दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट  14.09.15  

पलवल: नाबालिग के साथ हुआ रेप फ़ास्ट खबर

http://www.khabarfast.com/view_news.php?newsid=2121&cat=crimenews#.VfZAIznccy4

आज भी जलतीं लालटेन – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/mahoba/till-date-village-lightend-through-lamps-hindi-news/

छात्रा से छेड़छाड़ करने पर 2 समुदाय के गुटों में झड़प और पथराव – पजाब केसरी

http://www.punjabkesari.in/news/article-394321

ठाकुर: हालात नहीं सुधरे तो छोड़ना पड़ेगा गांव दलित: पहले बच्चे ठीक हो जाएं, फिर करेंगे बात – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/rohtak/rohtak-crime-news/banyani-matter-hindi-news/

‘पिछड़ों, दलित वर्ग का कोटा पूरा नहीं’ – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/chitrakoot/chitrakoot-hindi-news/backwards-not-quota-underclass-hindi-news/

जगमगाएगी गरीबों की बस्ती – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/sonebhadra/jagmgaagi-poor-township-hindi-news/

दलित संगठनों ने सरकार से की समान शिक्षा प्रणाली लागू करने की मांग न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/haryana/dalit-demand-equal-education-system-730397.html

Please Watch:

Dr. Indu Choudhary: Caste Atrocity in Banaras “Hindu” University

https://www.youtube.com/watch?v=48uHHwQiT6I&feature=share

Save Dalit Foundation:

Educate, agitate & organize! – Dr. Ambedkar.

Let us all educates to agitate & Organize to Save Dalit Foundation !

Please sign petition by click this link : https://t.co/WXxFdysoJK

फ़ास्ट खबर

पलवल: नाबालिग के साथ हुआ रेप

http://www.khabarfast.com/view_news.php?newsid=2121&cat=crimenews#.VfZAIznccy4

पलवल के हरिनगर में एक युवक द्वारा दलित वर्ग की नाबालिग लडक़ी के साथ दुष्कर्म करने का मामला प्रकाश में आया है। पीडि़ता के बयान पर महिला पुलिस थाने में आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्यवाही शुरु कर दी है। दरअसल देश-प्रदेश में नाबालिग लड़कियों के साथ दुष्कर्म जैसे संज्ञीन मामले रुकने का नाम नही ले रहे है। प्रतिदिन कोई न कोई लडक़ी इंसानियत का गला दबाने वाले भेडियों का शिकार हो जाती है। ताजा मामला है पलवल के हरिनगर का है, जहां महिला थाना प्रभारी सुशीला देवी ने बताया कि हरिनगर निवासी नाबालिग पीडि़ता लडक़ी ने शिकायत दी है कि उसके साथ फरीदाबाद निवासी सुरेश ने दुष्कर्म किया है। पीडि़ता कि शिकायत पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और फिलहाल पीडि़ता का मैडिक़ल प्रशिक्षण कराया जा रहा है और जल्द से जल्द आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

अमर उजाला

आज भी जलतीं लालटेन

http://www.amarujala.com/news/city/mahoba/till-date-village-lightend-through-lamps-hindi-news/

आजादी के 69 सालों बाद जहां मंगल पर पहुंचने का जश्न मनाया जा रहा है, खन्ना कस्बा से सटी दलित बस्ती ऐसी भी है जहां लोग आज भी बिजली के लिए तरस रहे हैं।

दलित बस्ती में पक्की सड़के, मकान सहित सारी मूलभूत सुविधाएं हैं, नहीं है तो बस बिजली..। आसपास के गांव बिजली से रोशन हैं। दलितों के साथ भेदभाव बरते जाने की शिकायत यहां के बाशिंदों ने अनुसूचित जाति आयोग और मुख्यमंत्री से कई बार की, लेकिन कोई सुनवाई हुई।

acr300-55f5b51fbf43213mahp5_3478251_c1_CMY

विकासखंड कबरई के कस्बा खन्ना से सटी दलित बस्ती में करीब डेढ़ हजार की आबादी है। चुनाव के समय जनप्रतिनिधि बिजली लाइन बिछाए जाने का आश्वासन देकर चले जाते हैं, लेकिन चुनाव जीतने के बाद दलित बस्ती की सुध नहीं लेते।

