दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 19.11.15

हिरासत में आदिवासी की मौत : पुलिस ने माओवादी नहीं, मेरे किसान को मारा – पत्रिका

http://www.patrika.com/news/states/narayanpur-tribal-deaths-in-custody-police-not-maoist-hit-farmer-1134543/

कर्नाटक: दलित महिला के मिड डे मीलपकाने पर 100 स्टूडेंट्स ने छोड़ा स्कूल – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/NAT-NAN-dalit-woman-cooks-mid-day-meal-karnataka-school-100-children-transfer-out-5172174-NOR.html

पुलिस की छापेमारी, घरों से गिरफ्तार किए दलित नेता पंजाब केसरी

http://punjab.punjabkesari.in/kapurthala/news/police-raided-the-homes-of-dalit-leaders-in-phagwara-415082

दलित अत्याचार, भेदभाव, आरक्षण को लेकर चर्चा दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-GUNA-MAT-latest-guna-news-023504-3044873-NOR.html

जरूरतमंदों के नहीं हो रहे कार्य सीएम विंडो पर लगाई गुहार दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-jhajjar-news-021503-3044081-NOR.html

सुनपेड़ कांड: सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे परिवार को जिंदा जलाने के आरोपी दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/c-85-1154475-pa0363-NOR.html

लट्ठ लेकर पहुंचे कलेक्टोरेट, कलेक्टर नहीं मिले तो चूड़ियां फेंकी नई दुनिया

http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/sagar-sagar-news-575938

पंजाब स्टूडेंट्स यूनियन आज से लगाएगी धरना दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/PUN-OTH-MAT-latest-firozpur-news-035533-3048483-NOR.html

 An Appeal: Please contribution to PMARC for strengthen Democracy, Peace & Social Justice !

पत्रिका

हिरासत में आदिवासी की मौत : पुलिस ने माओवादी नहीं, मेरे किसान को मारा

http://www.patrika.com/news/states/narayanpur-tribal-deaths-in-custody-police-not-maoist-hit-farmer-1134543/

 नारायणपुर. अगर मारना है, तो माओवादी को मारती पुलिस, मेरे किसान भाई को क्यों मारा। मेरा भाई सुबह खेत में धान काट रहा था। पुलिस वहीं से उसको पकड़कर ले गई और जेल भेजने की बजाय नारायणपुर लाकर मार दिया। पुलिस अभिरक्षा में फांसी लगाकर जान देने वाले बामन के भाई कोसो ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए। परिजनों ने बताया, पुलिस ने बामन के साथ पकड़े गए दो लोगों को दूसरे दिन छोड़ दिया था।

अबूझमाड़ ओरछा कोडोली निवासी पढंरूराम पिछले बुधवार को बेटे बामन को देखने थाने में पहुंचे थे, जहां उन्हें एक दिन बैठाए रखा। पुलिस ने पिता से कहा था, तुम्हारा बेटा माओवादियों के लिए काम कर रहा है। ओरछा जनपद सदस्य राजूराम वैजामी ने बताया, बामन को बचपन से देखता आ रहा हूं, वह कभी भी माओवादियों के साथ नहीं गया। एएसपी ओपी शर्मा ने कहा, हमेशा की तरह घटना के बाद पुलिस पर आरोप लगते रहते हैं।

 मौत की सूचना नहीं दी

बामन की मौत की सूचना पुलिस ने उसके परिजनों को नहीं दी। ओरछा जनपद सदस्य राजूराम वैजामी बुधवार को बाजार करने पहुंचे, तब उन्हें इसकी जानकारी मिली। ओरछा जनपद उपाध्यक्ष सुखराम पोडियाम, ग्राम पंचायत सचिव सुखमति सहित अन्य लोग बुधवार शाम करीब 6.30 बजे मुख्यालय पहुंचकर पुलिस से शव की मांग की। पुलिस ने परिजनों के हस्ताक्षर लेकर बामन का शव सौंपा।

दैनिक भास्कर

कर्नाटक: दलित महिला के मिड डे मीलपकाने पर 100 स्टूडेंट्स ने छोड़ा स्कूल

http://www.bhaskar.com/news/NAT-NAN-dalit-woman-cooks-mid-day-meal-karnataka-school-100-children-transfer-out-5172174-NOR.html

