दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 15.09.15

दलित व्यक्ति की हत्या के मामले में गवाहो को डरा रही हैं पुलिसबीइंग दलित

http://www.beingdalit.com/2015/09/police-is-threatning-the-witnesses-in-dalit-youth-murder-case.html#.VfexpTmm9dg

बागपत रेप बहनों के ख़िलाफ ही मामला दर्ज – दी सिविलियन

http://thecivilian.in/बागपत-रेप-बहनों-के-ख़िलाफ/24355/.html

सारण में दलितों के नौ घरों में लूटपाट – हिन्दुस्तान

http://www.livehindustan.com/news/bihar/news/article1-story-404-404-494714.html

आरक्षण समर्थक 17 सितंबर को आगरा में करेंगे रैली न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/reservations-supporters-will-rally-on-september-seventeen-in-agra-up-741926.html

Please Watch:

Rough Roads to Equality – Women Police in South Asia interviews

https://www.youtube.com/watch?v=W-vJUktRPeU&feature=em-share_video_user

Save Dalit Foundation:

Educate, agitate & organize! – Dr. Ambedkar.

Let us all educates to agitate & Organize to Save Dalit Foundation !

Please sign petition by click this link : https://t.co/WXxFdysoJK

बीइंग दलित

दलित व्यक्ति की हत्या के मामले में गवाहो को डरा रही हैं पुलिस

http://www.beingdalit.com/2015/09/police-is-threatning-the-witnesses-in-dalit-youth-murder-case.html#.VfexpTmm9dg

1 सितम्बर को नीरज की मौत और 2 सितम्बर 2015 को दर्ज FIR के बावजूद आज 14 सितम्बर तक किसी भी हत्यारे को पुलिस ने छुआ तक नही। पुलिस के रवैये का परिणाम तय था। आज फिर कुछ आरोपी पक्ष के लोगों द्वारा पीड़ित के गांव में जाकर गवाहों को धमकी दी गयी। ऐसा दोबारा हुआ है। पहली बार दी गयी धमकी के बाद पुलिस को सुचना दी गयी थी पर पुलिस ने कोई भी सकारात्मक कदम नही उठाया।

dalit rai bareily

अपने एक बेटे को खोने के बाद परिवार अब तक सदमे से बाहर नही निकल पाया है और इस तरह की घटनाएं उनका और गवाहों का मनोबल तोड़ रही हैं। समाज का एक ताकतवर वर्ग दलितों और पिछडो को शायद इंसान समझता ही नही है तभी तो उस हत्यारे को बचाने के लिये पुलिस से लेकर नेता तक अपना जमीर बेच चुके हैं।पीड़ित पक्ष की मदद को न कोई जनप्रतिनिधि आया न ही कोई हिन्दुओ का ठेकेदार। मुझे याद है कि जब भी कभी मुस्लिमो से कोई छोटा सा झगड़ा भी हुआ तो RSS और विहिप के नेता वहां पहुच जाते हैं पर आज उस दलित परिवार के साथ खड़ा होने वाला कोई नही है।

राज्य ने BJP को 21 दलित सांसद दिए हैं लेकिन उनमें से कोई भी दलितों पर हो रहे अत्याचारों के बारें में आवाज़ नहीं उठा रहा हैं। देश का बिकाऊ मीडिया जो एक सीना बोरा हत्या कांड को इतनी तबज़्ज़ो देता हैं जैसे की देश में सिर्फ वही अपराध हुआ हैं।

दी सिविलियन

बागपत रेप बहनों के ख़िलाफ ही मामला दर्ज

http://thecivilian.in/बागपत-रेप-बहनों-के-ख़िलाफ/24355/.html

उत्तर प्रदेश के बागपत में खाप पंचायत के ‘बलात्कार’ के कथित फ़रमान के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट पहुंची दो दलित बहनों के मामले में एक नया मोड़ आ गया है.

