दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 14.11.15

झांसी में दलित बच्ची का सिर पत्थर से कूचकर हत्या, रेप के बाद मारे जाने की आशंका – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/UP-dalit-girl-killed-in-uttar-pradesh-rape-suspected-5167139-PHO.html

घर में घुसकर युवक के सिर में रॉड मारी – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-MUR-MAT-latest-morena-news-041557-3014396-NOR.html

मामूली तकरार को लेकर युवक की हत्या – पंजाब केसरी

http://punjab.punjabkesari.in/barnala/news/minor-collision-killed-the-young-man-413803

अलीगढ़: पटाखे जलाने को लेकर दो समुदायों में पथराव-फायरिंग, इलाज के दौरान एक की मौत – दैनिक भास्कर 

http://www.bhaskar.com/news/UP-LUCK-communal-tension-in-aligarh-over-fire-crackers-brickbatting-and-firing-5167018-PHO.html

विवाहिता से छेड़खानी, विरोध करने पर पीटा – प्रभात खबर

http://www.prabhatkhabar.com/news/patna/story/606926.html

पटना रेप केस: जांच को पहुंची महिला आयोग की टीम, कार्रवाई पर जताई नाराजगी न्यूज़ 18 

http://hindi.news18.com/news/bihar/team-of-national-women-commission-reaches-patna-to-know-about-rape-case-1004060.html

हिनौता गांव में आग लगने से 5 घर जले – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/kaushambi/kaushambi-news-hindi-news-249/

लड़कर पाया आत्मसम्मान, अब लड़ती है दूसरों के लिए – नई दुनिया

http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/dhar-found-self-respect-by-fighting-now-fights-for-others-565084

दलितों के उत्थान के लिए मांग पत्र सौंपा : डा. कमल – दिनक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/PUN-OTH-MAT-latest-kadiya-news-023504-3016716-NOR.html

त्योहारों के दौरान सांप्रदायिक दंगो को क्यों मिलता है बढ़ावा? हरित खबर

http://haritkhabar.com/2015-11-why-did-communal-riots-increase-during-festivals-13-17/

गरीबों के बीच मनाई सार्थक दिवाली बांटे कपड़े, मिठाइयां और पटाखे – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-GWA-HMU-MAT-latest-gwalior-news-035534-3014360-NOR.html

Please Watch:

Why can’t an academic deliver a lecture on secularism without police protection? – Romila Thapar

https://www.youtube.com/watch?v=eZaf_JkS7rI

 Anish Kapoor and Lord Karan Bilimoria discuss India

https://www.facebook.com/Channel4News/videos/10153333364986939/

An Appeal: Please contribution to PMARC for strengthen Democracy, Peace & Social Justice !

दैनिक भास्कर

झांसी में दलित बच्ची का सिर पत्थर से कूचकर हत्या, रेप के बाद मारे जाने की आशंका

http://www.bhaskar.com/news/UP-dalit-girl-killed-in-uttar-pradesh-rape-suspected-5167139-PHO.html

 झांसी. झांसी के गरौठा थाना इलाके के आति गांव में छह साल की दलित बच्ची की पत्थर से कूचकर हत्या कर दी गई। बच्ची का शव गांव से कुछ दूरी पर मिला। उसका सिर पत्थरों से कुचला हुआ था। गला कपड़े से कसा गया था। बच्ची के रेप के बाद हत्या की आशंका है। बताया जा रहा है कि पहले कपड़े से गला दबाकर हत्या की गई। इसके बाद उसका सिर पत्थर से कुचला गया।

घटना से गांव में हड़कंप है। गरौठा थानाध्यक्ष संजीव यादव ने बताया कि अभी रेप की पुष्टि नहीं है। बताया जा रहा है कि आति में मिश्रित आबादी है। गांव के हीरालाल अहिरवार की बेटी गुरुवार शाम लापता हो गई। घरवालों ने छानबीन की, लेकिन वह नहीं मिली। शुक्रवार सुबह उसका शव गांव के बाहर खलिहान में मिला। उसके कपड़े अस्त-व्यस्त थे।

दैनिक भास्कर

घर में घुसकर युवक के सिर में रॉड मारी

http://www.bhaskar.com/news/MP-MUR-MAT-latest-morena-news-041557-3014396-NOR.html

गुरुवार को लिखी गई रिपोर्ट से पहले भी हर साल भानु व दीपक पक्ष के बीच विवाद हुए। जिसमें दीपक व उसके भाईयों ने मिलकर भानु को गंभीरी चोट पहुंचाईं। बावजूद इसके पुलिस ने दीपक पक्ष के खिलाफ कार्रवाई न कर दो बार तो भानु को ही मुलजिम बना दिया। जब भी ये लोग भानु को पीटते हैं उसके बाद खुद भी कोतवाली पहुंचकर रिपोर्ट लिखाते हैं। जबकि पुलिस इसका कोई समाधान नहीं कर रही है।

