दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 18.11.15

 

दलितों पर बरपाया कहर, पथराव-फायरिंग – दैनिक भास्कर

http://www.amarujala.com/news/city/aligarh/dalits-beaten-in-chhara-hindi-news/

होमगार्ड ने पुलिस विभाग पर लगाया गैर कानूनी कार्यों में संलिप्त होने का आरोप – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-radaur-news-025503-3039347-NOR.html

शिक्षा विभाग में 50 हजार दलित अध्यापकों को किया जा रहा रिवर्ट – तरुण मित्र

http://tarunmitra.in/news.php?id=14676&title=50%20thousand%20teachers%20in%20the%20Department%20of%20Education%20being%20the%20underdog%20Revert#.VkwIVNIrJdg

किसानों को बिना भेदभाव के मुआवजा दिया जाए – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-damoh-news-021505-3039890-NOR.html

आरोपियों के परिजनों ने किया प्रदर्शन – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-KAR-MAT-latest-karnal-news-044035-3043067-NOR.html

दलित समाज 29 को विस स्पीकर के निवास का करेगा घेराव – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-jagadhari-news-021005-3039381-NOR.html

Please Watch:

Desh Deshantar – B R Ambedkar: Architect of the

Indian constitution or just a Dalit messiah?

https://www.youtube.com/watch?v=JpdPIIbxrcw

An Appeal: Please contribution to PMARC for strengthen Democracy, Peace & Social Justice !

दैनिक भास्कर

दलितों पर बरपाया कहर, पथराव-फायरिंग

http://www.amarujala.com/news/city/aligarh/dalits-beaten-in-chhara-hindi-news/

छर्रा। प्रधानी के चुनावों को लेकर खूनी खेल शुरू हो गया है। ऐसा ही वाकया गांव रुमामई में सोेमवार शाम को हुआ। यहां दलितों पर दबंगों ने जमकर कहर बरपाया। दलितों की गलती सिर्फ इतनी थी कि उन्होंने प्रधानी की तैयारी कर रहे एक प्रत्याशी और उसके समर्थकों द्वारा वोट देने के दबाव बनाने पर विरोध किया था। दबंगों ने धारदार हथियार से कई दलितों को घायल कर दिया और उन पर पथराव-फायरिंग की गई। हालांकि पुलिस फायरिंग की बात से इंकार कर रही है।

गांव निवासी इंद्रपाल व अन्य व्यक्तियों ने बताया कि प्रधान पद के एक प्रत्याशी के समर्थक सोमवार को गांव में आए थे। वह दलित समुदाय के लोगों से जबरन अपने पक्ष में वोट डलवाने के लिए दबाव बना रहे थे। इसी का विरोध दलित समुदाय के लोगाें ने किया। तब तो वह चले गए, लेकिन रात को नौ बजे करीब प्रत्याशी और उसके समर्थक गांव में आ गए और दलितों पर हमला बोल दिया। सभी ने धारदार हथियार और्र इंट-पत्थरों से उन पर प्रहार किए। इसके अलावा फायरिंग भी की।

इससे दलित समुदाय के भूप सिंह, देवेंद्र कुमार, बुधिया देवी, जानकी देवी, इंद्रपाल सिंह आदि घायल हो गए। पुलिस ने घायलों को डॉक्टरी के लिए भेजा। कोतवाली प्रभारी धीरज सिंह ने फायरिंग की बात से इंकार किया है। उन्होंने बताया कि इंद्रपाल की ओर से तहरीर दी गई है, जिसकी जांच कर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

दैनिक भास्कर

होमगार्ड ने पुलिस विभाग पर लगाया गैर कानूनी कार्यों में संलिप्त होने का आरोप

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-radaur-news-025503-3039347-NOR.html

रादौर | एकहोमगार्ड को पुलिस विभाग के उच्चाधिकारियों को भ्रष्टाचार संबंधी सूचनाएं देने पर इनाम मिलने के बजाय उसे अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है। होमगार्ड कर्मचारी सतीश कुमार निवासी पांजूपुर ने मंगलवार को रादौर में आयोजित एक पत्रकारवार्ता में कहा कि यमुनानगर पुलिस के अधिकतर अधिकारी कर्मचारी भ्रष्टाचार में लिप्त हैं। जोकि अवैध खनन, सट्टा, अवैध शराब, गौ तस्करी से लाखों रुपए रिश्वत के तौर पर डकार रहे है। होमगार्ड के जवान सतीश पांजूपुर ने बताया कि वह दलित समाज से तालुक रखता है। आरोप है कि पुलिस अधिकारियों ने उसे नौकरी से निकालते हुए दोबारा जिला सचिवालय में नजर आने पर खामियाजा भुगतने की धमकी तक दी। जबकि उसने अपनी नौकरी ईमानदारी से की है। व्यक्ति ने इंसाफ के लिए शिकायत गृहमंत्री भारत सरकार, मुख्यमंत्री हरियाणा, डीजीपी हरियाणा पुलिस पंचकूला आईजी हरियाणा पुलिस करनाल को भेजी है। 

