दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 11.10.15

शराब के ओवर डोज से युवक की दर्दनाक मौत न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/man-died-of-over-dose-of-alcohol-868859.html

पंचायत चुनाव: वोट न देने पर घरों में घुसकर लोगों को पीट रहे दबंग न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/people-were-bullied-during-panchayat-elections-868874.html

विधायक समर्थक ने दरोगा पर दर्ज कराया मुकदमा – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/lakhimpur-kheri/lakhimpur-kheri-crime-news/the-inspector-filed-a-lawsuit-on-pro-legislator-hindi-news/

छात्राओं बोली- अधीक्षिका धुलवाती है कपड़े – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/MP-BETU-MAT-latest-betul-news-020505-2819522-NOR.html

भूख हड़ताल पर बैठे दलित कल करेंगे मंदिर में दर्शन – नई दुनिया

http://naidunia.jagran.com/national-dalits-sitting-on-hunger-strike-will-visit-temple-on-monday-503869

जल जंगल व जमीन, ये हों जनता के आधीन – नई दुनिया

http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/satna-satna-news-503955 जिले के सुदूर ग्रामीण अंचलों और

काम शुरू करने के लिए 474 पात्रों को दो करोड़ 45 लाख दी गई : डीसी दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-yamunanagar-news-032028-2818786-NOR.html

दलितों की मांगें नहीं मानी तो सीएम को दिखाएंगे काले झंडे – दैनिक भास्कर

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-BARM-MAT-latest-barmer-news-045546-2822994-NOR.html

Please Watch:

Dalits: Wait For Justice Continues Even After 18 Years

https://www.youtube.com/watch?v=DhSRkf-D0ls

Save Dalit Foundation:

Educate, agitate & organize! – Dr. Ambedkar.

Let us all educates to agitate & Organize to Save Dalit Foundation !         

Please sign petition for EVALUATION of DF by click this link : https://t.co/WXxFdysoJK

 न्यूज़ 18

शराब के ओवर डोज से युवक की दर्दनाक मौत

http://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/man-died-of-over-dose-of-alcohol-868859.html

यूपी के बागपत, बडोत कोतवाली क्षेत्र के गांव लुहारी में एक दलित युवक की शराब पीने से मौत हो गयी.

मृतक के परिजनों ने प्रत्याशी द्वारा बांटी गयी शराब पीने से मौत होने की आशंका जताई है. जिला पंचायत सदस्य पद के प्रत्याशी गांवो मे धडल्ले से जहरीली शराब बांट रहे है.

जिसकी ओवर डोज पीने से एक दलित युवक की दर्दनाक मौत हो गयी .सीओ राजवीर सिंह से जब मामले की जानकारी लेनी चाही तो उनका कहना है कि लुहारी गांव में किसी युवक की मौत की बात सामने आयी है.

मौत के कारण का पता लगाने के लिए पुलिस टीम गांव मे भेजी गयी है जो भी कारण सामने आयेगा उसके खिलाफ कारवाई की जायेगी जहां प्रत्याशी जहरीली शराब पिलाकर जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड कर रहे हैं.

वहीं दूसरी ओर जहरीली शराब से मरे युवक की जानकारी तक पुलिस के पास नही है. शराब बांटकर प्रत्याशी आचार सहिंता का उल्लंघन व जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड कर रहे हैं. जिस पर नकेल कसने मे पुलिस प्रशासन नाकाम साबित हो रही है.

न्यूज़ 18

पंचायत चुनाव: वोट न देने पर घरों में घुसक

लोगों को पीट रहे दबंग

http://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/people-were-bullied-during-panchayat-elections-868874.html

यूपी में हो रहे पंचायत चुनाव में कल पहले चरण का मतदान हुआ.