हालत गंभीर, फरियादी बोला- आरोपियों पर पुलिस नहीं कर रही कार्रवाई

मुरैना सिग्नल बस्ती मोहल्ले में एक दलित परिवार के चार भाईयों ने मिलकर दूसरे दलित परिवार के घर पर धावा बोल दिया। पूर्व की रंजिश के चलते इन लोगों ने इस घर में एक युवक के सिर में रॉड मारी। साथ ही उसकी जमकर मारपीट की। वे इसे घायल अवस्था में पड़ा छोड़ गए। जब गंभीर घायल युवक कोतवाली पहुंचा तो हमलावर भी रिपोर्ट लिखाने कोतवाली जा पहुंचे। क्योंकि ये लोग पहले भी तीन बार इस युवक की इसी तरह गंभीर मारपीट करके इसके खिलाफ रिपोर्ट लिखा चुके हैं। 

सूत्रों के मुताबिक गुरुवार को सिग्नल बस्ती निवासी भानुप्रताप सिंह बसेड़िया पुत्र रामप्रसाद के घर पर इसी मोहल्ले के दीपक लवानियां पुत्र रामजीलाल व उसके भाईयों मनोज, कमल सिंह व राजकुमार ने मिलकर हमला किया। इन लोगों ने पूर्व की रंजिश पर हर साल की तरह इस बार भी भानु को गंभीर चोट पहुंचाई। गंभीर घायल भानु ने बताया कि दीपक कहीं बाहरी जिले में काम करता है जो दो दिन पहले ही मुरैना आया है। जिसने अपने भाईयों के साथ मिलकर रंजिश पर से आज घर में घुसकर यह हमला किया है। इसके बाद ये सब तब कोतवाली जा पहुंचे जब वह रिपोर्ट लिखाने गया। 

पंजाब केसरी

मामूली तकरार को लेकर युवक की हत्या

http://punjab.punjabkesari.in/barnala/news/minor-collision-killed-the-young-man-413803

बरनाला : गांव पंडौरी के एक दलित परिवार से संबंधित युवक की 2 युवकों द्वारा मामूली तकरारबाजी को लेकर किरच मारकर हत्या कर दी।

2015_11image_11_00_405323305untitled-ll

जानकारी के अनुसार एकम सिंह पुत्र कौर सिंह निवासी पंडौरी की गत दिवस ताश खेलते समय संदीप  सिंह व जशनदीप सिंह दोनों निवासी पंडौरी से तकरार हो गई थी

इसी के चलते जब एकम सिंह मोटरसाइकिल पर गांव पंडौरी निहालूवाल लिंक सड़क पर जा रहा था तो उक्त दोनों युवकों ने उस पर हमला कर दिया। इसी दौरान लड़ाई खत्म करवाने के लिए आया युवक गुरतेज सिंह भी घायल  हो गया। 
दोनों को सिविल अस्पताल महलकलां में भर्ती करवाया गया जहां एस.एम.ओ. कमलजीत सिंह ने एकम सिंह को मृत घोषित कर दिया।

दैनिक भास्कर 

अलीगढ़: पटाखे जलाने को लेकर दो समुदायों में पथराव-फायरिंग, इलाज के दौरान एक की मौत

http://www.bhaskar.com/news/UP-LUCK-communal-tension-in-aligarh-over-fire-crackers-brickbatting-and-firing-5167018-PHO.html

 अलीगढ़. यूपी में सांप्रदायिक माहौल शांत होता नहीं दिख रहा। गुरुवार देर रात देल्‍ही गेट थाना इलाके के कैलाश गली में पटाखे जलाने को लेकर दो समुदायों में विवाद हो गया। जिसके बाद यहां जमकर हंगामा हुआ। दो समुदायों के बीच पथराव और फायरिंग में शुक्रवार को इलाज के दौरान एक दलित युवक की मौत हो गई। ऐसे में लोगों का आक्रोश दोबारा फूट पड़ा। फिलहाल मौके पर तनाव को देखते हुए पुलिस बल तैनात कर दी गई है।

जिला प्रशासन ने आनन-फानन में दलित युवक का पोस्मार्टम कराकर अपनी निगरानी में अंतिम संस्कार कराया। इससे पहले परिवार ने जिला प्रशासन से युवक के शव को सौंपने को कहा, लेकिन प्रशासन तैयार नहीं हुआ। पुलिस के अनुसार, अगर दलित युवक का शव उसके घर पर पहुंचेगा तो मामला दोबारा भड़क सकता है। इसलिए पोस्‍टमार्टम हाउस से ही शव को सीधे श्मशान घाट ले जाया गया। जिला प्रशासन ने दलित युवक की मौत पर 10 लाख रुपए का मुआवजा राशि का एलान किया है। हालांकि, परिजनों का आरोप था कि जब दादरी में अखलाक के परिजनों को 45 लाख रुपए और फ्लैट दिया गया है, तो उन्‍हें भी उतनी ही मुआवजा मिलनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि ऐसा भेदभाव क्यों किया जा रहा है?

