दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 30.07.15

रेप से इंकार पर दबंग ने दलित महिला के काटे हाथ-पैर – प्रदेश टुडे

http://www.pradeshtoday.com/newsdetails.php?news=Rep-deny-Dalit-bite-the-hands-and-feet-on-the-domineering&nid=122112

दलित से रेप का दोषी करार – नवभारत टाइम्स

http://navbharattimes.indiatimes.com/state/punjab-and-haryana/hisar/convicted-of-raping-dalit/articleshow/48271864.cms

भूमि विवाद में गोली चली, आठ घायल – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/deoria-12666732.html

दबंगों के डर से ग्रामीणों ने किया पलायन, अब गांव में रहती है पुलिस न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/bihar/crooks-fear-villagers-flee-from-village-now-police-lives-in-village-501277.html

वाल्मीकि समाज ने की श्मशान की भूमि सुरक्षित करने की मांग – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/saharanpur-12662589.html

मुआवजे के लिए 14 महीने से धरने पर बैठे दलित किसान की मौत – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/feature/samachar/national/dalit-farmer-death-sitting-on-compensation-for-the-of-14-month-lay-off-hindi-news-rs/

मनहेड़ा ने सुनी दलित समुदाय की समस्याएं – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/punjab/ropar-12665103.html

जाटों ने किया दिल्ली-फिरोजपुर रेलवे ट्रैक जाम – राजस्थान  पत्रिका

http://rajasthanpatrika.patrika.com/story/india/delhi-firozpur-railway-track-stopped-by-jat-1271161.html

दलित छात्र-छात्राओं की क्यों नहीं आई शुल्क प्रतिपूर्ति? दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/saharanpur-12667006.html

स्कालरशिप बंद करने के विरोध में प्रदर्शन – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/punjab/kapurthala-12666941.html

मिनी बस आपरेटरों ने किया प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/punjab/amritsar-12665766.html

Please Watch:

Reservation debate on NDTV

https://www.youtube.com/watch?v=McU0zDgWO0U

प्रदेश टुडे

रेप से इंकार पर दबंग ने दलित महिला के काटे हाथ-पैर

http://www.pradeshtoday.com/newsdetails.php?news=Rep-deny-Dalit-bite-the-hands-and-feet-on-the-domineering&nid=122112

 जबलपुर : इज्जत बचाने के लिए आरोपी से लड़ते हुए एक हाथ और पैर गंवाने वाली रियल लाइफ मर्दानी को देखने के लिए केन्द्रीय अनुसूचित जाति आयोग के सदस्य (केन्द्रीय राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त) राजू परमार आज सुबह मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंचे। पन्ना  जिला निवासी घायल महिला से दल ने वार्ड नंबर 14 में मुलाकात करते हुए पूरे घटनाक्रम की जानकारी लेकर चिकित्सकों को उचित इलाज करने के निर्देश दिए हैं।

उल्लेखनीय है कि सतना जिला के ककरहा ग्राम निवासी महिला 40 वर्षीय अनीता (परिवर्तित नाम) करीब 15 दिन पूर्व जंगल में बकरी चराने गई थी। जहां उसे अकेला पाकर गांव के गणेश ठाकुर ने इज्जत लूटने का प्रयास किया। महिला ने विरोध किया तो गणेश ने कुल्हाड़ी से उसका दाहिना हाथ काटते हुए पैरों में कुल्हाड़ी से प्रहार कर दिया। गंभीर हालत में उसे जबलपुर रेफर करने के बाद मेडिकल में उपचार किया जा रहा है। मेडिकल में पीड़ित महिला से मुलाकत करने के बाद राजू परमार ने सर्किट हाउस में कलेक्टर एसएन रूपला एवं एसपी डॉ. आशीष से मुलाकात करते हुए फोन पर सतना एसपी से बात की है। 

नवभारत टाइम्स

दलित से रेप का दोषी करार

http://navbharattimes.indiatimes.com/state/punjab-and-haryana/hisar/convicted-of-raping-dalit/articleshow/48271864.cms