रादौर. होमगार्डका जवान सतीश पांजपुर जानकारी देेते हुए। 

 तरुण मित्र

शिक्षा विभाग में 50 हजार दलित अध्यापकों को किया जा रहा रिवर्ट

http://tarunmitra.in/news.php?id=14676&title=50%20thousand%20teachers%20in%20the%20Department%20of%20Education%20being%20the%20underdog%20Revert#.VkwIVNIrJdg

संघर्ष समिति ने गलत तरीके से रिवर्ट पर शिक्षा विभाग के घेराव का किया ऐलान

लखनऊ। लोकसभा में पदोन्नति सम्बन्धी लम्बित बिल पास कराने और सुप्रीम कोर्ट के आदेश की आड़ में गलत तरीके से रिवर्ट किये गये हजारों दलित कार्मिकों को पुनस्र्थापित कराने के लिए जहां संघर्ष समिति का आन्दोलन लम्बे समय से जारी है, वहीं शिक्षा विभाग में लगभग 50 हजार अध्यापकों को रिवर्ट करने की कार्यवाही की भनक लगते ही दलित अध्यापकों का गुस्सा फूट पड़ा। संघर्ष समिति ने रिवर्शन की कार्यवाही का विरोध करते हुए सचिव बेसिक शिक्षा परिषद व निदेशक, बेसिक शिक्षा सहित प्रदेश के समस्त जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों को एक पत्र भेजते हुए जल्दबाजी में कोई कार्यवाही न किये जाने का अनुरोध किया गया है और यह भी इंगित किया गया है कि 90 प्रतिशत अध्यापकों की पदोन्नति बैकलाग पदोन्नति के तहत की गयी है। ऐसे में इस परिधि में आने वाले अध्यापकों को रिवर्ट किया गया तो विवश होकर आरक्षण समर्थकों को शिक्षा विभाग का घेराव करना पड़ेगा। संघर्ष समिति ने ऐलान किया है कि यदि शिक्षा विभाग में गलत तरीके से रिवर्शन की कार्यवाही की गयी तो लाखों अध्यापक आन्दोलन के रास्ते पर जाने के लिए विवश होंगे। 

आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति,उ0प्र0 के संयोजकों ने कहा कि पदावनत की कार्यवाही पूरी हो जाने के बाद जिस तरीके से शिक्षा विभाग में दलित अध्यापकों को गलत तरीके से रिवर्ट करने के लिए पूरी तैयारी कर ली गयी है। उस पर संघर्ष समिति पूरी तरह से नजर बनाये हुए है, किसी भी गलत कार्यवाही के खिलाफ पूरे उ0प्र0 के लाखों अध्यापक आन्दोलन करने पर विवश होंगे। जिस तरीके से शिक्षा विभाग में कुछ आरक्षण विरोधी मानसिकता के उच्चाधिकारियों द्वारा दलित कार्मिकों को रिवर्ट कराने के लिए सूची को अन्तिम रूप दिया जा रहा है, उस सूची में ज्यादातर अध्यापक बैकलाग के तहत अधिनियम की धारा-3(2) के तहत पदोन्नति पाये हैं, जिन्हें रिवर्ट नहीं किया जाना है। मात्र लखनऊ जनपद में ही रिवर्ट करने के लिए जो सूची तैयार कराई गयी है उसमें लगभग 2000 अध्यापकों के ऊपर रिवर्शन की तलवार लटकी हुई, जबकि यह सभी अध्यापक बैकलाग पदोन्नति सम्बन्धी नियमावली के तहत पदोन्नति पाये हैं और सबसे बड़ा चैकाने वाला मामला यह है कि आज भी इनके साथ सामान्य वर्ग के जो अध्यापक हैं वह सभी पदोन्नति पाकर समकक्ष पद पर ही कार्यरत हैं।

 दैनिक भास्कर

किसानों को बिना भेदभाव के मुआवजा दिया जाए

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-damoh-news-021505-3039890-NOR.html