इलाज के दौरान युवक की हुई मौत

बताते चलें कि गुरुवार की रात अलीगढ़ के थाना देल्ही गेट के कैलाश गली और सराय मिया में दो समुदाय के बीच पथराव और फायरिंग शुई थी। इस घटना में गौरव पुत्र सुबाश चंद्र की जांघ में गोली लगी थी, जिसे नाजुक हालत में जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। शुक्रवार को करीब दोपहर 12 बजे इलाज के दौरान गौरव की मौत हो गई। इसके बाद प्रशासन ने आनन-फानन में शव का पोस्‍टमार्टम कराया और पुलिस की निगरानी में दलित युवक का अंतिम संस्कार कराया गया।

बीजेपी सांसद ने कहा- मुआवजे में भेदभाव ठीक नहीं

पोस्‍टमार्टम के दौरान मोर्चरी में बीजेपी सांसद सतीश गौतम, एटा सांसद राजवीर सिंह, मेयर शकुंतला भर्ती, कांग्रेस के पूर्व विधायक विवेक बंसल सहित तमाम नेता मौजूद रहे। सांसद सतीश गौतम ने कहा कि यूपी में दादरी और अलीगढ़ लगता है कि देश से अलग हैं। दादरी में मृतक के परिजनों को मुआवजे की राशि 45 लाख रुपए और एक फ्लैट दी गई, वहीं अलीगढ़ में मृतक के परिजनों को सिर्फ 10 लाख रुपए दिए जा रहे हैं। ये सरकार का भेदभाव ठीक नहीं है। प्रदेश में एक सामान मुआवज़ा दिए जाना चाहिए।

प्रभात खबर

विवाहिता से छेड़खानी, विरोध करने पर पीटा

http://www.prabhatkhabar.com/news/patna/story/606926.html

फतुहा : थाना क्षेत्र के चकसुल्तानपुर गांव में विवाहिता के साथ छेड़खानी और मारपीट कर सोने की चेन छीने जाने का मामला प्रकाश में आया है. जानकारी के अनुसार चकसुल्तानपुर निवासी सुधा देवी अपने घर में स्नान कर रही थीं तभी मुराजपुर निवासी उमेश कुमार उसके घर में घुस गया और छेड़खानी करने लगा.  मारपीट कर उसके गले से सोने की चेन झपट कर भाग गया. इस संबंध में पीड़िता ने नामजद प्राथमिकी दर्ज करायी है. 

दलित युवक को पीटा : मसौढ़ी. पुनपुन के घरहरा के समीप 22 सितंबर को दशहरा का मेला देख कर लौट रहे एक दलित को कुछ बदमाशों ने जातिसूचक शब्दों का प्रयोग कर मारपीट कर रुपये छीन लिये. इस संबंध में एससीएसटी थाने मे लिखित शिकायत के बाद केवरा निवासी विमल कुमार ने पुनपुन थाने मे शुक्रवार को घरहरा गांव के कुछ लोगों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज करायी है. 

विमल ने बताया कि जब वह दशहरा मेला देख कर अपने घर लौट रहा था, तभी उक्त लोगों ने उसके साथ बदसलूकी कर जातिसूचक शब्दों का प्रयोग किया, जब इसका विरोध जताया गया, तो उन्होंने  रॉड से मारापीटा. 

विवाहिता को पीटा : मसौढ़ी. पुनपुन थाना अंतर्गत मनोहर गांव मे 6 सितंबर को एक विवाहिता को मामूली विवाद में उसके ससुरालवालों ने जम कर पिटाई कर दी. पीड़ित महिला मुन्नी देवी ने एसएसपी के पास न्याय की गुहार लगायी है. पुनपुन थाने मे मामला दर्ज कराया गया. मुन्नी देवी ने बताया कि उसके सास-ससुर समेत अन्य लोगों ने उसके साथ बदसलूकी की और विरोध करने पर मारपीट की. किसी तरह भाग कर उसने अपनी जान बचायी. 

न्यूज़ 18 

पटना रेप केस: जांच को पहुंची महिला आयोग की टीम, कार्रवाई पर जताई नाराजगी

http://hindi.news18.com/news/bihar/team-of-national-women-commission-reaches-patna-to-know-about-rape-case-1004060.html

कलेक्ट्रिएट कैंपस में बीते दिनों हुए नाबालिग से दुष्कर्म मामले की जांच के लिए आज राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम पीड़िता के घर पर पहुंची. टीम ने इस पूरे मामले पर पीड़िता और उसके परिजनो से जानकारी ली.

इस पूरे मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य सुषमा साहू ने पुलिस के अब तक किए गये अनुसंधान पर नाराजगी जाहिर करते हुए दोषियों पर शीघ्र कारवाई करने का निर्देश दिया .

राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य सुषमा साहू ने कहा कि इस पूरे मामले में पुलिस का रवैय्या ठीक नही है. पटना कलेक्ट्रिएट कैंपस में सोमवार की शाम दलित नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म हुआ था.

शर्मनाक घटना तब घटी जब बच्ची अपने घर से दूध लाने के लिए अंटाघाट गयी थी. पटना कलेक्ट्रिएट कैंपस में दलित जाति की नाबालिग बच्ची के साथ रेप के मामले पर पटना के पुलिस कप्तान विकास वैभव ने कहा कि नामजद आरोपियो के खिलाफ पुलिस ने महिला थाना में प्राथमिकी दर्ज कर ली है.

एसएसपी ने कहा कि फर्द बयान के आधार पर दर्ज की गयी प्राथमिकी के बाद कार्रवाई के लिए कई टीमें गठित की गई हैं.

राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य सुषमा साहू ने इस मामले में पुलिस के अनुसंधान पर नाराजगी जाहिर करते हुए जल्द से जल्द कार्रवाई का निर्देश दिया है.

