दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 11.11.15

नाबालिग दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार – भाषा न्यूज़

http://www.bhasha.ptinews.com/news/13358

दलित नाबालिग छात्रा से किया दुष्कर्म – न्यूज़ ट्रैक

http://www.newstracklive.com/news/gangrape-with-minor-dalit-student-in-patna-bihar-1024927-1.html

मकान के विवाद में युवक को पीटा – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-begumganj-news-050111-3010181-NOR.html

मेडिकल करने नहीं पहुंची डॉक्टर – पत्रिका

http://www.patrika.com/news/jhunjhunu/no-closer-to-medical-doctors-1132283/

युवक ने की दलित छात्रा से छेड़छाड़ – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/bhiwani/bhiwani-crime-news/the-depressed-young-man-manipulated-by-student-hindi-news/

अपनी जमीन के कागज बनवाने में बीती जयराम की आधी उम्र – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-OTH-MAT-latest-dungla-news-051626-3009926-NOR.html

दलित युवक के पिता का बयान से इंकार – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/baghpat/baghpat-crime-news/statement-denied-by-dalit-yuvak-s-father-hindi-news/

कोर्ट के आदेश पर बीएसए के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/hardoi/fir-against-bsa-hindi-news/

महिला की हत्या में दो को उम्रकैद – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/jyotiba-phule-nagar/jyotiba-phule-nagar-hindi-news/court-order-hindi-news-5/

Please Watch:

JLF-13 : God as a Political Philosopher: Dalit Perspectives on Buddhism (D2_FL_41)

https://www.youtube.com/watch?v=Hu4qluqXB28

 An Appeal: Please contribution to PMARC for strengthen Democracy, Peace & Social Justice !

 भाषा न्यूज़

नाबालिग दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार

http://www.bhasha.ptinews.com/news/13358

 मुजफ्फरनगर, 11 नवंबर :भाषा: शामली जिले के एक गांव में तीन लोगों ने कथित तौर पर 15 वर्षीय एक दलित लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार किया।

थानाध्यक्ष नरेश यादव ने बताया कि इस संबंध में तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और इनमें से दो की पहचान दिग्विजय सिंह और सुमित के तौर पर हुई है।

पुलिस ने बताया कि तीसरे आरोपी की पहचान होनी अभी बाकी है और पीड़िता को चिकित्सीय जांच के लिए भेजा गया है। उन्होंने बताया कि यह घटना कांधला पुलिस थाने के अंतर्गत घसोली गांव में हुई।

पीड़िता के पति ने अपनी शिकायत में बताया कि उनकी नाबालिग बेटी खेत से चारा लाने गयी थी और उसी दौरान तीन युवकों ने उसे पकड़ लिया। उसने आरोप लगाया है कि तीनों युवकों ने उसके साथ बलात्कार किया और उसे धमकी दी।

न्यूज़ ट्रैक

दलित नाबालिग छात्रा से किया दुष्कर्म

http://www.newstracklive.com/news/gangrape-with-minor-dalit-student-in-patna-bihar-1024927-1.html

पटना. बिहार की राजधानी पटना में दलित नाबालिग छात्रा के साथ उसी क्षेत्र के रहने वाले एक बदमाश ने बलात्कार की घटना को अंजाम दिया. यह वारदात सोमवार की रात को घटित हुई है. आरोपी सोनू ने यह हरकत पटना के कलेक्ट्रेट से अंटाघाट जाने वाले रास्ते पर अंजाम दी, इस दौरान नाबालिग ने रास्ते पर बहुत शोर शराबा भी किया लेकिन सुनसान रास्ता होने के चलते उसकी आवाज दब गई. वारदात वाले समय में आरोपी सोनू के दो दोस्त भी मौजूद थे इन्होने आरोपी सोनू को इसके लिए मना भी किया लेकिन आरोपी ने उनकी एक भी नही सुनी.

बाद में घर पर पहुंचकर पीड़िता ने इस बात की जानकारी अपनी माँ को बताई व फिर उसके परिजनों ने इसकी शिकायत महिला थाने में दर्ज कराई. पुलिस ने इस मामले में आरोपी के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर ली है. पुलिस ने कहा की आरोपी शख्स अंटाघाट के आसपास का ही रहने वाला है व आरोपितों ने लड़की को डराया व धमकाया भी था की वह इस बात की शिकायत किसी से नही करेगी. पुलिस ने कहा की आरोपी जो की अभी फरार है पुलिस के द्वारा उसकी तलाश की जा रही है. पुलिस ने कहा की पीड़िता अपने घर से दूध लेने को निकली थी व आरोपी ने उसे देख लिया था. जिसके बाद उसने इस वारदात को अंजाम दिया.

