दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 07.11.15

पहले जाति पूछी फिर तेजधार हथियारों से हमला, तीन गंभीर – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/hisar/hisar-crime-news/asked-the-first-race-sharp-weapons-attacked-again-three-serious-hindi-news/

युवक की मौत में नपे थानेदार और दो सिपाही संस्पेंड – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/allahabad/allahabad-crime-news/the-young-man-killed-and-two-soldiers-in-a-few-calculated-sho-snspend-hindi-news/

कर्नाटक के स्‍कूल में दलित को बनाया कुक और…. – नई दुनिया

http://naidunia.jagran.com/national-karnataka-school-dalit-women-writes-midday-meal-dairy-every-day-no-one-ate-today-547867

पटवारी गिरफ्तार, फरार सरपंच सहित 6 आरोपितों की तलाश – राजेस्थान पत्रिका

http://rajasthanpatrika.patrika.com/story/rajasthan/patwari-arrested-6-accused-absconding-1428727.html

कोचिंग टीचर के समर्थन में कैंडल मार्च – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/banda/candle-march-in-support-of-teacher-coaching-hindi-news/

शौचालय बन गया तो सीमा वापस लौटी ससुराल, हुआ स्वागत – हिन्दुस्तान

http://livehindustan.com/news/national/article1-madhya-pradesh-baitul-sasural-toilet-hindustan-live-503213.html

Please Watch:

Dr. Teltumbde: Dr. Ambedkar Can Neither be adopted Nor Appropriated

by THE HINDUTUVA FORCES

https://www.youtube.com/watch?v=bkycZX3r6T4

 An Appeal: Please contribution to PMARC for strengthen Democracy, Peace & Social Justice !

अमर उजाला

पहले जाति पूछी फिर तेजधार हथियारों से हमला, तीन गंभीर

http://www.amarujala.com/news/city/hisar/hisar-crime-news/asked-the-first-race-sharp-weapons-attacked-again-three-serious-hindi-news/

रेड स्क्वेयर मार्केट में वीरवार को चार छात्रों पर एक समाज विशेष के छात्र गुट ने तेजधार हथियारों से कातिलाना हमला कर दिया। घायल छात्रों में दो दलित हैं। 

घायल का आरोप है कि हमलावरों ने पहले उनसे जाति पूछी और फिर अंधाधुंध तेजधार हथियारों व डंडों से हमला कर दिया। मामले की सूचना मिलते ही सिटी पुलिस इंस्पेक्टर प्रदीप यादव पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे।

acr300-563ba2f58107505hsrp49_4421902_l

उन्होंने खुद अस्पताल पहुंचकर युवकों के बयान दर्ज किए। आरंभिक जांच में पुलिस इस मामले को पुरानी रंजिश बता रही है लेकिन घायल इसे जातिगत रंग दे रहे हैं।

घायलों का यह भी आरोप है कि हमलावर शहर में आयोजित एक रैली में आए हुए थे। इसी रैली में आए युवक वहां से उठकर आए और हमला करने के बाद फरार हो गए।

घायलों में डीएन कॉलेज का बीएससी सेकेंड ईयर का छात्र हेमंत व उसके मोहल्ले का दोस्त वीरेंद्र, कालवास गांव का बीए फाइनल ईयर का अनूप और भाणा गांव का बीएससी सेकेंड ईयर का छात्र विनोद है। 

उधर, झगड़े के बीच ही जाट कॉलेज में गोली चलने की अफवाह भी आई। पुलिस का खुफिया तंत्र मौके पर पहुंचा मगर वहां कुछ नहीं मिला।

पुलिस ने अनुज की शिकायत पर संदीप मिर्चपुरिया, मोनू, बिट्टू, मंजीत, मंदीप, संदीप हुड्डा, संदीप चहल व सात आठ अन्य के खिलाफ कातिलाना हमला करने, आर्म्स एक्ट सहित कई धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है। हालांकि इसमें एससीएसटी एक्ट की धाराएं नहीं लगाई गईं हैं, जैसा की पीड़ितों का आरोप है।