अमर उजाला

हिनौता गांव में आग लगने से 5 घर जले

http://www.amarujala.com/news/city/kaushambi/kaushambi-news-hindi-news-249/

चूल्हे की चिंगारी से भड़की आग से शुक्रवार की दोपहर हिनौता गांव की दलित बस्ती में आग लग गई। आसमान चूमती लपटों ने देखते ही देखते 5 किसानों का घर जलाकर राख कर दिया। आग से कपड़े, बिस्तर, बर्तन, खाद्यान्न समेत गृहस्थी का सारा सामान भी राख हो गया। घटना के समय घर बंद होने से कोई भी सामान बचाया नहीं जा सका। उधर, घरों से उठती आसमान चूमती लपटें देख पूरे गांव में हाहाकार मच गया।

घंटों जूझने के बाद गांववाले आग पर काबू पा सके। वहीं सूचना देने के बाद भी दमकलकर्मियों और प्रशासनिक अफसरों के गांव नहीं पहुंचने से भी लोगों में जबरदस्त गुस्सा है। आग में सब कुछ गंवा देने से पांच परिवार अब खुले आसमान के नीचे आ गए हैं।

 महेवाघाट थाना क्षेत्र के हिनौता गांव की दलित बस्ती में शुक्रवार की दोपहर करीब 2 बजे अचानक आग लग गई। बस्ती के बाबूलाल सरोज के घर से लगी आग देखते ही देखते दशरथलाल, बच्चा लाल, शिवभवन और बच्चीलाल के मकानों को भी अपनी आगोश में ले ली। जिस समय बस्ती में आग लगी। ज्यादातर घरों में ताला बंद था। परिवार के सभी लोग खेतों में काम करने गए थे। इससे देखते ही देखते आग ने विकराल रूप धारण कर लिया। एक के बाद एक मकान को जलाती हुई लपटें आसमान चूमने लगी, तो गांव में हाहाकार मच गया।

चीखते-चिल्लाते गांव के लोग खेतों से भागकर पहुंचे। आसपास के अन्य गांवों के लोगों की भी भीड़ जमा हो गई। सैकड़ों ग्रामीण हैंडपंपों से पानी ला-लाकर आग बुझाने में जुट गए। करीब 3 घंटे की मशक्कत के बाद गांववालों ने किसी तरह आग पर काबू पाया। हालांकि जब तक आग बुझाई जाती। दशरथलाल, बच्चालाल, बाबूलाल, शिवभवन और बच्चीलाल का पूरा मकान, बर्तन, बिस्तर, कपड़े, खाद्यान्न समेत गृहस्थी का सारा सामान जलकर राख हो चुका था। मकान बंद होने के कारण कोई भी सामान जलने से बचाया नहीं जा सका। ग्रामीणों का अनुमान है कि शुक्रवार की दोपहर लगी आग से 5 से 8 लाख रुपये से भी ज्यादा का सामान जला है। उधर, घरों में आग कैसे लगी? इसकी सही जानकारी किसी को नहीं है। पर, गांववालों का मानना है कि दोपहर खाना बनाने के बाद चूल्हे की आग ठीक तरीके से नहीं बुझाने के कारण यह हादसा हुआ है।

हिनौता गांव में शुक्रवार की दोपहर भीषण आग लगने से 5 मकान और लाखों की गृहस्थी राख हो गई। आसमान चूमती लपटें देख घबराए ग्रामीणों ने इसकी सूचना पश्चिमशरीरा और मंझनपुर स्थित फायरस्टेशन को दी। गांववालों ने बताया कि करीब तीन घंटे तक सैकड़ों लोग आग बुझाने में जूझे। इसके बाद कहीं आग पर काबू पाया जा सका। वहीं सूचना देने के बाद भी दमकलकर्मी और प्रशासन का कोई भी अधिकारी, कर्मचारी गांव नहीं पहुंचा। दमकलकर्मियों के मौके पर नहीं पहुंचने से गांववालों ने जबरदस्त गुस्सा है।

चूल्हे की चिंगारी से हिनौता गांव की दलित बस्ती के 5 घर और उनकी जीवन भर से कमाकर जुटाई गई सारी गृहस्थी राख में तब्दील हो गई। आग लगने से हुई बर्बादी का आलम यह है कि पीड़ित परिवारों के पास तन पर रहे कपड़ों के सिवा कुछ नहीं बचा है। ऐसे में अब इन भुक्तभोगियों के सामने जाड़े की रात सिर छुपाने की समस्या के साथ निवाले के इंतजाम का भी संकट आ गया है।

आग में सबकुछ खाक होने से परिवार की महिलाएं तो आंसू ही बहा रही हैं। जली हुई गृहस्थी देखकर बिलख रही दशरथलाल की पत्नी रेखा देवी तो यही कहकर दहाड़ें मार रही थी कि अब वह अपनी बेटी का ब्याह कैसे करेगी। रेखा के पति ने बताया कि उसने अपनी बेटी रिंकी की शादी तय कर रखी है। सगाई भी हो चुकी है। पूरा परिवार बेटी की शादी के इंतजाम में दिन-रात लगा हुआ था। इसी बीच कहर बनकर घर में लगी आग से देखते ही देखते सारी गृहस्थी स्वाहा हो गई। ऐसा ही दर्द शिवभवन को भी है। शिवभवन ने बताया कि उसके भी बेटे विनोद का रिश्ता पक्का हुआ है। अभी तारीख तय नहीं हुई थी। कहाकि अब आग में सब कुछ स्वाहा हो चुका है। ऐसे में इस साल बहू ले आना मुश्किल होगा। 