यही वजह है कि आज तक यहां पर विद्युतीकरण नहीं कराया गया, जबकि कस्बा खन्ना, चिचारा, बरभौली, पहरा, बहिंगा सहित सभी गांव बिजली से रोशन हैं। 

जगभान, छोटेलाल, बाबूलाल, श्यामबाबू, छिद्दू, सुखराम प्रजापति, कल्लू, रामप्रकाश सहित तमाम ग्रामीणों ने कई बार जिलाधिकारी, मंडलायुक्त को बिजली समस्या से अवगत कराया, लेकिन आज तक किसी भी अधिकारी ने इस बस्ती में बिजली लाइन बिछाए जाने की जहमत नहीं उठाई।

ग्रामीणों का कहना है कि बिजली न होने से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। पानी के लिए परिवार हैंडपंप के सहारे हैं।

पजाब केसरी

छात्रा से छेड़छाड़ करने पर 2 समुदाय के गुटों में झड़प और पथराव

http://www.punjabkesari.in/news/article-394321

हरियाणा के सीएम खट्टर के पैतृक गांव बनियाणी में देर शाम को दो समुदायों में जमकर झड़प और पथराव हुआ।

जानकारी के मुताबिक गांव बनियानी निवासी ग्यारहवीं के एक दलित समाज के छात्र ने गांव के ही दंबग जाति (ठाकुर समाज) की अपने साथ पढ़ने वाली एक छात्रा के साथ छेड़छाड़ कर दी थी। जिसको लेकर छात्रा ने परिजनों को इस बारे में अवगत कराया। मामला का पता चलने पर छात्रा के परिजन आरोपी के घर गए तो उन्होंने उन्हें धमका दिया। जिस पर परिजनों ने गांव की पंचायत के समक्ष मामला रखा और वीरवार शाम की पंचायत बुलाई। वीरवार सुबह भी छात्र के साथ मामले को लेकर कुछ युवकों ने मारपीट कर दी। जब पंचायत में आरोपी युवक आया तो छात्रा पक्ष के लोग भड़क गए और किसी बात को लेकर दोनों पक्षों में मारपीट हो गई और कुछ समय बाद ही दोनों पक्षों में पथराव शुरु हो गया। देर रात घटना की सूचना पुलिस को मिली तो भारी पुलिस बल गांव पहुंचा और स्थिति को काबू किया।

बताया जा रहा है कि पथराव के चलते दो महिलाएं व 5 लोग घायल हो गए है और उन्हें सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसी बीच पुलिस अधीक्षक भी गांव पहुंचे और पूरे मामले के बारे में पता किया। दोनों पक्षों में तनाव की स्थिती बनी हुई है और पुलिस ने अतिरिक्त फोर्स बल तैनात कर दिया गया है। पुलिस मामले पर नजर रखे हुए है। 

लड़के के खिलाफ लड़की के परिजनों ने छेड़छाड़ का मामला दर्ज करवाया है। वहीं आरोपी लड़के के समुदाय के लोगों ने दंबग जाति (ठाकुर समाज) के खिलाफ मारपीट करने का मामला दर्ज करवाया है।इतना ही नहीं दलित समुदाय से और गांव सरपंच के पति ने बताया कि लड़की के साथ छेड़छाड़ मामले में लड़के को दोषी मानते हुए पंचायत बुलाई गई थी जिसमें उन लोगों ने लड़के और उसके पिता के साथ समाज के पंचायती पर हमला कर दिया। पुलिस को सूचना दी तो पुलिस 2-3 घंटे देरी से पहुंची।

अमर उजाला

ठाकुर: हालात नहीं सुधरे तो छोड़ना पड़ेगा गांव दलित: पहले बच्चे ठीक हो जाएं, फिर करेंगे बात

http://www.amarujala.com/news/city/rohtak/rohtak-crime-news/banyani-matter-hindi-news/

सीएम मनोहर लाल खट्टर के गांव बनियानी में छेड़छाड़ विवाद के बाद बिगड़े हालातों में सुलह के प्रयास तेज हो गए हैं।

पंचायत से बिगड़ी बात को अब आसपास के दर्जनाें गांव के मौजिज लोग पंचायत से ही सुलझाएंगे।