दैनिक भास्कर

मकान के विवाद में युवक को पीटा

http://www.bhaskar.com/news/MP-OTH-MAT-latest-begumganj-news-050111-3010181-NOR.html

बेगमगंज| सागोनी गांव में एक दलित युवक के साथ चार लोगों ने मकान के विवाद को लेकर मारपीट की। युवक को गंभीर रूप से घायल होने पर सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने चारों आरोपियों पर प्रकरण दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार सागोनी गुसाई निवासी नीलेश अहिरवार पुत्र रामदयाल अहिरवार बेगमगंज से लौटकर अपने घर वापस जा रहा था। श्यामनगर में वसुंधरा बिहार कालोनी के पास गांव के मल्लू अहिरवार के चार पुत्र रघुवीर अहिरवार, चिंतामन अहिरवार, राजकुमार अहिरवार, विनोद अहिरवार ने मकान के पुराने विवाद को लेकर घेरकर लाठियों से उसकी बेरहमी से पिटाई कर दी, जिससे उसके हाथ पैरों एवं सिर में गंभीर चोट आने पर उसे सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

 पत्रिका

मेडिकल करने नहीं पहुंची डॉक्टर

http://www.patrika.com/news/jhunjhunu/no-closer-to-medical-doctors-1132283/

 चिड़ावा. मण्डे्रला थाना क्षेत्र में दलित वर्ग की एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म होने के बाद मेडिकल जांच के लिए पीडि़ता इंतजार करना पड़ा। लेकिन चिकित्सक समय पर नहीं पहुंची। बाद में संबंधित महिला चिकित्सक को एपीओ किया गया। मंडे्रला में नाबालिग के साथ दुष्कर्म होने का मामला दर्ज करने के बाद उसकी जांच के लिए सोमवार सुबह 10 बजे मण्ड्रेला में मेडिकल जांच के लिए मेडिकल बोर्ड बनाया गया था। लेकिन जांच के लिए जिस महिला चिकित्सक को बोर्ड में शामिल किया गया था। वह समय पर नहीं पहुंची।

इस वजह से पीडि़ता को जांच के लिए कई घंटों तक इंतजार करना पड़ा। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एसएन धोलपुरिया ने पहले एक मेडिकल टीम का गठन किया लेकिन उसमें शामिल महिला चिकित्सक नहीं आई। इसके बाद पीडि़ता को सोमवार शाम छह बजे चिड़ावा में राजकीय अस्पताल में लाया गया जहां दुबारा गठित किए गए बोर्ड से उसका मेडिकल किया गया। लेकिन पीडि़ता सुबह दस बजे से देर शाम तक भूखी-प्यासी रही। पीडि़ता के परिजनों ने दो युवकों के खिलाफ मण्ड्रेला थाने में इस्तगासा से मामला दर्ज करवाया है। द्वितीय थानाधिकारी चन्द्रप्रकाश शर्मा ने बताया कि पीडि़ता के गारिण्डा क्षेत्र निवासी परिजनों ने नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म का मामला दर्ज करवाया गया है।

एक महिला डॉक्टर को किया एपीओ

पदमपुरा गांव में पीएचसी में कार्यरत महिला डॉक्टर मनीषा चौधरी को सोमवार को एपीओ किया गया है। ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ. नितेश जांगिड़ ने बताया कि डॉ. मनीषा चौधरी ने राजकार्य में लापरवाही बरतने पर एपीओ किया गया और उनका मुख्यालय जयपुर रखा गया है। डॉ जांगिड़ ने बताया कि डॉ. चौधरी को नाबालिग लड़की के साथ हुए दुष्कर्म के मामले में मण्ड्रेला चिकित्सालय में मेडिकल बोर्ड में शामिल किया गया था लेकिन समय पर नहीं पहुंची। डॉ चौधरी ने राजकार्य में लापरवाही बरती और कई बार फोन किए जाने के बावजूद भी फोन को रिसीव नही किया और ना ही पीएचसी पहुंची।

अमर उजाला

युवक ने की दलित छात्रा से छेड़छाड़

http://www.amarujala.com/news/city/bhiwani/bhiwani-crime-news/the-depressed-young-man-manipulated-by-student-hindi-news/