आग लगने से बृहस्पतिवार को सैनी के शीतलाधाम स्थित एक दुकान में आग लगने से हजारों रुपये का सामान जल गया। शीतलाधाम निवासी विजय शंकर पुत्र भोलानाथ की दुकान में आग लगने से टीवी, इनवर्टर, परचून का सारा सामान राख हो गया। भुक्तभोगी के मुताबिक आग लगने से उसे करीब 60-70 हजार रुपये का नुकसान हुआ है। दुकान में आग बिजली की शार्टसर्किट के कारण लगने का कयास लोग लगा रहे हैं। इसी तरह से मूरतगंज के सगरा गांव में बृहस्पतिवार को रामसखी पत्नी भीमसेन के मकान में आग लग गई। इससे उसका भी सारा सामान जल गया। रामसखी का आरोप है कि रंजिश में उसके घर में आग लगाई गई है। भुक्तभोगी की शिकायत पर कोखराज पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।

नई दुनिया

लड़कर पाया आत्मसम्मान, अब लड़ती है दूसरों के लिए

http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/dhar-found-self-respect-by-fighting-now-fights-for-others-565084

धार। दलित परिवार में जन्मी निकिता उम्र के लिहाज से तो बहुत छोटी है लेकिन वह अपने हक की लड़ाई लड़ने में पीछे नहीं हटती है। वर्ष 2014 में उसके साथ में एक अतिथि शिक्षक ने केवल इसलिए भेदभाव किया था क्योंकि उसके पिता और परिवार के लोग दलित होने के साथ-साथ सफाईकर्मी के तौर पर काम करते थे। निकिता को यह बात आपत्तिजनक लगी और उसने इसके लिए लड़ाई लड़ना शुरू की। आज निकिता के साथ में स्कूल में कोई भेदभाव नहीं करता है। महज 13 साल की उम्र की यह निकिता अब दलित परिवार के अन्य बच्चों के लिए भी प्रेरणा का काम करती है। इसके अलावा यदि छुआछूत जात-पात से लेकर और भी किसी स्तर पर यदि बच्चों को परेशान किया जाता है तो वह आगे खड़ी हो जाती है।

निकिता झांझोट एक ऐसी बच्ची है जिसने कि 2014 में पूरे शिक्षा तंत्र को चिंता में डाल दिया था। इसकी वजह यह थी कि स्कूल में पढ़ाई के दौरान ही उसकी एक अतिथि शिक्षक द्वारा उपेक्षा करने के साथ-साथ उसके साथ भेदभाव किया गया था। निकिता ने तुरंत ही इस पीड़ा को अपने माता-पिता के साथ साझा किया। इसके बाद निकिता ने तुरंत ही पिता को कहा कि इस बात की शिकायत पुलिस में करें। इस संबंध में पिता दिलीप झांझोट तैयार ही नहीं थे, लेकिन निकिता द्वारा जोर दिए जाने पर पिता पुलिस के पास पहुंचे। इसके बाद आदिवासी विकास विभाग से लेकर जिला शिक्षा केंद्र हरकत में आया और अतिथि शिक्षक को तुरंत ही हटाया गया। साथ ही तुरंत ही हिदायत दी गई कि कोई भी भेदभाव न करे।

भेदभाव का डटकर करें सामना

निकिता ने नईदुनिया को चर्चा में बताया कि पिछले एक साल से मुझे स्कूल में समानता का दर्जा मिल रहा है। मैं न केवल दलित परिवार के बच्चों को बल्कि अन्य बच्चों को भी यही सलाह देती हूं कि कोई भी ऐसी बात होती है जिससे कि उनके मन पर असर पड़ता है तो सबसे पहले इसकी जानकारी अपने माता-पिता को दें। लड़की होने के नाते निकिता ने कहा कि कई बार लड़कियों के साथ दूसरी परेशानियां भी होती हैं। इसलिए उन सब बातों को भी माता-पिता से बताना समझदारी होती है। इसके बाद पुलिस को जानकारी देना ही सबसे बढ़िया है। निकिता ने कई बच्चों को यह सीख दे रखी है कि वे भेदभाव को लेकर डटकर लड़ाई लड़े। उल्लेखनीय है कि निकिता ने अपने साथ हुई घटना की शिकायत अपने पिता के माध्यम से प्रधानमंत्री तक कर दी थी। इस तरह का साहस 13 साल की बच्ची में कम ही देखने में मिलता है। वर्तमान में निकिता ग्राम सादलपुर के मीडिल स्कूल में कक्षा आठवीं में अध्ययनरत है। निकिता ने न केवल स्वयं के लिए बल्कि अपने भाई और अन्य कई बच्चों के लिए लड़ाई लड़कर एक विशेष पहचान बनाई है।