 बेंगलुरु. कर्नाटक के कोलार जिले के एक स्कूल में छुआछूत की बानगी इस हद तक पहुंच गई है कि दलित महिला कुक के मिड डे मील पकाने पर 100 स्टूडेंट्स ने स्कूल छोड़ दिया है। गांव वाले कुक को तत्काल हटाने की मांग कर रहे हैं। शर्त रखी गई है कि जब तक महिला कुक को नहीं हटा दिया जाता है, वे अपने बच्चों को स्कूल नहीं भेजेंगे। आलम ये है कि अब कागानाहाली मिडिल स्कूल में 118 में सिर्फ 18 बच्चे ही पढ़ने के लिए आते हैं। महिला कुक ने एक साल पहले ही स्कूल में नौकरी शुरू की है।

karnatka_1447915105

स्कूल में बच्चों ने नहीं आने और मिड डे मील न खाने को लेकर सरकार की तरफ से बुधवार को जिला शिक्षा अधिकारी ने गांव वालों के साथ मीटिंग की, लेकिन वे नहीं माने। अब आलम ये है कि स्कूल में सिर्फ 18 बच्चे ही पढ़ने के लिए आते हैं। करीब 100 बच्चे स्कूल छोड़ चुके हैं। पेरेंट्स स्कूल के सभी टीचरों और कुक को बदलने की मांग कर रहे हैं।

स्कूल में मिड डे मील पकाने वाली राधाम्मा ने एक मीडिया चैनल से कहा है कि स्कूल में आने वाले सिर्फ 5 बच्चे ही उसके हाथों से बना खाना खाते हैं। दलित कुक ने ये भी कहा, ”जब मैंने स्कूल में नौकरी शुरू की तो बच्चों ने मिड डे मील और दूध पीना बंद कर दिया। मैं बच्चों से क्या कहती, उनके पेरेंट्स ने ही स्कूल में मिड डे मील खाने को मना कर दिया था।”

स्कूल के इंचार्ज वाई. एम. वेंकटाचालपथी का कहना है कि बच्चों के स्कूल नहीं आने और मिड डे मील खाना छोड़ने के पीछे जातिगत कारण नहीं है। बल्कि यह पिछले पंचायत इलेक्शन की लोकल पॉलिटिक्स का नतीजा है। स्कूल छोड़ने वाले बच्चों में कई एससी और एसटी के भी शामिल हैं। गांव के लोग स्कूल आकर अपने बच्चों के ट्रांसफर सर्टिफिकेट (TC) मांग रहे हैं।

कोलार जिले के इस स्‍कूल में बाकी 18 बच्‍चे इस शर्त पर स्‍कूल आ रहे हैं कि राधाम्‍मा मिड डे मील नहीं बनाएंगी। दलित कुक को इस काम के लिए हर महीने 1700 रुपए मिलते हैं। जो राधाम्‍मा की फैमिली के लिए बहुत मायने रखते हैं।

कागानाहाली 101 परिवारों वाला छोटा सा गांव है। जिसकी कुल आबादी 452 है। गांव में करीब 40% आबादी अनुसूचित जनजाति (ST) है, जबकि 18.14% राधाम्‍मा की तरह दलित है। बाकी ओबीसी के खुरुबास और वोक्‍कालीगास शामिल हैं।

पंजाब केसरी

पुलिस की छापेमारी, घरों से गिरफ्तार किए दलित नेता

http://punjab.punjabkesari.in/kapurthala/news/police-raided-the-homes-of-dalit-leaders-in-phagwara-415082

फगवाड़ा (जलोटा):  बुद्धवार सुबह  उस समय हड़कंप  मच गया, जब पुलिस ने दलित नेताओं के घरों में छापेमारी कर 4 नेताओं को गिरफ्तार कर लिया। नेताओं को एसडीएम फगवाड़ा के समक्ष पेश कर10 दिन के रिमांड पर भेज दिया गया है।

जानकारी के अनुसार फगवाड़ा के अलग -अलग कालेजों में पोस्ट मैट्रिक स्कालरशिप को लागू करने के लिए विद्यार्थियों के पक्ष में उतरे बसपा पूर्व पंजाब महासचिव जरनैल नंगल ,मुख्य संसदीय सचिव प्रकाश कैंथ,  हरभजन सुमन, रजिंद्र कलेर तथा एक अन्य दलित नेता को घरों में छापेमारी कर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस कार्रवाई के बाद हरभजन सुमन ने इसे इमरजैंसी राज बताया। उन्होंने कहा कि पुलिस ने उनको अपनी सफ़ाई पेश करने तक का  भी मौका नहीं दिया। फिलहाल गिरफ्तार सभी नेताओं को 10 दिनों के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया है। वहीं गिरफ्तार नेताअों के विरोध में सैंकड़ों दलित नेताअों ने राष्ट्रीय राजमार्ग 1 को प्रदर्शन कर जाम कर दिया।