चरखी दादरी। गांव छपार निवासी दलित छात्रा के साथ छेड़छाड़ करने पर सदर पुलिस ने गांव के ही एक युवक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। फिलहाल इस संबंध में युवक की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। करीब पांच रोज गांव छपार के स्कूल में पढ़ने वाली एक छात्रा ने पुलिस को दी शिकायत में बताया था कि स्कूल से आते जाते समय गांव का ही युवक सोनू उसे तंग करता है। उक्त युवक उसका रास्ता रोककर छेड़छाड़ भी लगातार कर रहा है। पीड़िता ने बताया था कि उसके परिजन भी उक्त युवक को समझा चुके हैं, लेकिन वह अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर सोनू के खिलाफ एसएसी एसटी एक्ट के तहत छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर लिया है।

दैनिक भास्कर

अपनी जमीन के कागज बनवाने में बीती जयराम की आधी उम्र

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-OTH-MAT-latest-dungla-news-051626-3009926-NOR.html

उपखंडक्षेत्र की रावतपुरा पंचायत में जयराम मेघवाल अपनी पुश्तैनी जमीन के कागज को लेकर तहसील कार्यालय से संभागीय आयुक्त तक विगत 30 वर्षों से चक्कर काट रहा है लेकिन तहसीलदार से लेकर संभागीय आयुक्त तक सब मौन है । जयराम ने अपनी करीब आधी उम्र तो इन सरकारी दफ्तरों के चक्कर काटते-काटते गुजार दी और आज तक वह अपने हक के लिए अपने थके कदमों से इस लापरवाह नौकरशाही के सामने गिड़गिड़ा रहा है लेकिन इस गरीब दलित की सुनने वाला शायद कोई नहीं है।

पंचायत के पास नहीं है रिकार्ड 

जिसजमीन पर अपना पुश्तैनी रिकार्डेड हक बताने वाले जयराम के पास भी उस जमीन की नकल मौजूद है तो इधर जमीन पर काबिज लोगों के पास भी पंचायत के पट्टे है लेकिन अहम बात यह है कि इन पट्टों का पंचायत में कोई रिकार्ड मौजूद नहीं है। 

खातेदारीजमीन पर प्लाट  

अपनीजमीन की नकल लेकर दफ्तरों के चक्कर काटने के बावजूद अपनी कानोड़-उदयपुर मार्ग पर स्थित कीमती जमीन गंवा बैठा और उस जमीन पर भूमाफियाओं ने कब्जे कर अपने प्लाॅट बना लिए और पक्का निर्माण तक करवा लिया। 

प्रशासन ने रेलवे की जमीन को बताया जयराम की जमीन

इधरप्रशासन ने जयराम के बार-बार अनुनय विनय पर मौका स्थिति देखी और जयराम को पास ही निकल रही रेलवे लाइन की ओर उसकी खातेदारी जमीन बताते हुए वहां प्रशासन ने जेसीबी मशीन से खुदाई करवा वहां कब्जा दे दिया लेकिन दूसरे ही दिन रेलवे विभाग लवाजमे के साथ आया और प्रशासन द्वारा की गई खुदवाई को गलत बताते हुए समतल करवा दिया और जयराम को नोटिस थमा दिया।

अब कहां है जयराम की जमीन

अबजयराम रेलवे स्थानीय प्रशासन के बीच में बुरी तरह फंसा हुआ है आखिर तीस साल बाद प्रशासन जागा और एक बड़ी उलझन खड़ी कर दी जयराम ने रेलवे द्वारा दिया नोटिस प्रशासन को दिया लेकिन प्रशासन ने अब तक कोई कार्रवाई नहीं की। जयराम को यह नहीं समझ में रहा है की वह किस जमीन को अपनी जमीन माने। 

जयराम दोबारा कोर्ट से पत्थरगढ़ी का आदेश लेकर पत्थरगढ़ी करवाए और यदि पंचायत की जमीन पर किसी ने कब्जे कर रखे हैं तो पंचायत उस जमीन को अपने कब्जे में ले। जयराम की खातेदारी निकलती है तो वहां पत्थरगढ़ी हो जायेगी। वारसिंह, एसडीएम डूंगला 

डूंगला |अपनेहक वाली जमीन के पास खड़ा जयराम, जिस पर कब्जा पाने के लिए सरकारी दफ्तरों के चक्कर काट रहा है।

अमर उजाला

दलित युवक के पिता का बयान से इंकार

http://www.amarujala.com/news/city/baghpat/baghpat-crime-news/statement-denied-by-dalit-yuvak-s-father-hindi-news/