दमोह| बुंदेलखंड मजदूर किसान शक्ति संगठन द्वारा एक ज्ञापन अपर कलेक्टर अनिल शुक्ला को मुख्यमंत्री के नाम सौंपा गया है। जिसमें कहा गया है कि तेंदूखेड़ा तहसील के किसानों को सूखा राहत में भेदभाव किए बिना ही न्यायसंगत मुआवजा दिया जाए। तेंदूखेड़ा तहसील में सूखा से प्रभावित किसानों को मात्र 94 लाख 15 हजार 890 रुपए स्वीकृत किया गया है जो दमोह जिले के सभी तहसीलों में सबसे कम है। जबकि तहसील तेंदूखेड़ा के अंतर्गत अधिकांश आदिवासी, दलित एवं पिछड़ा वर्ग के सीमांत किसान रहते हैं और यह क्षेत्र वर्षा पर आधारित उगाने वाली फसलों पर निर्भर है। 

 दैनिक भास्कर

आरोपियों के परिजनों ने किया प्रदर्शन

http://www.bhaskar.com/news/HAR-KAR-MAT-latest-karnal-news-044035-3043067-NOR.html

करनाल | गतदिनों सेंट थेरेसा कॉन्वेंट स्कूल में चार वर्षीय बच्ची के साथ कथित तौर पर छेड़छाड़ मामले में पुलिस ने चार कर्मचारियों के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार किया था। छेड़छाड़ मामले में चारों आरोपियों के परिजनों ने मंगलवार को शहर में प्रदर्शन प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों ने लघु सचिवालय में एसपी पंकज नैन को ज्ञापन सौंपा और मामले निष्पक्ष जांच की मांग की।

प्रदर्शनकारियों की अगुवाई कर रहे नरेंद्र मंजूरा ने कहा कि सामूहिक अश्लील हरकत का मामला आधारहीन और झूठा है। इसलिए निष्पक्ष जांच कर चार दलित पिछले परिवारों को न्याय दिलाया जाएगा। गौरतलब है कि गत दिनों कान्वेंट स्कूल में पढ़ने वाली चार वर्षीय बच्ची ने स्कूल में काम करने वाले चार चतुर्थ श्रेणी के कर्मियों पर अश्लील हरकतें करने के आरोप जड़े थे। बच्ची के आरोपों के आधार पर पुलिस ने चारों के खिलाफ मामला दर्ज काबू किया था। मामले में सीबीआई से निष्पक्ष जांच करवाने को लेकर आरोपी पक्ष के परिजन कई बार अधिकारियों को ज्ञापन सौंप चुके हैं। ग्रामीणों ने बताया कि एसपी नैन ने ज्ञापन लेते समय कहा कि मामले की जांच क्राइम टीम कर रही है। जिला पुलिस कार्रवाई में दखल नहीं दे सकती। पुलिस निष्पक्ष तौर पर काम कर रही है।

करनाल . सामूहिकअश्लील हरकत का मुकदमा निरस्त करने की मांग को लेकर प्रदर्शन करते आरोपियों के परिजन। 

 दैनिक भास्कर

दलित समाज 29 को विस स्पीकर के निवास का करेगा घेराव

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-jagadhari-news-021005-3039381-NOR.html

यमुनानगर|हरियाणा अनुसूचितजाति राजकीय अध्यापक संघ की मीटिंग खंड प्रधान संजीव खदरी की अध्यक्षता में पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस जगाधरी में हुई। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार अनुसूचित जाति के साथ भेदभाव करने पर उतारू है। सरकार ने अभी तक भी अनुसूचित जाति के लिए बैकलॉग को भरने का कोई निर्णय नहीं लिया है और ही 85वां संविधान संशोधन लागू करने बारे कोई ठोस रणनीति बनाई है। खंड सचिव राकेश कुमार ने बताया की सरकार की इन्हीं दलित विरोधी नीतियों के खिलाफ संघ 29 नवंबर को संविधान बचाओ-आरक्षण बचाओ, आंदोलन के तहत विस स्पीकर कंवरपाल गुर्जर के निवास का घेराव करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर सरकार फिर भी मांगों को लागू नहीं करती तो दलित समाज 6 दिसंबर को करनाल में मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने पर विवश हो जाएगा। मौके पर राजबीर, उषा रानी, कमल देव, सोहन लाल, प्रवीण कुमार, भारती रानी राजीव कुमार मौजूद रहे। 

 News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s