लोगों ने वोट भी दिया मगर अब चुनाव में वोट देने की सजा गांव के गरीब और दलित परिवार भुगत रहे हैं. मिर्ज़ापुर के देहात कोतवाली थाना क्षेत्र के समोगरा गांव में वोट न देने पर गांव के दबंगों ने गांव में घूम-घूम कर घरों में घमकी दी और मारपीट की.

मारपीट से नाराज सैकडों की संख्या में महिला और पुरुषों ने जिला अधिकारी कार्यालय पहुंच कर धरना प्रदर्शन किया. लोगों का आरोप है कि सुबह से ही गांव में कल्लू सिंह के परिवार के लोग गरीबों के साथ मारपीट शुरू कर दिया था.

Untitled-134

सड़कों पर लोगों को रोक कर धमकी दे रहे रहे और मारपीट भी कर रहे थे. इन लोगों की नाराजगी इस बात से थी कि कल्लू सिंह के भाई राघवेंद्र सिंह जो कि सिटी ब्लॉक के वार्ड नंबर 3 से क्षेत्र पंचायत सदस्य का चुनाव लड़ रहे थे, उन्हें गांव के दलितों ने वोट नहीं दिया था.

इसी वजह से यह लोग नाराज हैं, वहीं अधिकारियों का कहना है कि मामले की शिकायत इन लोगों ने की है, इसकी जांच के लिए थाना प्रभारी को भेजा जा रहा है.

अमर उजाला

विधायक समर्थक ने दरोगा पर दर्ज कराया मुकदमा

http://www.amarujala.com/news/city/lakhimpur-kheri/lakhimpur-kheri-crime-news/the-inspector-filed-a-lawsuit-on-pro-legislator-hindi-news/

सत्तारूढ़ दल के विधायक सुनील कुमार लाला के समर्थकों ने पेशबंदी करते हुए बिजुआ चौकी इंचार्ज धर्मेंद्र शुक्ला के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है, जिसमें एससी/एसटी एक्ट भी लगाया गया है। पहले दरोगा और अब विधायक समर्थक की ओर से मुकदमा दर्ज कराए जाने से पुलिस और सियासी खेमों में हलचल तेज हो गई है, क्योंकि दरोगा के खिलाफ एक और मुकदमा लिखाने की कवायद हो रही है।

पंचायत चुनाव में शुक्रवार को पहले चरण के मतदान में बिजुआ चौकी इंचार्ज धर्मेंद्र शुक्ला प्राथमिक विद्यालय में बने मतदान केंद्र पर ड्यूटी कर रहे थे। शाम करीब पांच बजे सपा विधायक सुनील कुमार लाला, उनके भाई छोटे सहित उनके समर्थकों और दरोगा के बीच मारपीट हुई थी। दरोगा धर्मेंद्र शुक्ला ने सपा विधायक, उनके भाई छोटे और कोटेदार रामचंद्र सहित 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके बाद विधायक समर्थक दिवाकर भार्गव ने दरोगा के खिलाफ मारपीट और जाति सूचक गालियां देने का आरोप लगाते हुए मितौली पुलिस को तहरीर दी, जिसमें बताया गया है कि दरोगा ने वोट डालने आए बुजुर्ग और महिलाओं के साथ अभद्रता की, जिसके विरोध में धक्का मुक्की और हाथापाई हुई थी। दरोगा ने बचाव में लाठी चलाई, जिसमें उसके साथ ही टानू वाजपेयी और रशीद कुरैशी को चोटें आईं। पुलिस ने शुक्रवार की देर रात तीनों शिकायतकर्ताओं का डॉक्टरी परीक्षण कराया, जिसके बाद आरोपी दरोगा धर्मेंद्र शुक्ला के खिलाफ मारपीट और एससी/एसटी एक्ट की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