फक्र है बेटी पर

निकिता के पिता दिलीप झांझोट ने नईदुनिया को चर्चा में बताया कि मुझे अपनी बेटी पर फख्र है। मैंने कभी नहीं सोचा था कि हमारे परिवार में जन्मी बेटी अपने आत्मसम्मान के लिए इस तरह लड़ाई लड़ेगी और अन्य बच्चों के लिए बतौर प्रेरक के काम करेगी। मुझे खुशी है कि वह उन प्रक्रियाओं को जानती है जिसको लेकर हममे अज्ञानता है। मैं चाहता हूं कि बड़े होकर निकिता ऐसी ही लड़ाई लड़ते रहे जिससे कि समाज में व्याप्त समानता और भेदभाव तथा छुआछूत समाप्त हो।

दिनक भास्कर

दलितों के उत्थान के लिए मांग पत्र सौंपा : डा. कमल

http://www.bhaskar.com/news/PUN-OTH-MAT-latest-kadiya-news-023504-3016716-NOR.html

गतदिवसभाजपा मंडल प्रधान कमल ज्योती की अध्यक्षता में एक प्रतिनिधि मंडल द्वारा पंजाब प्रधान कमल शर्मा को मिलकर उन्हें दलित समाज के उत्थान के लिए मांग पत्र सौंपा गया। 

इस संबंध में जानकारी देते हुए डा कमल ज्योती ने बताया कि उन्होंने भाजपा के पंजाब के प्रधान कमल शर्मा को मिल कर उन्हें दलित समाज के उत्थान के लिए कहा है। उन्होंने बताया कि उनके क्षेत्र में दलित समाज को नजर अंदाज किया जा रहा है जिस कारण केन्द्र तथा पंजाब की स्कीमें उन तक नहीं पहुंच पा रही हैं। उन्होंने कहा कि इसी तरह गांवों तथा डेरों की जाने वाली सडक़ों की दुव्यवस्था के बारे में भी पंजाब प्रधान को बताया गया है कि विभागीय अधिकारीयों द्वारा गांवों को जाने वाली सडक़ों पर पड़े खडडों को भरने के लिए चारकोल तथा बजरी डाल कर खानापूर्ति कर दी गई है। उन्होंने बताया कि दो बारिशों के बाद वहां फिर से गढडे बन जाएंगे जोकि एक बड़ी समस्या का कारण बन सकते हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार को सडक़ों के निर्माण की ओर ध्यान देना चाहिए। पंजाब प्रधान कमल शर्मा ने डा. कमलज्योती को आश्वासन दिलाया है कि इस मामले में वह मुख्यमन्त्री प्रकाश सिंह बादल से बात करके ये मामले उनके समक्ष उठायेंगे। 

उन्होंने आश्वासन दिलाया गया कि पंजाब सरकार विकास के लिए वचनबद्ध है। इस अवसर पर उनके साथ भायुमों के पंजाब प्रधान शिवबीर सिंह राजन तथा उपप्रधान अमित सांपला भी मौजूद थे। 

पंजाब प्रधान कमल शर्मा को मांग पत्र सौंपने के बाद भाजपा के मंडल प्रधान कमल ज्योंति अन्य।

हरित खबर

त्योहारों के दौरान सांप्रदायिक दंगो को क्यों मिलता है बढ़ावा?

http://haritkhabar.com/2015-11-why-did-communal-riots-increase-during-festivals-13-17/

 वैसे तो यूपी में सांप्रदायिक अनबन का होना आम सा हो गया है, लेकिन त्योहारों के दौरान जैसे इन्हें और सह मिल जाती है। यह अनबन किसी समुदाय के कुछ ही लोग करते है लेकिन इसके परिणाम बहुत से लोगों को भुगतने पड़ते हैं। इन कुछ लोगों का काम ही समाज में दहशत फैलाना होता है और ये हमेशा इस तरह के मौके ढूंढते रहते हैं। इस कार्य में बहुत से नेता भी शामिल होते हैं जिनमें कुछ हिंदुत्व के महारथी होते हैं और कुछ मुसलमानों के गुरु लेकिन मकसद दोनों का एक ही होता है समाज में अशांति फैलाना। ऐसा ही कुछ मेरठ के थाना ब्रह्मपुरी क्षेत्र के पूर्वा इलाही बख्श में सैनी वाली गली में पटाखे चलने को लेकर दो संप्रदायों में अनबन हो गई और जिसके बाद नौबत लड़ाई झगड़े और पत्थर-पथराव तक आ गई।

सैनी वाली गली में गुरुवार की रात पटाखा छुड़ाने पर विवाद हो गया था। सैनी वाली गली में रहने वाले शंकर और उसके साथी पटाखा छुड़ा रहे थे। वहां पहुंचे हनीफ ने पटाखे छुड़ाने का विरोध किया, जिसे लेकर दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई थी। वहीं क्लीनिक करने वाले एक डॉक्टर की दुकान और बाइक में तोड़फोड़ का प्रयास किया गया। बात इतनी बढ़ गई कि दोनों पक्षों के लोग आमने-सामने आ गए और एक दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया। रात में पहुंची पुलिस ने किसी तरह दोनों पक्षों को समझा-बुझाकर मामला शांत किया। दोनों पक्षों ने थाना ब्रह्मपुरी में एक दूसरे के खिलाफ तहरीर दी थी।