अब इन बहनों, उनके एक भाई और परिवार के कई सदस्यों के ख़िलाफ़ ही बलात्कार का मामला दर्ज कर दिया गया है.

इससे पहले इन बहनों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर ये आरोप लाया था कि बागपत के संकरौद गांव की पंचायत ने उनका बलात्कार किए जाने का फ़रमान जारी किया.

अदालत में बहनों ने आरोप लगाया कि ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि इन बहनों का एक भाई ‘ऊंची’ जाति की एक महिला के साथ भाग गया था.

लेकिन स्थानीय पुलिस और अधिकारी इस आरोप को सिरे से ख़ारिज कर रहे हैं. उनका कहना है कि पंचायत की ओर से ऐसा कोई आदेश दिया ही नहीं गया है.

बीबीसी की टीम भी जब कुछ दिनों पहले उस गांव में गई थी, तो उसे पंचायत के इस तरह के फ़रमान की पुष्टि नहीं हो सकी थी.

अब ‘ऊंची’ जाति की उसी महिला ने ही बहनों, उनके भाई और परिवार के कई सदस्यों के ख़िलाफ़ बलात्कार की शिकायत की है.

बागपत के एसपी, शरद सचान ने बीबीसी से बातचीत में कहा, “लड़की अपनी शिकायत लेकर ज़िला अदालत गई और वहां से आदेश हुआ कि पुलिस बलात्कार की शिकायत दर्ज करे, तो हमने एफ़आईआर दर्ज कर ली है.”

 कोर्ट ने कार्रवाई पर लगाई रोक

पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने जब ये जानकारी आई, तो उन्होंने दलित बहनों के पूरे परिवार के ख़िलाफ़ कोई भी कार्रवाई करने पर रोक लगा दी.

बहनों के वकील राहुल त्यागी ने बीबीसी को बताया, “कोर्ट ने रोक लगाते हुए कहा कि बहनों के परिवार को मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में पेश होना होगा, और उसके बाद ही कोई फ़ैसला लिया जाएगा.”

त्यागी के मुताबिक़ कोर्ट में मेरठ पुलिस के एक सीनियर इंस्पेक्टर ने ऐफ़िडेविट देकर ये बताया, कि ऊंची जाति की लड़की और बहनों के भाई अपनी मर्ज़ी से भागे थे.

उन्होंने कहा, “ऊंची जाति की लड़की ने बलात्कार की शिकायत दबाव में आकर की है.”

भाई जेल में

18 अगस्त को इन बहनों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी कि उन्हें और ऊंची जाति की लड़की को सुरक्षा मुहैया करवाई जाए और पूरे मामले की सीबीआई जांच हो.

याचिका दायर किए जाने से पहले ही बहनों के भाई और ऊंची जाति की लड़की को वापस गांव ले आया गया था. और इसके बाद बहनों के भाई को गिरफ़्तार कर लिया गया था.

बहनों के भाई पर प्रतिबंधित ड्रग्स रखने का आरोप लगाया गया था. अदालत से ज़मानत होने के बावजूद वो इस व़क्त जेल में हैं.

बहनों के वकील राहुल त्यागी के मुताबिक़ गांव में हो रहे कथित बहिष्कार की वजह से उनके परिवार को ज़मानत करवाने के लिए गांव से कोई ज़मानती नहीं मिल रहा.

 मुख्यमंत्री से अपील, छिप गई बहनें

पिछले महीने बहनों की सुप्रीम कोर्ट में याचिका की ख़बर सामने आने पर अंतरराष्ट्रीय संस्था एमनेस्टी इंटरनैश्नल सक्रिय हुई.