 महिला ने भी दरोगा के खिलाफ दी तहरीर

मितौली। कस्बे के प्राथमिक विद्यालय में बने मतदान केंद्र पर सरोजनी गौतम अपने पति संतोष के साथ वोट डालने आई थी। सरोजनी ने पुलिस को तहरीर देकर आरोप लगाया है कि ड्यूटी पर तैनात दरोगा धर्मेंद्र शुक्ला ने उसकी साइकिल पंक्चर कर दी, जब उसके पति ने विरोध किया तो दरोगा ने वोटर कार्ड छीनकर उसे जातिसूचक गालियां दी। साथ ही उसका मोबाइल और पर्स छीन लिया। आरोप यह भी हैै कि खींचतान में उसके कपड़े भी फट गए। उधर, एसओ पीके सिंह ने महिला की ओर से तहरीर मिलने की बात से इंकार किया है।

गोला के विधायक पहुंचे मितौली

मितौली। कस्ता विधानसभा से सपा विधायक सुनील कुमार लाला और उनके भाई छोटे उर्फ रामखेलावन सहित तीन लोगों पर दरोगा द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमे की धमक पार्टी के लोगों में भी देखी जा रही है। शनिवार को गोला के विधायक विनय तिवारी मितौली पहुंचे और विधायक सुनील लाला से मुलाकात की।

 विधायक विनय तिवारी ने घटना के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए मितौली एसओ पीके सिंह से भी मुलाकात की। इसके बाद वह विधायक सुनील लाला के आवास पर गए, जहां समर्थकों ने दरोगा की हिटलरशाही बयां की। वहीं सपा के जिलाध्यक्ष अनुराग पटेल भी राजनीतिक और प्रशासनिक गतिविधियों पर अपनी नजरें जमाए हैं। 

रामचंद्र ने खुद को बताया निर्दोष

मितौली। मतदान के दौरान हुए बवाल में दरोगा द्वारा नामजद कराए गए आरोपी रामचंद्र ने शनिवार को मीडिया के सामने खुद को निर्दोष बताया। रामचंद्र ने अपने बचाव में बताया है कि राजा लोने सिंह इंटर कॉलेज में बतौर होमगार्ड मतदान ड्यूटी पर तैनात था। 

दैनिक भास्कर

छात्राओं बोली- अधीक्षिका धुलवाती है कपड़े

http://www.bhaskar.com/news/MP-BETU-MAT-latest-betul-news-020505-2819522-NOR.html

प्री-मैट्रिक अनुसूचित जाति कन्या छात्रावास की सभी छात्राओं ने अधीक्षिका पर प्रताड़ित करने की शिकायत कलेक्टर से की। इन छात्राओं ने अधीक्षिका टी सावरकर का छात्रावास से ट्रांसफर करने की मांग की है।

छात्रा नायिका, रोशनी सूर्यवंशी व उप छात्रा नायिका रिंकू नागले सहित छात्रावास की सभी आधा सैकड़ा छात्राओं ने कलेक्टर ज्ञानेश्वर बी पाटिल से की गई शिकायत में कहा है अधीक्षिका उनसे खाना बनवाती हैं, बर्तन, कपड़े धुलवाती हैं और घर का सारा काम करवाती है। यही नहीं बेवजह मारती-पीटती भी हैं। छात्रावास में स्कूल जाने से पहले भोजन तैयार नहीं करवाया जाता है। भोजन में बासी और खराब सब्जियां खिलाई जाती हैं। नाश्ते में आंगनबाड़ी के पैकेटों का दलिया दिया जाता है। छात्रावास में मिलने आने वाले माता-पिता के साथ भी अधीक्षिका द्वारा ठीक व्यवहार नहीं किया जाता।

इन छात्राओं ने अपनी शिकायत में कहा हैं कि अधीक्षिका का भाई जो बालक छात्रावास में रसोइया है वह शाम 6 बजे के बाद भी कन्या छात्रावास में रहता है। अधीक्षिका कभी शाम को तो कभी रात में अपने घर चली जाती हैं। छात्रावास की रसोइया भी घर चली जाती हैं, ऐसी स्थिति में छात्राओं को छात्रावास में डर लगता है।