चार दिन बाद होने वाली इस पंचायत में हालात दोबारा न बिगड़ें, इसके लिए युवाओं को एंट्री नहीं होगी।

पंचायत में सिर्फ बुजुर्ग और मौजिज लोग दोनों पक्षों की मौजूदगी में सुलह पर मंथन करेंगे। वहीं, मामले में ठाकुर पक्ष ने डीसी से गुहार लगाई है कि अगर हालात नहीं सुधरे तो उन्हें गांव छोड़ना पड़ेगा।

दूसरी तरफ दलित समाज के लोगाें ने ड्यूटी मजिस्ट्रेट को यह कहकर बैरंग लौटा दिया कि पहले बच्चे ठीक हो जाएं, उसके बाद ही बात करेंगे। शनिवार को तीसरे दिन भी दिनभर पुलिस टीम गांव के अलग-अलग हिस्सों में तैनात रही।

 डीसी से मिलने पहुंचे ठाकुर

शुक्रवार को जहां दलित समाज के सैकड़ों लोग डीसी और एसपी से मिलने लघु सचिवालय पहुंचे थे। वहीं, अपने पक्ष के 15 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के विरोध में शनिवार को ठाकुर पक्ष के सैकड़ों लोग डीसी आवास पर पहुंचे। यहां लोगों ने डीसी से मामले में एससी-एसटी एक्ट व छेड़छाड़ की धाराओं के तहत दर्ज एफआईआर को खारिज करने की मांग की। डीसी ने जल्द समाधान करने का आश्वासन दिया। ठाकुरों ने जिला प्रशासन को चेतावनी भरे लहजे में कहा कि यदि हालात नहीं सुधरे तो हम गांव छोड़ने पर मजबूर हो जाएंगे। दावा किया कि हमारे साथ गांव की सभी बिरादरी के लोग है। ऐसे में प्रशासन एक ही पक्ष के लोगोें पर कैसे अत्याचार कर सकता है।

 5 घंटे तक किया दूसरे पक्ष का इंतजार

सुबह ठाकुर पक्ष की बात सुनने के बाद डीसी ने उन्हें कुछ देर तक रेस्ट हाउस में ठहरने के लिए कहा। क्योंकि डीसी ने समझौते के लिए दूसरे पक्ष लोगों को बुलाया था। लेकिन सुबह 11 से शाम 4 बजे तक भी दूसरे पक्ष के लोग रेस्ट हाउस नहीं पहुंचे। आखिरकार ठाकुरों को बिना बातचीत के ही वापस गांव लौटना पड़ा।

पीजीआई पहुंचे ड्यूटी मजिस्ट्रेट, नहीं बनी बात

डयूटी मजिस्ट्रेट प्रमोद चहल ने दलितों से संपर्क किया। लेकिन दलित रेस्ट हाउस न पहुंचकर सीधा पीजीआई में पहुंच गए। चहल उनसे मिलने के लिए पीजीआई पहुंचे। यहां दलित समाज के लोगों ने कहा कि बच्चों को अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद हम पंचायत में आएंगे और बात रखेंगे। उन्होंने प्रशासन से चार दिन का समय मांगा। गौरतलब है कि पंचायत में हुई मारपीट में करीब 7 लोग घायल हो गए थे। इनमें से दो तीन गंभीर हालत में पीजीआई में दाखिल हैं।

4 दिनों तक नहीं होगी कोई गिरफ्तारी 

जिला प्रशासन ने एहतियात के तौर पर पुलिस को मामले में चार दिनों तक कोई भी गिरफ्तारी नहीं करने की हिदायत दी है। हालांकि पुलिस ने ठाकुर समाज के दो लोगों को हिरासत में रखा हुआ है। पुलिस का मानना है कि प्राथमिक तौर पर दोनों को हिरासत में रखकर बातचीत की जा रही है। डीसी ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि मामले को पंचायती तौर पर खत्म किया जाएगा। 

अमर उजाला

‘पिछड़ों, दलित वर्ग का कोटा पूरा नहीं’

http://www.amarujala.com/news/city/chitrakoot/chitrakoot-hindi-news/backwards-not-quota-underclass-hindi-news/