हमलावरों में जज की गाड़ी फूंकने के आरोपी संदीप मिर्चपुरिया का नाम भी

घायल दलित छात्र हेमंत ने आरोप लगाया है कि हमलावरों में जज की गाड़ी फूंकने का आरोपी संदीप मिर्चपुरिया भी है। वह एक महीने पहले ही जमानत पर बाहर आया था। इसके अलावा नारनौंद के कुछ युवक शामिल हैं।

मां को बीएसएनल ऑफिस में छोड़ने आए युवक को बेवजह पीटा

बताया गया है कि 12 क्वार्टर का वीरेंद्र इस हमले में बेवजह पीटा गया। वह बीएसएनएल कार्यालय में अपनी मां को छोड़ने आया था।

जैसे ही वह छोड़कर वापस जाने लगा तो अचानक हेमंत का फोन आ गया। उसने कहा कि वह रेड स्क्वेयर मार्केट में है। उसे लेने आ जाओ।

वीरेंद्र अपने दोस्त को लेने के लिए जैसे ही वहां पहुंचा हेमंत के साथ उस पर भी हमला बोल दिया। उसके साथ खड़े अनूप व विनोद पर भी उन्होंने खूब हथियार व डंडे बरसाए। 

घायल कालवास निवासी अनूप ने बताया कि वह बीए फाइनल ईयर का स्टूडेंट है और रेड स्क्वेयर मार्केट में कंपीटीशन एग्जाम की तैयारी के लिए कोचिंग लेने आता है। उसके साथ भाणा गांव का विनोद भी साथ था। 

हेमंत बोला पहले जाति पूछी

12 क्वार्टर में रहने वाले हेमंत ने नागरिक अस्पताल के इमरजेंसी में इलाज के दौरान पुलिस को बताया कि युवकों ने जब उसपर हमला बोला तो इससे पहले जाति पूछी जब उसने जाति बताई तो अंधाधुंध उस पर टूट पड़े।

विनोद को सिर में लगी चोट

घायल विनोद का सिर में तेजधार हथियार लगा है, जिसके कारण उसका मानसिक संतुलन बिगड़ गया। उपचार के समय उसका पूरा शरीर कांप रहा था।

दो युवक उसके हाथ पांव दबाए हुए थे। बेड से उछल-उछल कर वह गिरने तक पहुंच जाता। अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे अग्रोहा रेफर कर दिया। परिजन उसे अपने स्तर पर शहर के एक निजी अस्पताल में लेकर चले गए। वह आईसीयू में भर्ती है।

छात्रों में चर्चा, पहले हॉस्टल के बाहर हुआ झगड़ा

हमले के बाद अस्पताल में घायल छात्रों से मिलने वालों की भीड़ लग गई। कुछ छात्र बता रहे थे कि कथित हमलावरों में से कुछ छात्र हॉस्टल में रहते हैं।

दो दिन पहले उनका किसी बात को लेकर हेमंत के साथ झगड़ा हो गया था। उस लड़ाई में हेमंत भारी पड़ा था। जिसके बाद से हेमंत की टोह जारी थी।

मामले की गंभीरता से छानबीन की जा रही है। अभी तक पुरानी रंजिश का मामला नजर आ रहा है। घायलों ने कुछ युवकों के नाम भी बताएं हैं धरपकड़ जारी है।

प्रदीप यादव, इंस्पेक्टर सिटी थाना

अमर उजाला

युवक की मौत में नपे थानेदार और दो सिपाही संस्पेंड

http://www.amarujala.com/news/city/allahabad/allahabad-crime-news/the-young-man-killed-and-two-soldiers-in-a-few-calculated-sho-snspend-hindi-news/

इलाहाबाद। कौंधियारा इलाके के बरेठिया गांव में मंगलवार भोर में मोबाइल शॉप में चोरी के इरादे से घुसे युवक की पिटाई से मौत की घटना में पुलिस पर गाज गिरी है। एसपी यमुनापार की जांच के बाद कौंधियारा के इंस्पेक्टर राजेेश कुमार और दो सिपाहियों रामराज तथा कमलेश्वर को निलंबित कर दिया गया। जांच में आया कि पिटाई से घायल युवक को अस्पताल में भर्ती करने की बजाय उसे थाने ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई थी। इस घटना में मृतक के भाई की तरफ से कौंधियारा थाने में तीन लोगों को नामजद कर गैर इरादतन हत्या और दलित उत्पीड़न का केस लिखा गया है।

