दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 14.01.16

 

IAS की पत्नी ने ऑडियो में बयां किया दर्द ,’हमारा परिवार तबाह कर दिया’ – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/c-58-2850291-bp0851-NOR.html

तमंचे के दम पर दलित किशोरी से दुराचार – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/bareilly/bareilly-crime-news/pistol-at-the-back-of-depressed-teenager-misconduct-hindi-news/

जल्लीकट्टू के लिए परेशान तमिलनाडु में बुरा है दलितों का हाल – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/feature/samachar/national/dalits-atrocities-in-tamilnadu-hindi-news-ap/

किशोरी का गर्भपात कराने पर मामला दर्ज – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-begumganj-news-020505-3414009-NOR.html

कैंसर पीड़ित बच्चे की मौत होने के बाद भी नहीं मिली मंजूर राशि – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/PUN-OTH-MAT-latest-dhuri-news-034031-3416182-NOR.html

SC/ST आयोग के उपाध्यक्ष के खिलाफ सैकड़ों दलितों का प्रदर्शन – पंजाब केसरी

http://up.punjabkesari.in/uttar-pradesh/news/st-sc-commission-deputy-hundreds-against-dalits-performance-432711

 

दैनिक भास्कर

IAS की पत्नी ने ऑडियो में बयां किया दर्द ,’हमारा परिवार तबाह कर दिया’

http://www.bhaskar.com/news/c-58-2850291-bp0851-NOR.html

भोपाल। मप्र के IAS अफसर रमेश थेटे इन दिनों सरकार के खिलाफ मोर्चा खाेले हुए हैं। दो दिन पहले उन्होंने दलित-आदिवासी फोरम के मंच से कहा था कि सरकार की प्रताड़ना की वजह से उनकी पत्नी की ब्यूटी ही चली गई। इस पर dainikbhaskar.com ने उनकी पत्नी मंदा थेटे से बात की।

अन्याय के खिलाफ लड़ना पड़ गया भारी

रमेश थेटे अपनी पत्नी मंदा के साथ।

मंदा थेटे का कहना है-‘मेरे पति रमेश थेटे हमेशा से ही अन्याय के खिलाफ लड़ते आए हैं। यह बात कुछ लोगों को पसंद नहीं आई और उन्होंने मेरे पति को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। हमारा पारिवारिक जीवन पूरी तरह तबाह हो गया है। परिवार की खुशियां ही चली गई हैं।’

वरिष्ठ होने के बावजूद नहीं बनाया कलेक्टर

मंदा कहती हैं, ‘मेरे पति किसी की मेहरबानी से नहीं, बल्की अपनी योग्यता से IAS बने। उन्हें 12 साल से प्रताड़ित किया जा रहा है। उनके खिलाफ झूठे मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं। उनको कभी भी कलेक्टर नहीं बनाया गया। आज भी वरिष्ठ होने के बावजूद उनकी पदस्थापना बगैर महत्व वाले पद पर की गई है। उनका पूरा गोल्डन करियर बर्बाद कर दिया गया। लेकिन हम बाबा साहब आंबेडकर के अनुयायी हैं। हम अन्याय के खिलाफ लड़ते रहेंगे और हमें पूरी उम्मीद है कि अंत में जीत हमारी ही होगी, क्योंकि हम सच्चाई के रास्ते पर चल रहे हैं।’

किसी का नहीं लिया नाम

हालांकि मंदा थेटे से जब पूछा गया कि उनके पति को क्या सरकार प्रताड़ित कर रही है? इस पर उन्होंने किसी का भी नाम लेने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि यह उनके पति और सरकार के बीच का मामला है, लेकिन वो अपने पति की हर लड़ाई में उनके साथ हैं।’

अमर उजाला

तमंचे के दम पर दलित किशोरी से दुराचार

http://www.amarujala.com/news/city/bareilly/bareilly-crime-news/pistol-at-the-back-of-depressed-teenager-misconduct-hindi-news/

सिरौली के एक गांव में युवक ने शौच गई दलित किशोरी से तमंचे के बल पर दुराचार किया। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर आरोपी पकड़ लिया है।