अपना दल की राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्णा पटेल ने कहा कि पिछड़ों और दलित वर्ग का कोटा पूरा नहीं किया जा रहा है। उप्र लोक सेवा आयोग में त्रिस्तरीय आरक्षण का फार्मूला लगाकर पिछड़ों और दलितों का कोटा पूरा करने की पहल की गई थी, पर वर्तमान प्रदेश सरकार ने इसे वापस लेकर इनके बढ़ते कदमों को रोकने का काम ही किया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि बसपा और सपा दोनों आरक्षण मुद्दे पर खामोश रहती हैं। कृष्णा पटेल शनिवार को राष्ट्रीय रामायण मेला परिसर में बाबू जगदेव प्रसाद कुशवाहा के शहीद माह दिवस पर सामाजिक न्याय संकल्प रैली को संबोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि देश का विकास बिना खेती संभव नहीं है। किसानों को हमेशा वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल किया गया।

किसानों को लागत से पचास फीसदी अधिक न्यूनतम समर्थन मूल्य दिए जाने की स्वामीनाथन रिपोर्ट आज भी लटकी है। उन्होंने दावा किया कि बीस साल में लगभग तीन लाख किसान आत्महत्या कर चुके हैं। पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष पल्लवी पटेल का कहना था कि आरक्षण की अलख जगाने वाले बाबू जगदेव प्रसाद को कांग्रेस ने सम्मान नहीं दिया।

जनगणना के नए आंकड़े संकेत दे रहे हैं कि ग्रामीण भारत की आर्थिक, सामाजिक तस्वीर अच्छी नहीं है। इसके अलावा राष्ट्रीय महासचिव सांसद कुंवर हरिवंश सिंह, प्रेमचंद्र मौर्य, छोटेलाल मौर्य, विक्की मौर्य, कैलाशनाथ पटेल, गंगाराम यादव, आरबीसिंह पटेल, आदि ने भी संबोधित किया।

इस मौके पर जिलाध्यक्ष रामसिया सिंह पटेल, यशवंत पटेल, बलिकरन पासी, संतोष धुरिया, रामसनेही मौर्य, अलका पटेल, महेंद्र पटेल, मोहनलाल फौजी, भगवान सहाय पटेल, शीतला प्रसाद आदि मौजूद रहे। इसके पूर्व पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष का काफिला डाक बंगले कर्वी से राष्ट्रीय रामायण मेला परिसर तक पहुंचा।

अमर उजाला

जगमगाएगी गरीबों की बस्ती

http://www.amarujala.com/news/city/sonebhadra/jagmgaagi-poor-township-hindi-news/

12वीं पंचवर्षीय योजनांतर्गत राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना तृतीय के अंतर्गत जिले के 1227 गांवों के 2028 मजरों में विद्युतीकरण कराया जाना है। इसके लिए शासन से 87.97 करोड़ धन भी आवंटित हो गया है। शनिवार को जैत गांव के दलित बस्ती में घोरावल क्षेत्र के विधायक रमेश चंद्र दूबे, बिजली विभाग के एक्सईएन हवलदार रावत ने पूजन-अर्चन कर विद्युतीकरण का शुभारंभ किया। इसके साथ ही उन तमाम बस्तियों में विद्युतीकरण का कार्य शुरू हो गया जहां, अब तक लोगों के घरों में बिजली नहीं पहुंची थी।

इस मौके पर हुई सभा को संबोधित करते हुए विधायक रमेश चंद्र दूबे ने कहा कि सपा सरकार ने आज तक जिन गांवों और मजरों में बिजली नहीं पहुंच सकी है, वहां विद्युतीकरण कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए शासन से धन भी स्वीकृत हो चुका है। वर्ष 2016 तक 12वीं पंचवर्षीय योजनांतर्गत राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना तृतीय के अंतर्गत जिले के 1227 गांवों के 2028 मजरों में विद्युतीकरण कर आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी। कहा कि जिन मजरों में विद्युतीकरण होगा वहां लगाने के लिए 1290 अदद 25 केवीए का ट्रांसफार्मर तथा 73, 63 केवीए का ट्रांसफार्मर की स्थापना कर एलटीलाइन के माध्यम से आपूर्ति की जाएगी।