दैनिक भास्कर

दलित अत्याचार, भेदभाव, आरक्षण को लेकर चर्चा

http://www.bhaskar.com/news/MP-GUNA-MAT-latest-guna-news-023504-3044873-NOR.html

गुना| अनुसूचित जाति संघर्ष समिति की बैठक बुधवार को दुर्गा कॉलोनी में कोमलप्रसाद शाक्य के निवास पर आयोजित की गई। इसमें दलितों पर अत्याचार, भेदभाव व आरक्षण दिलाए जाने को लेकर पर चर्चा हुई। साथ ही आरक्षण बचाओ संविधान बचाओ अभियान चलाए जाने के लिए राष्ट्रीय समिति की आवश्यकता पर जोर दिया गया। बैठक में इंदर सिंह को अभियान की जिम्मेदारी सौंपी गई। कार्यकारिणी की घोषणा भोपाल में किए जाने की जानकारी दी। बैठक में कैलाश यादव, एजाज खान, चंद्रभान अहिरवार चंदन सिंह अहिरवार, डॉ. गंगाराम, नरेन्द्र मांडरे, पूर्व अपर कलेक्टर केएल जाटव, करन सिंह अहिरवार एडवोकेट आदि सहित अन्य मौजूद थे।

दैनिक भास्कर

जरूरतमंदों के नहीं हो रहे कार्य सीएम विंडो पर लगाई गुहार

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-jhajjar-news-021503-3044081-NOR.html

जिलेमें सीएम विंडो पर आने वाली शिकायतों पर गौर किया जाए, तो सबसे अधिक शिकायत छोटे-छोटे सामान्य कार्यों की है, लेकिन हैरानी की बात यह है कि जरूरतमंदों इन कार्यों के लिए संबंधित विभाग के अफसर जिला अधिकारी ही हल कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए भी सीएम विंडो की मदद ली जा रही है।

लोकल स्तर पर समस्याओं का समाधान संभव

जानकारों का कहना है कि प्रतिदिन आने वाले शिकायतों में अधिकांश शिकायत दलित आर्थिक रूप से कमजोर लोगों की है। धौड़ गांव के कर्ण सिंह की विधवा कौशल्या ने बीपीएल कार्ड के लिए गुहार की। इनका कहना है कि उनका कार्ड हरे रंग का है, लेकिन कमाई का साधन होने से आर्थिक संकट रहता है। ऐसे में तीन बच्चों की पढ़ाई दूसरा खर्च चलना मुश्किल रहता है। इनका कहना है कि उनके पास कृषि योग्य जमीन है और ही कोई नौकरी है। इस प्रकार की शिकायत सीएम को दूबलधन धिक्याण पाना की सुनीता की ओर से भी गई है। इनका कहना है कि उनकी मकान की हालत भी काफी खराब है। इस प्रकार से इसी गांव की शकुंतला बीपीएल से जोड़ने की बात कही है। जानकारों का कहना है कि इस प्रकार की शिकायतों का समाधान लोकल स्तर पर ही हो सकता है, लेकिन अधिकारी संबंधित स्टाफ इस मामले में जरुरतमंदमंदों का मापदंड निर्धारित नहीं कर पा रहे हैं। परेशान लोग अब आखिरी उम्मीद के रूप में सीएम को पत्र लिख रहे हैं।

पुलिस की है अधिक शिकायतें 

सीएमविंडो पर आने वाले अधिकांश शिकायत पुलिस द्वारा कार्रवाई करने, राजस्व विभाग बीपीएल कोर्ड को लेकर है। हालांकि राजस्व विभाग के भ्रष्टाचार को लेकर विजिलेंस सतर्क है, लेकिन इसके बावजूद पटवारियों की आदत में सुधार नहीं हो रहा है। यही कारण है कि सामान्य काम लोगों के लिए समस्याओं का पहाड़ बनकर ऊभर रही है।

दैनिक भास्कर

सुनपेड़ कांड: सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे परिवार को जिंदा जलाने के आरोपी

http://www.bhaskar.com/news/c-85-1154475-pa0363-NOR.html

 फरीदाबाद। फरीदाबाद के गांव सुनपेड़ में दलित परिवार को जिंदा जला दिए जाने के मामले में आरोपियों को गुरुवार को पंचकूला स्थित सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा। बता दें कि अक्टूबर में घटित इस मामले में जहां राष्ट्रीय स्तर के नेताओं ने राजनीति चमकाने की कोशिश की, वहीं मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर के आदेश पर सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है।