आज सुबह किसी तरह पुलिस ने दोनों को समझा बुझाकर शांत किया, लेकिन दोपहर में फिर से दोनों संप्रदाय के लोग आमने -सामने आ गए। दोनों पक्षों में पथराव हुआ, जिससे मौके पर अफरा-तफरी मच गई। आनन-फानन में एसएसपी डीसी दूबे, एसपी सिटी ओमप्रकाश समेत तमाम पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और भीड़ को तितर-बितर किया। एसएसपी ने घटनास्थल का निरीक्षण किया और कानून हाथ में लेने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए। मौके पर पहुंचे डीएम पंकज यादव ने भी माहौल खराब करने वालों से सख्ती से निपटने के लिए कहा।

सवाल यह है कि कब तक इस तरह के लड़ाईयों को कैसे रोका जाए? दोनों दलों के कुछ विरोधी लोगों इस तरह की लड़ाईयों को इतना बढ़ावा देते हैं कि यह लड़ाई दंगे में तब्दील हो जाती है और दोनों दलों के बीच नफरत और भी बढ़ जाती है। खास करके  मोदी के सत्ता सँभालने पर हिंदुत्व के महारथी अब खुलकर गाली-गलौज पर उत्तर आये हैं और इसके लिए उन्होंने कई मोर्चे एक साथ खोल लिए हैं। उद्देश्य है अलग अलग तरीके से विभिन्न जातियों को बांटा जाए और जरुरत पड़े तो उन्हें मुसलमानो के खिलाफ इस्तेमाल किया जाए।

मीडिया का भरपूर इस्तेमाल किया जाए और पाकिस्तान, इस्लाम आदि के नाम पर मुसलमानो पर दवाब डाला जाए. दूसरी और आरक्षण को लेकर दलितों और पिछडो को बदनाम करने वाली बाते और आलेख टीवी और प्रिंट मीडिया में छापे जाएँ। जातिगत आंकड़ों की बात करने वालो को जातिवादी घोषित कर दिया जाए ताकि ‘ब्राह्मणवादी’ ‘सत्ताधारी अपनी जड़े मज़बूत कर सके। सत्ता में आने पर संघ ने दलित पिछडो के दो चार नेताओ को कुछ दाना तो फेंका पर सत्ता पर ब्राह्मण, बनियो का बर्चस्व इतना पहले कभी नहीं था जितना आज है।  

इस वर्ष प्रेदश में होने वाले सांप्रदायिक दंगों की संख्या 84 से बढ़कर 118 हो गई है। इन दंगों मे 39 लोंगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। जबकि 500 लोग घायल हुए हैं। वहीं 2013 में प्रदेश में होने वाले सांप्रदायिक दंगों में पिछले साल की तुलना में दोगुना हुए  हैं। इसी वर्ष मुजफ्फरनगर हिंदू-मुस्लिम दंगों का गवाह बना है। इस वर्ष प्रदेश में 247 दंगें दर्ज किए गए हैं, जिनमें 77 लोग मारे गए हैं और 360 लोग घायल हो गए हैं। वहीं सैकड़ों लोगों का अपना घर छोड़ने को मजबूर होना पड़ा है। करोड़ों की संपत्ति का नुकसान हुआ।

लेकिन आज तक मुजफ्फरनगर दंगों के आरोपियों को गिरफ्तार नहीं किया गया। न ही सही से केस की जांच हुयी। प्रदेश सराकर की ओर से बनायी गयी कमेटी ने इसी साल सितंबर के महीने में अपनी जांच रिपोर्ट राज्यपाल को सौंपी। इससे सार्वजनिक होने से पहले ही नोएड़ा के बिसहड़ा गांव में एक बार फिर से हिंदुओं के समूह ने गौमांस खाने की अफवाह के चलते एक मुस्लिम समाज के युवक अखलाफ को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। घटना पर दो तीन दिन शांत रहने के बाद सरकार ने 45 लाख रुपये देकर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया।

अखिलेश सरकार के शासन के दौरान 2014 पहला ऐसा साल था, जिसमें सांप्रदायिक दंगों में कमी देखी गयी थी। वर्ष 2014 में 133 सांप्रदायिक दंगें दर्ज किये गए। इन दंगों में 26 लोंगो की जान गयी। जबकि 374 लोंगो घायल हुये। 2017 में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव हैं। ऐसे में अखिलेश सरकार के बाकी बचे लगभग एक साल 5 महीने की सत्ता उनका भविष्य तय करेगी।

दैनिक भास्कर

गरीबों के बीच मनाई सार्थक दिवाली बांटे कपड़े, मिठाइयां और पटाखे

http://www.bhaskar.com/news/MP-GWA-HMU-MAT-latest-gwalior-news-035534-3014360-NOR.html

दैनिक भास्कर के सार्थक दिवाली अभियान से प्रेरित होकर इस बार शहर की अधिकांश संस्थाओं ने गरीब बच्चों और आश्रम में त्योहार मनाया। यहां इन संस्थाओं के पदाधिकारियों से लेकर सदस्यों ने इन आश्रम में रहने वाले लोगों की जरूरत का सामान दान किया। 

रोटरी वीरांगना की पास्ट प्रेसीडेंट अंजली बत्रा ने इस बार दिवाली शहर के अलग-अलग स्लम एरिया में मनाई। उन्होंने शांति निकेतन, माधव नगर गेट, एसपी ऑफिस के सामने रहने वाले झुग्गी झोपड़ी मेें लोगों की जरूरत का सामान प्रदान किया।