बागपत के सांकरौद गांव की खाप पंचायत के बहुचर्चित मामले में दलित युवक रवि के पिता धर्मपाल ने पुलिस को बयान देने से इंकार कर दिया। पुलिस के मुताबिक धर्मपाल ने पूर्व में की गई शिकायत को ही अपना बयान बताया है।

सांकरौद गांव के धर्मपाल सिंह ने राष्ट्रीय अनुसूचित-जनजाति आयोग में शिकायत की थी कि उसका बेटा रवि और गांव की जाट बिरादरी की युवती घर से फरार हो गई थी। उसने खुद फोन करके दिल्ली में उन्हें पुलिस से पकड़वाया था।

कुछ दिन बाद वे दोनों दोबारा फरार हो गए थे। उस समय भी उसने मेरठ के मेडिकल थाना पुलिस को खुद फोन करके उन्हें पकड़वाया। मेडिकल थाना पुलिस ने रवि और युवती को खेकड़ा पुलिस के सुपुर्द कर दिया था।

खेकड़ा पुलिस ने युवती को उनके परिजनों के सुपुर्द कर दिया था। जबकि रवि के पास से डोडा दर्शाते हुए उसे जेल भेज दिया गया था। इस मामले में आरोप है कि युवती के परिजनों ने गांव में खाप पंचायत की।

पंचायत में उसकी बेटियों के साथ दुष्कर्म कर गांव में निर्वस्त्र करके घुमाने का फरमान सुनाया गया। आयोग ने इस मामले में संज्ञान लेते हुए बागपत पुलिस को केस की निष्पक्ष जांच करने के आदेश दिए।

इसी के मद्देनजर धर्मपाल को पुलिस कार्यालय में बयान दर्ज कराने के बुलाया गया। एएसपी विद्या सागर मिश्र का कहना है कि धर्मपाल ने अपने बयान दर्ज नहीं कराए । उसने कहा कि उसकी शिकायत ही वही उसके बयान है।

अमर उजाला

कोर्ट के आदेश पर बीएसए के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज

http://www.amarujala.com/news/city/hardoi/fir-against-bsa-hindi-news/

बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ माधौगंज थाने में विद्यालय के अभिलेख उठा ले जाने की रिपोर्ट दर्ज की गई है। थाना इंचार्ज ने बताया कि मामले की जांच की जा रही हैै। उधर,बीएसए ने बताया कि आरोप गलत हैं, जांच में स्थित साफ हो जाएगी।

बिलग्राम कोतवाली क्षेत्र के सदरपुर निवासी जय सिंह कनौजिया माधौगंज ब्लाक के प्राथमिक विद्यालय बरहस में प्रधानाध्यापक के पद पर तैनात हैं। उन्होंने न्यायालय में दिए गए प्रार्थना पत्र में बताया कि 20 सितंबर 2014 को बेसिक शिक्षा अधिकारी बृजेश मिश्र, स्टेनो के अलावा पांच लोगों के साथ विद्यालय को निरीक्षण करने पहुंचे थे।

निरीक्षण के उपरांत वे विद्यालय से वित्तीय अभिलेख, शिक्षा निधि खातों के अभिलेख, कैशबुक, मुख्य लेजर, स्टाक रजिस्टर, वर्ष 2012-13 की सात पीस ड्रेस, वर्ष 2014-15 की 12 ड्रेस उठा ले गए। उस समय विद्यालय में शिक्षामित्र विभा सिंह, आंगनबाडी कार्यकत्री अंबेश्वरी देवी मौजूद थीं।

इसकी सूचना 20 सितंबर 2014 को जिलाधिकारी को लोकवाणी के माध्यम से दी गई। इसके बाद 10 नवंबर 2014 को बेसिक शिक्षा अधिकारी को रजिस्टर्ड डाक से अभिलेख वापस करने का अनुरोध किया, मगर अभिलेख वापस नहीं किए गए।

उन्होंने 19 नवंबर 2014 को थाने में तहरीर दी। कार्रवाई न होने पर 22 मई 2015 को पुलिस अधीक्षक को प्रार्थना पत्र दिया। इसके बाद भी कार्रवाई नहीं हुई। इस पर न्यायालय में गुहार लगाई। न्यायालय के आदेश पर सोमवार की देर शाम माधौगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज हुई। थानाध्यक्ष विशभननाथ यादव ने बताया कि रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। मामले की जांच की जा रही है।