 महीनेभर पहले जिंदा जला दिया था परिवार को

फरीदाबाद के गांव सुनपेड़ में सुनपेड़ गांव फरीदाबाद के बल्लभगढ़ क्षेत्र में आता है। यहां दलित समुदाय के जितेंद्र का परिवार रहता है। 20 अक्टूबर को सुबह करीब चार बजे जब जितेंद्र का परिवार सो रहा था तो घर के मेन गेट पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी गई थी। इसके बाद खिड़की के अंदर से पेट्रोल कमरे में फेंका। चीखने की आवाज सुनकर लोगों ने आग बुझाने की कोशिश की, लेकिन वे भाग नहीं पाए। घटना में जितेंद्र के पांच साल के बेटे और एक साल की बेटी की मौत हो गई थी, वहीं जितेंद्र और उसकी पत्नी रेखा गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। इसके बाद राहुल गांधी, वृंदा करात, मनोहर लाल खट्‌टर समेत देश-प्रदेश के कई बड़े नेताओं ने पीड़ित परिवार के साथ मुलाकात करके इस घटना पर संवेदनाएं व्यक्त की थी। सीएम खट्‌टर ने इस मामले की सीबीआई जांच के आदेश दिए थे। अब तक इस मामले में सात पुलिस कर्मचारी सस्पेंड हो चुके हैं।

 इस वजह से उपजा मामला

5 अक्टूबर, 2014 को अपर कास्ट के तीन युवकों की हत्या कर दी गई। तब दलित परिवार पर हत्या का आरोप लगा था। पुलिस ने 11 लोगों को गिरफ्तार किया था। दलितों को डर था कि दबंग पूरी जाति से बदला लेंगे। लिहाजा, बाकी दलित परिवार गांव छोड़कर चले गए। जितेंद्र भी उन्हीं में से था। मामला एससी-एसटी आयोग में गया। आयोग ने फरीदाबाद पुलिस कमिश्नर से इन परिवारों को दी जाने वाली सुरक्षा के बारे में पूछा। पिछले साल दिसंबर में कमिश्नर ने लिखित में कहा कि जितेंद्र के घर के पास एक पुलिस जिप्सी, आधा दर्जन हथियारबंद जवान और दो बाइक सवार जवान तैनात रहेंगे। एसएचओ खास निगरानी भी करेंगे। इस भरोसे के बाद जितेंद्र और उसका परिवार इस साल जनवरी में गांव लौटा था। इसके बाद यह आगजनी की घटना घटित हो गई।

नई दुनिया

लट्ठ लेकर पहुंचे कलेक्टोरेट, कलेक्टर नहीं मिले तो चूड़ियां फेंकी

http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/sagar-sagar-news-575938

सागर (ब्यूरो)। गरीब लोगों को 5 एकड़ भूमि दिए जाने की मांग को लेकर लट्ठ लेकर आए सैकड़ों दलित-आदिवासियों ने बुधवार को कलेक्टोरेट पहुंचकर प्रदर्शन किया। पूर्व सूचना के बाद भी कलेक्टर से मुलाकात न होने पर आदिवासियों ने पहले तो सिटी मजिस्ट्रेट अर्चना सोलंकी को ज्ञापन सौंपा और उसके बाद जिला प्रशासन पर उपेक्षा का आरोप लगाते हुए विरोध में प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और कलेक्टर के खिलाफ नारेबाजी करते हुए चूड़ियां फेंकी।

दलित महासभा के बैनर तले दलित-आदिवासियों ने 5 एकड़ भूमि का पट्टा दिए जाने की मांग को लेकर शहर के मुख्य मार्गों से जुलूस निकाला। जुलूस नगर निगम कार्यालय, पीली कोठी, सिविल लाइन होते हुए कलेक्टोरेट पहुंचा। यहां सभी प्रदर्शनकारी लट्ठ लहराते हुए लड़ेंगे, संघर्ष करेंगे के नारे लगा रहे थे और आवास व खेती के लिए पट्टे दिए जाने की मांग कर रहे थे। उन्हें जानकारी दी गई कि कलेक्टर मौजूद नहीं है तो वे वहीं बैठ गए और कहा कि कलेक्टर से मिलकर ही जाएंगे। उन्होंने कलेक्टर पर दलित और आदिवासी समाज की उपेक्षा करने का आरोप लगाया।