वंदे मातरम् समिति के समिति के सदस्यों द्वारा संजय नगर स्थित मलिन बस्ती में जाकर वहां के निवासियों को मिठाइयां और फल वितरित किए गए। इस अवसर पर समिति के अध्यक्ष चंद्र प्रताप सिंह सिकरवार सहित कई सदस्य मौजूद रहे।

सर्वे भवंतु सुखिन: समिति सदस्यों ने विक्की फैक्टरी बाराघाट एरिया स्थित मलिन बस्ती में जाकर वहां के लोगों के साथ दिवाली सेलिब्रेट की। उन्होंनें बस्ती के लोगों को नशा न करने व बच्चों को शिक्षित करने का संकल्प भी दिलाया। इस मौके पर अशोक बांदिल, राजकुमार प्रजापति, रवींद्र जैन, बाबा अरुण सिंह चौहान, गंगा सिंह सिकरवार आदि मौजूद रहे। 

वायरल गीक्स चैनल द्वारा डीडी मॉल के बाहर गरीब बच्चों को भोजन कराया गया और उन्हें नए कपड़े और गिफ्ट दिए। इस अवसर पर प्रॉड्यूसर सिद्धार्थ शर्मा सहित निधि भटनागर, रीमा व्यास, पूनम दुबे और एक्टर उदयवीर सिंह गुर्जर आदि मौजूद रहे। 

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने दीपावली के अवसर पर लक्ष्मीबाई की समाधि पहुंचकर दीप प्रज्वलित किए और प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में उनकी भूमिका को याद भी किया। साथ ही सुख, शांति व समृद्धि की कामना भी की। इस अवसर पर विधायक जयभान सिंह पवैया, वेदप्रकाश शर्मा, निगम सभापति राकेश माहौर, रवींद्र सिंह राजपूत, समीक्षा गुप्ता आदि मौजूद रहे। 

कपड़े व मिठाई बांटी 

वहीं नरेंद्र स्मृति योग खेल शिक्षा एवं स्वास्थ्य पर्यावरण समिति ने गरीब दलित बस्तियों और आश्रम शांति निकेतन बालिका गृह में जाकर दीपावली का त्योहार मनाया। 

मायासिंह, प्रभात झा एवं एसपी ने आश्रम शांति निकेतन में निवासरत निराश्रितों के बीच वस्त्र और मिठाई बांट कर दीपावली का त्योहार मनाया। 

शहर (जिला) कांग्रेस कमेटी ने मलिन बस्ती जती की लाइन में दलितों व गरीबों के साथ बच्चों को पटाखे, मिठाई देकर दिवाली का त्योहार मनाया। 

केंद्रीय मंत्री ने आिदवासी बच्चों के बीच मनाई दिवाली 

केंद्रीय इस्पात, खनन मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आदिवासी गांव बजरंगपुरा में जाकर वहां के लोगों के साथ दिवाली मनाई। इस दौरान आदिवासियों द्वारा पूजन स्थल को दीपकों और रंगोली से सजाया गया। उनके साथ केंद्रीय मंत्री द्वारा पूजा-अर्चना की गई। इसके बाद उन लोगों को श्री सिंह ने मिठाइयां, पटाखे एलईडी और कंबल भी वितरित किए। इस अवसर पर विधायक भारत सिंह कुशवाह, महापौर विवेक नारायण शेजवलकर, जीडीए अध्यक्ष अभय चौधरी, साडा अध्यक्ष राकेश सिंह जादौन सहित एमआईसी मेंबर्स मौजूद रहे। 

विकास समिति ने बेसहारा व निराश्रितों के साथ मनाई दिवाली 

सामाजिक संस्था विकास समिति ने शांति निकेतन में रह रहे बेसहारा बच्चियों और निराश्रित बुजुर्गों के साथ दिवाली मनाई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सांसद प्रभात झा थे। श्री झा ने वहां रह रहे बेसहारा और निराश्रित से कहा कि आप अपने को बेसहारा न समझें। अापको समुचित शिक्षा मिल सके और परिस्थितियों में सुधार हो सके इसके लिए पूरे प्रयास किए जाएंगे। इसके तहत श्री झा ने सांसद निधि से धनराशि देने की घोषणा भी की। इस अवसर पर समिति की ओर से वस्त्र एवं मिष्ठान का वितरण किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता एसपी हरिनारायणचारी मिश्रा ने की और संचालन ग्वाविस के महासचिव मनमोहन घायल ने किया।

पकवान बांटे

होप संस्था के सदस्यों ने दिवाली झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले बच्चों को ईको फ्रेंडली पटाखे और मिठाई बांटकर मनाया। साथ ही अपने- अपने घरो से लाए पकवान इन लोगों को बांटे। इस अवसर पर संस्था के संस्थापक ब्रह्मजीत भदौरिया, अंशुल सिंह, अनुज शर्मा, सरस्वती, इंद्रजीत भदौरिया, ओमप्रकाश भट्ट, अर्पित गुप्ता, प्राची, निकिता, प्रियंका, समीर, भगत मौजूद रहे।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s