छात्राओं ने अधीक्षिका पर पैसे लेकर छात्रावास में एडमिशन करने का भी आरोप लगाया है। छात्राओं ने यह शिकायती पत्र दो दिन पहले कलेक्टर समेत शिक्षा विभाग को डॉक से भेजा है। 

छात्रावास में बेहतर काम करवाने के लिए कर्मचारियों को हिदायत दी जाती है। संभवत: कर्मचारियों के बहकावे में आकर छात्राओं ने शिकायत की है। छात्राओं को किसी तरह से परेशान नहीं किया जाता है। टी सावरकर, अधीक्षिका प्री-मैट्रिक अनुसूचित जाति कन्या छात्रावास 

नई दुनिया

भूख हड़ताल पर बैठे दलित कल करेंगे मंदिर में दर्शन

http://naidunia.jagran.com/national-dalits-sitting-on-hunger-strike-will-visit-temple-on-monday-503869

 देहरादून। गबेला गांव में कुकुर्शी देवता मंदिर में दलितों को प्रवेश न करने देने के मामले में नया मोड़ आ गया है। पिछले तीन दिन से देहरादून में भूख हड़ताल पर बैठे दलित दर्शनार्थियों ने कदम पीछे खींचते हुए फिलहाल धर्म परिवर्तन का इरादा छोड़ दिया है।

इस बीच शनिवार को गतिरोध तोड़ने की दिशा में दो हिंदू संगठनों के कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में दलित समाज के लोगों ने मंदिर में दर्शन किए। प्रशासन का दावा है कि दलितों ने गर्भगृह में पूजा-अर्चना की। वहीं भूख हड़ताल पर बैठे दलित नेता दौलत कुंवर का कहना है कि प्रशासन व पुलिस ने इस बारे में जो फोटो दिखाए हैं, वे दलित समाज के लोगों के हैं ही नहीं।

हालांकि देर शाम तक चली कशमकश के बाद इस बात पर सहमति बनी कि कुंवर समेत भूख हड़ताल पर बैठे अन्य दलित सोमवार को मंदिर में दर्शन को जाएंगे और प्रशासन उन्हें पूरी सुरक्षा मुहैया कराएगा।

नई दुनिया

जल जंगल व जमीन, ये हों जनता के आधीन

http://naidunia.jagran.com/madhya-pradesh/satna-satna-news-503955 जिले के सुदूर ग्रामीण अंचलों और

जंगल पहाड़ों के बीच रहने वाले हजारों, लाखों आदिवासी परिवार हैं। जिनके रहने और खेती करने के लिये जमीन तो है। लेकिन उनके पास काबिज जमीन का पट्टा नहीं है। जिससे शासन और भू-माफियाओं द्वारा कभी भी गरीब आदिवासियों को उनकी जमीन से बेदखल कर दिया जाता है। ऐसे में इन गरीब आदिवासियों के पास सिर छिपाने तक के लिये जगह नहीं मिलती, जबकि संविधान के अनुसार जल, जंगल और जमीन पर सभी का बराबर का अधिकार है। इसलिए जिले के शासकीय भूमि पर काबिज दलित और आदिवासियों को उनकी काबिज जमीन का पट्टा दिया जाए। उक्त मांग को लेकर जिलेभर से आये लगभग तीन सौ ग्रामीण आदिवासियों ने शनिवार को कलेक्ट्रेट का घेराव कर दिया। जहां पर उन्होंने कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपकर अपने अधिकार की आवाज उठाई।