चूड़ियों के साथ ज्ञापन लेने की मांग

प्रदर्शनकारियों से पहले सिटी मजिस्ट्रेट ज्ञापन लेने पहुंची तो उन्होंने ज्ञापन देने से इंकार कर दिया, लेकिन जब अपर कलेक्टर डॉ. वीएस रावत ज्ञापन लेने आए तो प्रदर्शनकारी पीएम, सीएम और कलेक्टर के नाम दी जाने वाली चूड़ियां भी लेने की मांग करने लगे। श्री रावत ने जब चूड़ियां लेने से इंकार किया तो प्रदर्शनकारियों ने उन्हें ज्ञापन भी नहीं दिया, जिसके बाद वे कलेक्टर कार्यालय में जाकर बैठ गए। सिटी मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारियों की समझाइश के बाद प्रदर्शनकारियों ने ज्ञापन तो सिटी मजिस्ट्रेट को सौंप दिया, लेकिन चूड़ियां कलेक्टर कार्यालय के सामने फेंककर चले गए।

तीन साल बाद भी नहीं मिले पट्टे

राष्ट्रीय दलित महासभा एवं दलित आदिवासी भूमि अधिकार आंदोलन के नेतृृत्व में कलेक्टर के नाम सौंपे गए ज्ञापन में मांग की गई है कि भूमिहीन दलितों को 5 एकड़ भूमि देने कानून बनाया जाए, जब तक जमीन नहीं मिलती तब तक 5 हजार रुपए महीना भत्ता दें, पढ़े-लिखे बेरोजगारों को जब तक सरकारी नौकरी नहीं मिलती, तब तक 10 हजार रुपए महीना भत्ता दें। ज्ञापन सौंपने वालों में राष्ट्रीय महासचिव संजय भारती, जिलाध्यक्ष कालूदास बाबा, श्यामराज साकेत, छोटू कोल, भुवन आदिवासी, आरती कौल, परमलाल, सबीता, छतरसिंह, सियाशरण सौंधिया, स्वामीदीन कौल, मोहनलाल, मुन्ना लाल, तारा आदिवासी शामिल थे। प्रदर्शन के बाद आदिवासियों ने जिला प्रशासन को पट्टों के लिए आवेदन भी सौंपे।

इनका कहना …

पट्टे की कार्यवाही शासन स्तर पर होगी

दलित महासभा के पदाधिकारियों ने 5 एकड़ की भूमि देने सहित अन्य मांगों को लेकर ज्ञापन दिया है। पट्टे की कार्यवाही शासन स्तर पर होती है। उनकी दूसरी समस्याओं पर उचित कार्यवाही की जाएगी।

– अर्चना सोलंकी, सिटी मजिस्ट्रेट

अब भोपाल जाएंगे

जनवरी 2012 से 5 एकड़ की जमीन की मांग एवं आवासीय पट्टों के लिए मप्र, छत्तीसगढ़ सहित कई प्रदेशों में लगातार आंदोलन चल रहा है। 30 तारीख को भी हम आए थे तो कलेक्टर ने आज बुलाया था, लेकिन आज वे नहीं है। इससे हमारी उपेक्षा हुई है। जिन आदिवासियों की जमीन छीनी गई है, उन्हें दोबारा दी जाए। अब हम सभी भोपाल में प्रदर्शन करेंगे।

– संजय भारती, राष्ट्रीय महासचिव राष्ट्रीय दलित महासभा

दैनिक भास्कर

पंजाब स्टूडेंट्स यूनियन आज से लगाएगी धरना

http://www.bhaskar.com/news/PUN-OTH-MAT-latest-firozpur-news-035533-3048483-NOR.html

फिरोजपुर|पंजाब स्टूडेंट्सयूनियन की बैठकें बुधवार को आरएसडी कॉलेज और गुरु नानक कॉलेज में हुई। जोनल पदाधिकारी अमरनाथ और सुखदेव सिंह ने बताया कि इस दौरान निर्णय लिया गया कि राज्य के भलाई विभाग की ओर से जारी निर्देशों की अवहेलना कर दलित स्टूडेंट्स से फीसें लेने वाले कॉलेज प्रशासन के खिलाफ जिला मुख्यालय के सामने वीरवार से अनिश्चितकाल धरना लगाएंगे। पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के आदेशों के अनुसार भलाई विभाग पंजाब को निर्देश जारी किए हुए हैं कि दलित कोटे के स्टूडेंट्स के अकाउंट्स में कोई फीस नहीं आएगी जबकि उन्हें भत्ते ही मिलेंगे। इन बैठकों में सुखदेव सिंह, पलिवन्द्र सिंह, परमजीत सिंह, गुरचरण सिंह, सरबजीत कौर इत्यादि शामिल हुए।

 News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s