पहले भी दर्ज हुए दो मामले

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के खिलाफ इससे पहले भी दो मुकदमे दर्ज हो चुके है। एक शिक्षिका ने बीएसए सहित तीन लोगों पर कार्यालय में अभद्रता करने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। वहीं एक महिला ने रसोइयां की नौकरी के नाम पर अभद्रता करने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ने दोनों ही मामलों में एफआर लगा दी। अब एक मामले में कोर्ट में अपील की गई।

बताते चले कि जनपद फर्रुखाबाद निवासी राधा देवी पत्नी अंचल तिवारी जिले में अहिरोरी विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय चमनखेड़ा में शिक्षिका के पद पर तैनात हैं। उन्होंने शहर कोतवाली में बीएसए डॉ. बृजेश मिश्र, लिपिक प्रवीन मिश्र और स्काउट शिक्षक के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

आरोप लगाया था कि स्काउट शिक्षक ने बीएसए कार्यालय फोन कर बुलाया और उसकी मार्कशीट फर्जी है कहते हुए बेसिक शिक्षा अधिकारी से मिलने को कहा। वे पति के साथ 13 मई 2015 को बीएसए से मिलने गईं तो बीएसए ने अंक पत्र के स्थान पर घरेलू वार्ता की।

उसने मना किया तो सस्पेंड करने की धमकी दी और गालीगलौज कर उसे भगा दिया। शहर कोतवाली में दर्ज की गई रिपोर्ट में पुलिस ने एफआर लगा दी। अब पीड़िता ने कोर्ट में अपील की है। वहीं 16 मई 2015 को ही माधौगंज थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी महिला ने थाने में दी गई तहरीर में बताया कि वे बीएसए के पास कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय में रसोईया के पद का प्रार्थना पत्र देने कार्यालय में गई थी।

साथ में पति भी थे। बीएसए ने उसके साथ छेड़छाड़ की। महिला की तहरीर पर पुलिस ने छेड़छाड़ व दलित एक्ट के तहत मामला दर्ज किया। इस मामले में भी एफआर लगने की जानकारी दी जा रही हैं। अब एक शिक्षक ने एफआईआर दर्ज कराई है। इससे विभाग में हड़कंप मचा हुआ है।

अमर उजाला

महिला की हत्या में दो को उम्रकैद

http://www.amarujala.com/news/city/jyotiba-phule-nagar/jyotiba-phule-nagar-hindi-news/court-order-hindi-news-5/

विशेष सत्र एवं अपर जिला जज बीडी भारती ने दलित महिला की हत्या कर लाश को पेड़ पर फांसी के फंदे पर लटकाने के एक मामले में दो अभियुक्तों को आजीवन कारावास और 2.40 लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।

अभियुक्तों को पुलिस कस्टडी में जेल भेज दिया गया है।

आदमपुर थाना क्षेत्र के गांव चिल्ला निवासी गोपीचंद की पत्नी शबनम 16 मार्च 2009 की रात करीब आठ बजे जंगल में शौच के लिए गई थी, लेकिन वापस नहीं लौटी। 

देर रात तक महिला जब घर नहीं आई, तो परिजनों को चिंता हुई और उन्होंने महिला की तलाश में गांव का जंगल खंगाल डाला, लेकिन शबनम का कहीं कोई सुराग नहीं लग सका।

अगले दिन शबनम की लाश गांव ननईपुर के जंगल में कृपाल सिंह के गेहूं के खेत में खड़े शीशम के पेड़ पर फांसी के फंदे पर लटकी मिली।

गोपीचंद की तहरीर पर गांव पथरा निवासी रामेश्वर पुत्र किशोरी व चंद्रभान पुत्र राम स्वरूप के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई गई। पुलिस ने अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

रामेश्वर कुछ समय बाद जमानत पर छूट कर जेल से बाहर आ गया। सोमवार को विशेष सत्र एवं अपर जिला जज की अदालत में प्रकरण की सुनवाई हुई और वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी आरबी सिंह और सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता नरेंद्र सिंह सैनी ने जोरदार बहस की। 

दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद न्यायाधीश बीडी भारती ने रामेश्वर और चंद्रभान पर हत्या का दोष सिद्ध किया। मंगलवार को न्यायाधीश ने दोनों को आजीवन कारावास और 1.20 लाख -1.20 लाख रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। अभियुक्तों को पुलिस कस्टडी में जेल भेज दिया गया।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s