अधिशासी अभियंता हवलदार रावत और एसडीओ अनिल कुमार ने कहा कि निर्धारित समयसीमा के भीतर विद्युतीकरण का कार्य पूर्ण किया जाएगा। कहा कि जिन गांवों मेें बिजली तार और पोल जर्जर हो चुके हैं उन्हें चिह्नित करने का कार्य भी शुरू हो गया है। पूर्व जिलाध्यक्ष श्याम बिहारी यादव और रविंद्र बहादुर सिंह ने कहा कि सपा सरकार सभी जाति, धर्म के लोगों के हित में कार्य कर रही है। प्रदेश सरकार से जनहित में संचालित योजनाओं का लाभ जन-जन तक पहुंचाने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। अध्यक्षता कर रहे पूर्व प्रधान मंगलेश चौबे ने कहा कि आधे गांव में अब तक बिजली जल रही थी। दलित बस्ती के लोग अंधेरे में गुजर बसर करने के लिए मजबूर थे। लेकिन जल्द ही दलित बस्ती भी रोशनी से जगमगाने लगेगी। संचालन कर रहे घोरावल विस अध्यक्ष बाबूलाल यादव ने कहा कि सपा सरकार गरीबों के लिए ढेर सारी योजनाएं संचालित कर रही है। शहर से लेकर गांव तक सड़क, बिजली, पानी आदि का विकास कार्य हो रहा है। इस मौके पर नरायण सिंह, नटवर सिंह, प्रेम प्रसाद, कतवारू यादव, राजेश जायसवाल, रामरक्षा, नंदलाल, तेजबली, रामबली, गणेश, सुमेर मौजूद रहे।

न्यूज़ 18

दलित संगठनों ने सरकार से की

समान शिक्षा प्रणाली लागू करने की मांग

http://hindi.news18.com/news/haryana/dalit-demand-equal-education-system-730397.html

हरियाणा के भिवानी में शनिवार को दलित संगठनों ने धरने प्रदर्शन कर प्रदेश सरकार से दलितों को दी जा रही शिक्षा सुविधा के बारे में ड्रामा करने की बजाय समान शिक्षा प्रणाली लागू करने की मांग की.

इन संगठनों ने चेतावनी दी कि उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो वे ग्राम स्तर पर अपनी मांगों के प्रति लोगों को जागरूक कर सरकार के खिलाफ आंदोलन शुरू करेंगे.

भले ही सरकार हर रोज नई-नई योजनाए लागू कर दलित व गरीब हितेषी होने का दावा कर रही हो और प्रदेश में नई शिक्षा नीति लागू करने की बात करे, लेकिन जमीनी स्तर पर दलित संगठन सरकार पर उनके नाम पर बनाई गई योजनाओं का ड्रामा करने की बजाय समान शिक्षा प्रणाली लागू करने की मांग कर रहे हैं.

इस मांग को लेकर नेहरु पार्क में हरियाणा अनुसूचित राजकिय अध्यापक संघ तथा डा. अम्बेडकर स्टूडेंट फ्रैंट ऑॅफ इंडिया ने धरना और प्रदर्शन किया.

हरियाणा अनुसूचित राजकिय अध्यापक संघ के जिला प्रधान सुरेंद्र रानिला तथा डा. अम्बेडकर स्टूडेंट फ्रैंट ऑॅफ इंडिया के राष्ट्रिय संयोजक अभय ने बताया कि भले ही सरकार दलितों के नाम कई योजना चला रही हो लेकिन आज तक छात्रों को छात्रवृति के पैसे नहीं मिले हैं.

उन्होंने कहा कि दलित बच्चों को सरकार वास्तव में शिक्षित करना चाहती है तो पांचवी और आठवीं कक्षा में बोर्ड की परीक्षा होनी चाहिए और इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला हरियाणा में भी लागू होना चाहिए.

उन्होंने कहा कि उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो वे गांव गांव जाकर लोगों का सहयोग मांग आंदोलन करेंगे. साथ ही चेतावनी दी की अपनी इस मांग को लेकर 3 अक्तुबर को शिक्षा बोर्ड का घेराव भी करेंगे.

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s