हिन्दुस्तान

सारण में दलितों के नौ घरों में लूटपाट

http://www.livehindustan.com/news/bihar/news/article1-story-404-404-494714.html

कोपा थाना क्षेत्र के भेड़वनिया गांव के दलितों के सात और दाउदपुर थाने के समतापार गांव के दो घरों में रविवार की रात अपराधियों ने हजारों रुपये मूल्य के कपड़े, गहने व नकद रुपये लूट लिये। विरोध करने पर अपराधियों ने घरवालों को मारपीट कर जख्मी भी कर दिया। भेड़वनिया गांव के बाबूलाल दास को डंडे से मार कर बुरी तरह घायल कर दिया।

जानकारी के अनुसार रात करीब 11 बजे अपराधियों ने इस गांव के नरेश राम, देवकुमार दास, बाबूलाल दास, लालगोविन्द दास, मंटू दास, शिवनंदन दास व जयनारायण दास के घरों का दरवाजा तोड़ घटना को अंजाम दिया। ग्रामीणों ने बताया कि यहां से एक गोली भी बरामद की गई पर मौके पर पहुंची पुलिस ने गोली बरामद होने से इनकार किया है। 

वहीं दाउदपुर थाना क्षेत्र के समतापार गांव के काशी पुरी और मनोज राम के घरों को भी चोरों ने अपना निशाना बनाया और चोरी की घटना को अंजाम दिया। कोपा थानाध्यक्ष मनीष कुमार और दाउदपुर थानाध्यक्ष राज कौशल ने मौके पर पहुंच कर मामले की जांच की।

नट गिरोह का हाथ

पुलिस का मानना है कि नट गिरोह ने इस घटना को अंजाम दिया है। थानाध्यक्ष मनीष कुमार ने बताया कि जिस तरह से घटना को अंजाम दिया है, पहली नजर में नट गिरोह पर ही शक जा रहा है। इस गिरोह ने सिर्फ दलित परिवारों के घरों को निशाना बनाया है। पुलिस ने बताया कि शीघ्र की इस घटना में संलिप्त अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

ग्राम रक्षा दल का किया गठन

चोरी-डकैती की घटनाओं से निपटने के लिए पुलिस के साथ आम लोगों को भी सक्रिय रहना होगा। इसके लिए थानाध्यक्ष मनीष कुमार ने यहां ग्राम रक्षा दल का गठन किया। ग्राम रक्षा दल के सदस्य खुद रात्रि गश्ती करेंगे और किसी तरह की सूचना मिलने पर पुलिस को जानकारी देंगे। पुलिस ने ग्राम रक्षा दल को टार्च व सीटी उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।

न्यूज़ 18

आरक्षण समर्थक 17 सितंबर को आगरा में करेंगे रैली

http://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/reservations-supporters-will-rally-on-september-seventeen-in-agra-up-741926.html

पदोन्नतियों में आरक्षण संवैधानिक संशोधन बिल को लोकसभा से पास कराने व उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा कथित रूप से किए जा रहे दलित उत्पीड़न के विरोध में आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के निर्देश पर जिला इकाइयां आंदोलन को ‘करो या मरो’ की तर्ज पर तेज करने जा रही हैं. समिति ने 17 सितंबर को आगरा में रैली करने का निर्णय लिया है.

आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक अवधेश कुमार वर्मा ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में केंद्रीय कमेटी द्वारा जिलेवार पर्यवेक्षक भेजे गए हैं. सभी पर्यवेक्षकों को जिम्मेदारी दी गई है कि वे जिलों में सपा के 57 दलित विधायकों व भाजपा के 16 दलित सांसदों का लगातार उनके क्षेत्र में उनकी पोल खोलकर समाज को जागरूक करें.

संघर्ष समिति के नेता ने कहा कि जिस तरीके से पूरे प्रदेश में आरक्षण के समर्थन में आंदोलन व्यापक रूप लेता जा रहा है, वह दिन दूर नहीं जब उत्तर प्रदेश में आरक्षण पर सबसे बड़ा आंदोलन होगा, जिससे प्रदेश ही नहीं, देश की सभी राजनीतिक पार्टियों की नींद उड़ जाएगी.

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s