लाठी लेकर निकाली रैली

राष्ट्रीय दलित महासभा के बैनर तले तीन सौ आदिवासी पुरूष व महिलाएं शनिवार की दोपहर रेलवे स्टेशन परिसर में एकत्र हुए। जहां से हाथों में लाठी, बैनर व तख्तियां लेकर सभी ने रैली निकाली। स्टेशन से निकलकर ये रैली जय स्तंभ चौक, सिटी कोतवाली चौराहा, प्रेम नगर होते हुए धवारी कलेक्ट्रेट परिसर पहुंचे। जहां आदिवासियों ने काबिज जमीन का पट्टा दो, पट्टे की जमीन का कब्जा दो नारे लगाते हुए कलेक्टर से मिलने का समय मांगा। लेकिन कलेक्टर के अवकाश पर रहने की वजह से तहसीलदार महेन्द्र पटेल ने ग्रामीणों का ज्ञापन लिया और समस्याएं सुनी।

समस्या और मांग

कलेक्टर के नाम सौंपे गए ज्ञापन में आदिवासियों ने अवगत कराया है कि जिले के सभी ब्लॉकों में रहने वाले भूमिहीन परिवारों के पास रहने के लिये घर नहीं है। जिन लोगों के पास घर है तो उनके पास जमीन का पट्टा नहीं है। ऐसे में गरीब आदिवासी गांव के रसूखदारों के खेत खलिहान में मजदूरी कर वहीं अपने सिर छिपाने का ठिकाना बनाये हुए है। जिससे गरीबों की आर्थिक स्थिति सुधरने की बजाय लगातार बिगड़ती जा रही है। साथ ही आदिवासी युवा बेरोजगारी और आर्थिक तंगी के चलते गांव से पलायन करने पर मजबूर हैं। लिहाजा भू-राजस्व अधिकार के तहत राजस्व व वनभूमि में रहने वाले गरीबों को पट्टा दिया जाए।

क्या कहता है संविधान

जमीन के अधिकार के लिए आंदोलन कर रहे आदिवासी नेता श्यामराज साकेत ने कहा कि डॉक्टर भीमराव अंबेडकर द्वारा रचित संविधान में गरीब आदिवासियों को भी बराबर का अधिकार दिया गया है। संविधान के अनुसार प्रति भूमिहीन परिवार को शासन द्वारा कम से कम 5 एकड़ भूमि का पट्टा दिया जाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि प्रदेश के मुखिया शिवराज सिंह चौहान आये दिन मंच से ऐलान करते रहते हैं कि भूमिहीन गरीब आदिवासियों को उनकी काबिज जमीन से हटाया नहीं जाएगा। लेकिन सच्चाई ये है कि प्रदेश के गरीबों को भू-माफियाओं द्वारा जबरन सरकारी जमीन से हटाया जा रहा है और सरकार मूक दर्शक बनकर तमाशा देख रही है। इसमें सरकार के प्रशासनिक अमले की भी अहम भूमिका है।

आधे घंटे तक लगा जाम

जिस समय सैकड़ों आदिवासी परिवार रैली लेकर कलेक्ट्रेट का घेराव करने पहुंचे, उस समय कलेक्ट्रेट में जगह कम पड़ रही थी। जिससे सैकड़ों लोग कलेक्ट्रेट के बाहर ही सड़क पर खड़े होकर नारेबाजी करने लगे। सड़क पर लगी भीड़ की वजह से धवारी से सिटी कोतवाली के बीच जाम लग गया। जाम लगने की सूचना पर सिटी कोतवाली टीआई एमएस उपाध्याय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए और भीड़ को नियंत्रित करने का प्रयास किया। लगभग आधे घंटे बाद आदिवासी सड़क से हटे तब कहीं जाकर जाम खुला और जाम में फंसे वाहन वहां से निकल सके। इस दौरान जाम में फंसे लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।

ब्लॉक में शिविर

आदिवासियों की मांग पर तहसीलदार महेन्द्र पटेल ने उनकी समस्याओं को सुना और कार्रवाई का आश्वासन दिया। तहसीलदार ने कहा है कि ग्रामीणों की मांग को कलेक्टर के जरिये राज्य सरकार तक पहुंचाया जायेगा। साथ ही उन्होंने कहा है कि कलेक्टर के निर्देशानुसार सभी ब्लॉक मुख्यालयों में शिविर लगाकर भूमिहीन परिवारों का आवेदन लिया जायेगा, इसके बाद आवेदन की सत्यता की पुष्टि करने के बाद उसका निराकरण किया जाएगा।

