ विस्तार

http://www.bhaskar.com/news/MP-CHHT-MAT-latest-chhatarpur-news-031045-3524596-NOR.html

छतरपुर | दलित सेना के जिला अध्यक्ष बीड़ी अनुरागी ने संगठन बडा़मलहरा विधान सभा का विस्तार किया गया। निरपत अहिरवार को विधान सभा का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। पुष्पेन्दु अहिरवार को ग्रामीण क्षेत्र का अध्यक्ष और विनोद कुमार अहिरवार को ग्रामीण क्षे़त्र का उपाध्यक्ष और किशन अहिरवार को प्रचार मंत्री नियुक्त किया गया है। इसी प्रकार छतरपुर विधान क्षेत्र का अध्यक्ष देवेंद्र अहिरवार को नियुक्त किया गया है।

पंजाब केसरी

SC ने दलित महिला की हत्या मामले की जांच सीबीआई को सौंपी

http://haryana.punjabkesari.in/karnal/news/dalit-woman-s-murder-438176

करनाल(लाम्बा/जैन): सुप्रीम कार्ट ने कलसी गांव की एक दलित महिला की हत्या का मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी है। हाईकोर्ट ने महिला के पति धर्मपाल की सीबीआई से जांच करवाने की याचिका खारिज कर दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि ट्रायल शुरू होने का यह मतलब नही है कि मामले की जांच का काम नए सिरे से दूसरी एजेंसी को नहीं सौंपा जा सकता। सुप्रीमकोर्ट के न्यायाधीश दीपक मिश्रा था प्रफुतल पंत की पीठ ने शुक्रवार को मामले की जांच सीबीआई को सौपने का फैसला देते हुए कहा कि जांच के आदेश देने या नए सिरे से जांच कराने का सवैंधानिक अधिकार अदालत के पास चिहिन्त है।

कलसी गांव की महिला कमलेश का शव अगस्त को मनक माजरा गांव के समीप खेतों में मिला था। कमलेश के गले में चुन्नी लिपटी हुई थी और गले पर भी निशान थे। पोस्टमार्टम रिर्पोट में कमलेश की गला दबाने से मौत होने की पुष्टि हुई थी। इससे पहले महिला की नाबालिक लडकी से दुष्कर्म हुआ था। 6 अगस्त को महिला की नाबलिग लडकी स्कूल में जा रही थी कि स्कूल के मुख्य गेट पर दो युवकों ने उसका अपहरण कार में कर लिया गया था।

कार से युवती को कुरूक्षेत्र ले जाया गया। दुष्कर्म के बाद उसे गांव युनिसपुर के समीप सुनसान जगह पर छोड दिया गया। आरोपियों ने धमकी दी कि इसकी जानकारी परिजनों को दी गई तो उन्हें जान से मार दिया जाएगा। युवती घटना की जानकारी परिजनों को दी थी और पुलिस ने दोनों युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। करीब एक महीने बाद ही युवती की मां कमलेश का शव खेतों में मिला था। बाद में दुष्कर्म के मामले में करनाल की एक कोर्ट ने आरोपियों को बरी कर दिया था जबकि महिला की हत्या के मामले में महिला के पति  पुलिस की जांच से अंसतुष्ट थे।

कमलेश की हत्या को लेकर ग्रामीणों का एक शिष्टमण्डल पूर्व एसपी शशांक आनंद से भी मिला था। शिष्टमण्डल ने आरोप लगाया था कि पूर्व चौंकी इंचार्ज आरोपियों से मिले हुए है। पुलिस अधीक्षक ने चौंकी इंचार्ज की जांच डीएसपी को सौंप दी थी। पुलिस अधीक्षक ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि मामले का जल्द खुलासा कर दिया जाएगा। 20 अक्तूबर को अनुसूचित आयोग की दो सदस्यीय टीम गांव कलसी पहुंची थी। राष्ट्रीय एससी आयोग के एडवाइजर एम आर बाली रिसर्च आफीसर पी एस मेहता ने पीडित परिवार व प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत की और पीडित परिवार को न्याय का आश्वासन दिया था।

मामले में चौंकी इंचार्ज का तबादला कर दिया गया और महिला के मर्डर का मामला करनाल कोर्ट में पैंडिंग है। पुलिस जांच से असंतुष्ट महिला के पति धर्मपाल ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर मामले की जांच सी बी आई को सौंपने की मांग की लेकिन हाईकोर्ट ने याचिका खारिज कर दी। धर्मपाल ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दर्ज कर मामले की जांच सी आई को सौंंपने की मांग की। धर्मपाल के सुप्रीम कोर्ट के वकील कमलेश ने बताया कि कोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंपने के आदेश दिए हैं।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s