क्षेत्र के एक गांव में सोमवार शाम एक किशोरी जंगल में शौच को गई थी। आरोप है कि खेत में गांव के ही पूर्व प्रधान का भतीजा प्रदीप कुमार अपने एक अन्य साथी के साथ वहां पहले से मौजूद था। प्रदीप ने किशोरी को तमंचे से धमकाकर दबोच लिया और उसके मुंह में कपड़ा ठूंसकर उससे दुराचार किया। इस दौरान उसका साथी रखवाली करता रहा। किशोरी ने आरोपी के चंगुल से छूटने की काफी कोशिश की। आरोपी जान से मारने की धमकी देकर तमंचा लहराते हुए भाग गया। बदहवासी की हालत में घर पहुंची किशोरी ने घरवालों को आपबीती सुनाई तो परिवार सहम गया। परिवार किशोरी को लेकर सिरौली थाने पहुंचा और आरोपी प्रदीप और उसके सहयोगी के खिलाफ थाने में तहरीर दी। सिरौली पुलिस ने दुराचार का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। एसओ गजेंद्र त्यागी ने बताया कि मुकदमा दर्ज कर मुख्य आरोपी को पकड़ लिया है। पीड़ित किशोरी को मेडिकल परीक्षण के लिए भेज दिया है।

अमर उजाला

जल्लीकट्टू के लिए परेशान तमिलनाडु में बुरा है दलितों का हाल

http://www.amarujala.com/feature/samachar/national/dalits-atrocities-in-tamilnadu-hindi-news-ap/

चेल्लामुथु फिलहाल एक नाम भर है। ये उसी तमिलनाडु का एक दलित था, ‌जिसकी सरकार जल्लीकट्टू के लिए केंद्र सरकार से अध्यादेश लाने की मांग कर रही है।‌ पिछले महीने चेल्‍लामुथु की मृत्यु हो गई, हालांकि वह जिस गांव का निवासी था, वहां श्मशान तक जाने के लिए आम रास्ता अलग था और दलितों का रास्ता अलग। दलितों का रास्ता बहुत ही खराब हालत में था, इसलिए उसके घर वालों ने आम रास्ते उसका शव श्मशान तक ले जाने का फैसला किया।

आम रास्ते से शव नहीं जा सकते दलित

आम रास्‍ते पर दलितों का चलना मना था। दलितों के खिलाफ तमिलनाडु में प्रच‌लित ये एक ऐसा कानून है, जो ‌किसी दस्तावेज में दर्ज नहीं है। हालांकि धर्म और पंरपरा की दुहाई पर ये अब तक कायम है। चेल्लामुथु के परिजनों को भी ये एहसास था कि उन्हें आम रास्ते से होकर नहीं जाने दिया जाएगा।

ये सोचकर ही उसके पोते कार्तिक ने तमिलनाडु उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटा दिया। कोर्ट ने उन्हें आम रास्ते से शव ले जाने का आदेश दिया। कोर्ट ने कहा‌‌ कि ऐसा कोई कानून नहीं है जो दलितों को आम रास्ते का इस्तेमाल करने से रोकता है। ये वाकया तमिलनाडु के नागपट्टनम जिले के कुट्टालम तालुक के थिरुनालकोंडाचेरी गांव का है।

दैनिक भास्कर

किशोरी का गर्भपात कराने पर मामला दर्ज

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-begumganj-news-020505-3414009-NOR.html

एक दलित छात्रा का दैहिक शोषण करने के बाद उसका गर्भपात कराने के आरोपी तीन सगे भाइयों के खिलाफ सुल्तानगंज थाना पुलिस ने 16 दिन बाद एफआईआर दर्ज कर ली है। आरोपी ग्राम सुनेटी में 30 वर्षीय युवक और उसके भाई फरार बताए जा रहे हैं।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार ग्राम सुनेटी की कक्षा सात में पढ़ रही 14 वर्षीय दलित छात्रा को बहला फुसला कर गांव के ही 30 वर्षीय युवक किशनलाल पुत्र लक्ष्मीनारायण व्यास ने दैहिक शोषण किया। यह सिलसिला डेढ़ साल तक चलता रहा। इस दौरान वह पीड़िता को धमकाता रहा कि किसी को बताने पर वह छात्रा कों जान से मार देगा। जब छात्रा गर्भवती हो गई तो उसने यह बात किशनलाल को बताई। इसके बाद किशनलाल ने अपने छोटे भाई 25 वर्षीय अतुल व्यास व सुरेंद्र व्यास के सहयोग से छात्रा को गर्भ निरोधक गोलियां खिला दीं। इससे 29 दिसम्बर को पीड़िता की हालत बिगड़ गई। इसके बाद परिजनों के सामने मामले का खुलासा हुआ। माता पिता छात्रा को सागर ले गए और अस्पताल में भर्ती कराया। जहां बमुश्किल उसकी जान बच सकी।