दैनिक भास्कर

काम शुरू करने के लिए 474 पात्रों को दो करोड़ 45 लाख दी गई : डीसी

http://www.bhaskar.com/news/HAR-OTH-MAT-latest-yamunanagar-news-032028-2818786-NOR.html

यमुनानगर| हरियाणाअनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम सितंबर माह तक जिला में विभिन्न स्वरोजगार योजनाओं के तहत अनुसूचित जाति के 474 लाभपात्रों को 2 करोड़ 45 लाख 10 हजार रुपए की वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई। जिसमें 24 लाख 84 हजार रुपए अनुदान, एक लाख 88 हजार रुपए सीमांत राशि तथा 2 करोड़ 18 लाख 38 हजार रुपए के ऋण शामिल हैं। डीसी डाॅ. एसएस फुलिया ने बताया कि हरियाणा अनुसूचित जाति वित्त एवं विकास निगम द्वारा अनुसूचित जाति के लोगों को विभिन्न आय उपार्जन योजनाओं के अंतर्गत स्वरोजगार शुरू करने के लिए बैकों के माध्यम से वित्तीय सहायता उपलब्ध करवाई जाती है, ताकि उनकी सामाजिक आर्थिक स्थिति में सुधार हो सके। 

दैनिक भास्कर

दलितों की मांगें नहीं मानी तो सीएम को दिखाएंगे काले झंडे

http://www.bhaskar.com/news/RAJ-BARM-MAT-latest-barmer-news-045546-2822994-NOR.html

ग्रामपंचायत तालसर की दलित महिला सरपंच के विधिक अधिकारों पर अतिक्रमण कर बैठे ग्रामसेवक को आखिरकार जिला प्रशासन ने शनिवार को बदलने के आदेश दे दिए।

जिला मुख्यालय पर उक्त महिला सरपंच के उत्पीड़न एवं हाथमा गांव की दलित महिला के साथ दुष्कर्म करने के आरोपी को गिरफ्तार नहीं करने से नाराज समुदाय के लोग 5 अक्टूबर से दलित अत्याचार निवारण समिति के बैनर तले बेमियादी आंदोलन पर है। 

समिति के संयोजक उदाराम मेघवाल ने बताया कि तालसर की निर्वाचित दलित समुदाय की महिला सरपंच को पंचायत कार्यों से दूर रखकर मनमाने काम करने एवं उसे प्रताड़ित करने जैसे गंभीर आरोपों से घिरे ग्रामसेवक चेतनराम चौधरी को प्रशासन ने हटा कर एपीओ कर दिया है। इनकी जगह अब बीजासर ग्रामसेवक नरेश कुमार को तालसर में लगाया गया है। तालसर के रोजगार सहायक को प्रशासन ने राजनीतिक दबाव के कारण नहीं हटाया ही हाथमा दुष्कर्म कांड के अभियुक्त को हिरासत में लिया गया। ऐसे में दलित समाज के लोगों में आक्रोश व्याप्त है। मुख्यमंत्री की आगामी प्रस्तावित यात्रा तक यदि प्रशासन ने उनकी मांगों को नहीं माना तो बड़ी संख्या में दलित समुदाय मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखा विरोध प्रदर्शन करेगा। इसके लिए समाज ने तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। 

धरने पर ये रहे मौजूद

मजदूरनेता लक्ष्मण बडेरा, हरखाराम मेघवाल, सेडवा प्रधान पदमाराम मेघवाल, मूलाराम मेघवाल, सोनाराम टाक, सरपंच इन्द्रादेवी, मुरारीलाल बालाच, सवाईराम मौजूद थे।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s