बरेठिया गांव में रहने वाले संतोष बिंद की मोबाइल शॉप में मंगलवार भोर में ताला तोड़कर घुसे चोर को लोगों ने इस कदर पीटा कि वह मरणासन्न हो गया। खबर पाकर पहुंचे जारी चौकी के दो सिपाही उसे स्वास्थ्य केंद्र ले गए। वहां चेकअप कराने के बाद कौंधियारा थाना प्रभारी राजेश कुमार युवक को थाने ले गए। गंभीर रूप से घायल युवक ने अपना नाम सौतम कुमार और पता शहर में पीपल गांव धूमनगंज बताया।

सौतम ने दोपहर बाद दम तोड़ दिया तो पुलिस ने पंचनामा भरकर लाश चीरघर भेजी। सौतम के परिजनों ने पुलिस पर भी पिटाई का आरोप लगाया है। कौंधियारा पुलिस अपनी करतूत में फंस भी गई। गंभीर घायल युवक को पुलिसवाले जबरन सीएचसी से थाने ले गए जबकि उसकी हालत नाजुक बनी थी। एसएसपी ने घटना की जांच एसपी यमुनापार आशुतोष मिश्र को सौंपी। एसपी यमुनापार को जांच में कौंधियारा थाना प्रभारी राजेश कुमार और जारी चौकी के दो सिपाहियों रामराज और कमलेश्वर की भूमिका बेहद लापरवाह मिली।

उन्होंने युवक को पीटा भले नहीं लेकिन उसे अस्पताल की बजाय थाने ले जाना ही गंभीर लापरवाही रही। उन तीनों को एसएसपी ने निलंबित कर दिया। मृतक सौतम के भाई गौतम की तहरीर पर कौंधियारा थाने में मोबाइल शॉप मालिक संतोष बिंद समेत सुशील और पवन के खिलाफ गैर इरादतन हत्या और एससी-एसटी एक्त के तहत एफआईआर लिखकर जांच हो रही है।

नई दुनिया

कर्नाटक के स्‍कूल में दलित को बनाया कुक और….

http://naidunia.jagran.com/national-karnataka-school-dalit-women-writes-midday-meal-dairy-every-day-no-one-ate-today-547867

 कागानाहाली। कर्नाटक के कागानाहाली के एक स्‍कूल में मिड डे मील योजना के तहत खाना बनाने के लिए दलित महिला को कुक बना दिया गया है। मगर, स्‍कूल में बच्‍चों ने खाना ही छोड़ दिया है। वह राधाम्‍मा अब रोज मिड डे मील डायरी लिख रही है। उसके चार शब्‍द महिला की व्‍यथा को बयां करने के लिए काफी हैं।

“No one ate today.” यानी आज किसी ने खाना नहीं खाया। यह सिलसिला पिछले पांच महीने से जारी है। राधाम्‍मा अनुसूचित जाति से हैं। फरवरी 2014 में जब उनकी नियुक्‍ित इस स्‍कूल में हुई थी तब पहली से आठवीं कक्षा तक यहां 118 बच्‍चे पढ़ते थे। मगर, धीरे-धीरे 100 बच्‍चों ने स्‍कूल छोड़ दिया है।

कोलार जिले के इस स्‍कूल में बाकी के बचे 18 बच्‍चे भी इस शर्त पर स्‍कूल आ रहे हैं कि राधाम्‍मा मध्‍यान भोजन नहीं बनाएंगी। इस काम के जरिये वह हर महीने करीब 1700 रुपए कमाती हैं। यह रकम सात लोगों के परिवार को पालने वाली राधाम्‍मा के लिए बहुत मायने रखती है।