मामला अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामस्नेही मिश्रा के पास पहुंचा। जिसके बाद अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने महिला सेल प्रभारी पवित्रा शर्मा को किशोरी का मेडिकल कराने के निर्देश देते हुए आरोपियों के विरूद्ध मामला दर्ज कराने के निर्देश दिए। इसके बाद पुलिस ने आरोपी किशनलाल व्यास, अतुल व्यास, सुरेन्द्र व्यास के खिलाफ मामला दर्ज किया।

आरोपियों की तलाश कर रहे हैं

तीनों आरोपियों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया गया है। सभी आरोपियों तलाश शुरू कर दी गई है। जिन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। बीबी तिवारी, एएसआई

दैनिक भास्कर

कैंसर पीड़ित बच्चे की मौत होने के बाद भी नहीं मिली मंजूर राशि

http://www.bhaskar.com/news/PUN-OTH-MAT-latest-dhuri-news-034031-3416182-NOR.html

मुख्यमंत्रीपंजाब प्रकाश सिंह बादल द्वारा कैंसर पीड़ितों की हर संभव मदद करने के दावों और वायदों के उलट अफसरशाही के ढीले मनमाने रवैये के कारण कैंसर पीड़ितों एवं उनके परिवार को धक्के खाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

नजदीकी गांव रणीके के दलित परिवार से संबंधित सत्तपाल सिंह ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि उनका तीन वर्षीय पुत्र मनवीर सिंह कैंसर की बीमारी से पीड़ित था, जिसका इलाज पीजीआई चंडीगढ़ से चल रहा रहा था।

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री राहत फंड़ पंजाब सोसायटी द्वारा इलाज के लिए एक लाख रुपए की राशि मंजूर की गई थी, लेकिन उक्त राशि के भुगतान के लिए कई बार पीजीआई चंडीगढ़ की ब्रांच नेहरू अस्पताल रिसेप्शन एंड ग्रांट सैल से संपर्क करने पर संबंधित अधिकारियों द्वारा इलाज पूरा होने के उपरांत ही इस राशि के भुगतान की बात कहकर उसे वापस मोड़ दिया जाता था। पीडि़त के अनुसार मरीज को आखिरी बार गत 23 अक्टूबर को पीजीआई चंडीगढ़ में चेक करवाया गया था। 24 अक्टूबर को गांव में बेटे की मौत हो गई थी। उसने बताया कि अस्पताल के अधिकारियों के कहने के मुताबिक इस इलाज का खर्च उसने बड़ी मुश्किल से खुद उठाया है। उन्होंने इकट्ठे किए बिलों के आधार पर अदायगी करने की मांग की थी लेकिन अब अधिकारियों द्वारा मंजूर हुई राशि वापस भेजे जाने की बात कहकर उसे यह राशि जारी करने से इंकार कर रहे है। उन्होंने मंजूर राशि की अदायगी करवाए जाने की मांग की है।

पंजाब केसरी

SC/ST आयोग के उपाध्यक्ष के खिलाफ सैकड़ों दलितों का प्रदर्शन

http://up.punjabkesari.in/uttar-pradesh/news/st-sc-commission-deputy-hundreds-against-dalits-performance-432711

मेरठ के हस्तिनापुर थाना इलाके के सैकड़ों दलित ग्रामीणों और महिलाओं ने बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा की अगुआई में एसएसपी ऑफिस और डीएम कार्यालय के बाहर जमकर नारेबाजी और प्रदर्शन किया। दरअसल, सपा सरकार के एसटी एससी आयोग के उपाध्यक्ष मुकेश सिद्धार्थ पर आरोप है कि उनके द्वारा हस्तिनापुर क्षेत्र के गांव रामराज की प्रधान संगीता के पति जितेंद्र पर झूठा मुकदमा दर्ज करा कर उन्हें जेल में भेजने की धमकी दी जा रही है और उनपर प्रधानी छोडऩे के लिए दबाव बनाया जा रहे। पूर्व में भी ऐसा मुकदमा दर्ज कराया था।

SC/ST आयोग के उपाध्यक्ष के खिलाफ सैकड़ों दलितों का प्रदर्शन

क्षेत्र में लगातार दलितों का उत्पीड़ऩ किया जा रहा है। वहीं दलितों ने पुलिस पर दबाव में काम करने का आरोप लगाया है। सैकड़ों दलितों ने सड़कों पर नारेबाजी करते हुए पहले एसएसपी ऑफिस कूच किया और फिर डीएम कार्यालय में डीएम को ज्ञापन सौंपा और मामले में कार्रवाई की मांग की। दलितों का कहना है कि अगर इन्साफ नही मिला तो आंदोलन किया जायेगा।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s