कागानाहाली छोटा सा गांव है, जहां 101 परिवार रहते हैं और जिसकी कुल आबादी 452 है। गांव की करीब 40 फीसद आबादी अनुसूचित जनजाति है, जबकि 18.14 फीसद आबादी राधाम्‍मा की तरह दलित है। बाकी की आबादी में ओबीसी के खुरुबास और वोक्‍कालीगास शामिल हैं।

स्‍कूल के प्रधानाचार्य वाईवी वेंकटाचालापथी आरोप लगाते हैं कि गांव की राजनीति स्‍कूल की इस स्थिति के लिए जिम्‍मेदार है। अभिभावक स्‍कूल में आकर बच्‍चों की टीसी मांग रहे हैं। यदि मैं उन्‍हें समझाने की कोशिश करता हूं, तो वे गाली-गलौच करने लगते हैं।

राजेस्थान पत्रिका

पटवारी गिरफ्तार, फरार सरपंच सहित 6 आरोपितों की तलाश

http://rajasthanpatrika.patrika.com/story/rajasthan/patwari-arrested-6-accused-absconding-1428727.html

 उदयपुर/भीण्डर. वल्लभनगर तहसील की खेरोदा पंचायत में तीन माह पूर्व दलित परिवारों के मकान, बाड़े व दुकानें ध्वस्त करने के मामले में गुरुवार को आरोपित पटवारी को गिरफ्तार कर लिया गया। मामले में बग्गड़ सरपंच, सचिव, सहायक सचिव सहित 6 जनों की गिरफ्तारी बाकी है।  पुलिस उपाधीक्षक नारायण सिंह ने बताया कि गुरुवार को पटवारी ऊंकारलाल मेघवाल को अमरपुरा (खालसा) गांव स्थित मकान पर दबिश देकर गिरफ्तार किया गया। अन्य आरोपितों की तलाश की जा रही है। गौरतलब है कि मामले में बग्गड़ सरपंच चम्पालाल शर्मा, सचिव दौलतसिंह, सहसचिव राजेन्द्र चौबीसा, जेसीबी चालक सहित 6 जने आरोपित हैं। इन्होंने मेघवाल परिवार के पक्के मकान, बाड़े व दुकानें तोड़ दी थी जबकि इन सभी को खेरोदा पंचायत ने पट्टे दिए थे और सभी लम्बे समय से रह रहे थे। पटवारी ने मिलीभगत कर गलत रिपोर्ट पेश की थी। राजस्थान पत्रिका ने 24 सितम्बर के अंक में इसका खुलासा किया था। इस पर तहसीलदार और पुलिस उपाधीक्षक ने जांच की थी, जिसमें बग्गड़ सरपंच, सचिव, सहसचिव, पटवारी आदि दोषी पाए गए थे।

अमर उजाला

कोचिंग टीचर के समर्थन में कैंडल मार्च

http://www.amarujala.com/news/city/banda/candle-march-in-support-of-teacher-coaching-hindi-news/

बांदा। दलित छात्रा के साथ छेड़छाड़ के आरोप में जेल में बंद कोचिंग टीचर बृजेश तिवारी के समर्थन में छात्र-छात्राओं की वकालत जारी है। बृहस्पतिवार को शाम छात्र-छात्राओं ने कैंडल मार्च निकाल कर विरोध जताया। 

आरोपी टीचर को निर्दोष और साजिश का शिकार बताया। गैरकानूनी ढंग से जेल अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा की गई पिटाई पर दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की मांग की। जीआईसी से बाइक सवार छात्र-छात्राओं का जत्था अशोक लाट तिराहा पहुंचा और न्याय की मांग की। उधर, राष्ट्रीय स्वराज पैंथर राष्ट्रीय अध्यक्ष मुन्नालाल दिनकर ने प्रेस बयान जारी कर कहा है कि दलित छात्रा से छेड़छाड़ के आरोपी को बचाने का प्रयास किया जा रहा है।

यह निंदनीय और ओझी मानसिकता है। इसी वजह से दलित, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों को न्याय नहीं मिल रहा। अध्यक्ष ने कहा कि आरोपी शिक्षक के खिलाफ ठोस कार्रवाई नहीं की गई तो उनका आंदोलन तीव्र आंदोलन करके छात्रा को न्याय दिलाने का काम करेगा।

हिन्दुस्तान

शौचालय बन गया तो सीमा वापस लौटी ससुराल, हुआ स्वागत

http://livehindustan.com/news/national/article1-madhya-pradesh-baitul-sasural-toilet-hindustan-live-503213.html

मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में एक दलित महिला सीमा पटेल की ससुराल में शौचालय बनाने की जिद आखिरकार रंग ले आई। शौचालय बनने के बाद ही वह गुरुवार को ससुराल लौटी। गांव पहुंचने पर उसका जोरदार स्वागत किया गया। ससुराल में शौचालय न होने पर सीमा पटेल पति का घर छोड़कर मायके चली गई थी। उसने ऐलान कर दिया था कि जब तक शौचालय नहीं बनेगा, वह ससुराल नहीं लौटेगी। यह मामला परिवार परामर्श तक पहुंचा और प्रशासन के प्रयासों से सीमा के ससुराल में शौचालय बन गया। शौचालय बनने पर गुरुवार को सीमा अपनी ससुराल लौट आई और उसका जोरदार स्वागत कर अगवानी की गई। 

ज्ञात हो कि ससुराल में शौचालय न होने पर सीमा पटेल ने परिवार परामर्श केंद्र शाहपुर ने शिकायत दर्ज कराई थी। इस पर केंद्र ने उल्लेखनीय पहल की थी, जिससे ससुराल में शौचालय बन गया और इसीलिए गुरुवार को सीमा पटेल (22) अपने परिजनों के साथ परिवार परामर्श केंद्र पहुंची। यहां पर उसका स्वागत किया गया और दोनों परिवारों को मिलाया। इसके बाद सरपंच मंगीताबाई उइके दोनों परिवारों को लेकर पंचायत भवन पहुंची, जहां समारोह का आयोजन किया गया।

ग्राम पंचायत भवन में सरपंच मंगीताबाई और परिवार परामर्श केंद्र में वहां की सदस्यों ने तिलक लगाकर स्वागत किया। इसके बाद दंपति को गाजे-बाजे के साथ सैकड़ों नागरिक ससुराल लेकर पहुंचे, जहां विधि विधान और रीति रिवाजों के साथ बहू का गृह प्रवेश कराया गया।

जिलाधिकारी ज्ञानेश्वर बी. पाटिल ने कहा कि दलित महिला सीमा पटेल ने स्वच्छता की दिशा में अभूतपूर्व साहस दिखाया है। उसने जो कदम उठाया है उसकी कल्पना नहीं की जा सकती। पाटिल ने कहा कि सीमा पटेल द्वारा किए गए इस अतुलनीय कार्य के लिए उसे जिले का ‘स्वच्छता दूत’ बनाया जाएगा।

ज्ञात हो कि बैतूल जिले के शाहपुर ब्लाक मुख्यालय पर स्थित पतौवापुरा मोहल्ला निवासी मोहन पटेल का विवाह इटारसी निवासी सीमा पटेल से हुआ था, लेकिन ससुराल में शौचालय नहीं होने से सीमा पटेल कुछ महीनों तक ससुराल में रहने के बाद रूठकर मायके चली गई थी। मामला परिवार परामर्श केंद्र में आया, जहां मोहन पटेल को शौचालय निर्माण करने के निर्देश दिए गए थे।

आर्थिक रूप से कमजोर मोहन पटेल के पास इतने रुपये नहीं थे कि वह शौचालय का निर्माण करा सके। अंतत: ग्राम पंचायत शाहपुर की सरपंच ने इस मामले में पहल करते हुए स्वयं के खर्च पर शौचालय का निर्माण करा दिया।

शाहपुर अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) एम.एल. विजयवर्गीय ने कहा कि स्वच्छता के लिए सीमा पटेल ने 20 माह तक ससुराल से दूर रहकर जो कुर्बानी दी, वह सराहनीय है। यह भी महत्वपूर्ण है कि परिवार परामर्श केंद्र ने परिवारों को जोड़ने में सहयोगी की भूमिका निभाई।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s