हिसार की विशेष अदालत ने एक दलित नाबालिग छात्रा के साथ हुए रेप के आरोपी को बुधवार को दोषी करार दे दिया। हिसार की अदालत ने घटना के नौ महीने के अंदर ही अपना फैसला सुनाते हुए आरोपी को दोषी करार दिया। पीड़ित पक्ष के अधिवक्ता एडवोकेट रजत कल्सन ने बताया कि पिछले साल 9 सिंतबर की रात को हांसी के मोची मोहल्ले में शराब की दुकान चलाने वाले बड़सी निवासी रोहताश ने 13 वर्षीय पीडि़ता को उसके घर से नशीला पदार्थ सुंघाकर रेप की वारदात को अंजाम दिया था। काफी लोगों के इकट्ठे होने व शोर-शराबा होने के बाद दोषी रोहताश भाग गया। इस बारे में थाना शहर हांसी की पुलिस ने रेप, एससी एसटी एक्ट, पोक्सो एक्ट की धाराओं में एफआईआर दर्ज करके 14 सितंबर को दोषी को गिरफ्तार किया था।

दैनिक जागरण

भूमि विवाद में गोली चली, आठ घायल

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/deoria-12666732.html

देवरिया : तरकुलवा थाना क्षेत्र के पथरदेवा कस्बे में बुधवार को प्रशासनिक अमले की मौजूदगी में बंजर भूमि पर कब्जे को लेकर खूनी संघर्ष हो गया। इस दौरान लाइसेंसी असहले से फाय¨रग की गई, जिसमें आठ लोग घायल हुए हैं। चौंकाने वाली बात यह रही कि हालात को काबू करने के बजाय पुलिस कर्मी मौके से भाग खड़े हुए। घायलों में तीन की हालत नाजुक बताई जा रही है।

कस्बे के दक्षिण दलित बस्ती के समीप बंजर भूमि है। ग्राम प्रधान कपूर चंद मद्धेशिया की पहल पर उक्त भूमि की पैमाइश राजस्व कर्मी पुलिस की मौजूदगी में कर रहे थे। मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा थी। माहौल तब गर्म हो गया, जब दो पट्टीदार बंजर भूमि पर कब्जे को लेकर आपस में कहासुनी करने लगे। बताया जाता है कि जिस भूमि पर गुलाब ¨सह का पोट्री फार्म है, उस पर अपना हक जताते करीब आधा दर्जन लोग पहुंच गए। खुद को गुलाब ¨सह का पट्टीदार बताने वाले साहब ¨सह, पृथ्वी ¨सह, महेंद्र ¨सह व दरोगा ¨सह आदि की दूसरे पक्ष से तीखी नोंकझोंक शुरू हुई। कुछ ही देर में नौबत मारपीट की आ गई।

पुलिस व राजस्व कर्मियों की मौजूदगी में दोनों पक्ष आपस में हाथापाई करने लगे। इस दौरान एक पक्ष ने दूसरे पर पथराव शुरू कर दिया। अफरा-तफरी के बीच दूसरे पक्ष ने लाइसेंसी असलहे से फायर झोंका। गोली साहब ¨सह के दाहिने हाथ व पृथ्वी ¨सह के पैर में लगी। दोनों जमीन पर गिर पड़े। इसके बाद हालात बेकाबू हो गया। इस घटना में कुल आठ लोग घायल हुए हैं। घायलों में एक पक्ष के साहब ¨सह, दरोगा ¨सह, पृथ्वी ¨सह, महेंद्र ¨सह शामिल हैं। जबकि दूसरे पक्ष से संजय ¨सह, गुलाब ¨सह व छोटे ¨सह को सिर व शरीर के अन्य हिस्सों में गंभीर चोटें आई हैं।। इस दौरान घटना स्थल पर मौजूद विजय शर्मा पथराव में लहूलुहान हो गया।

ग्रामीणों के हस्तक्षेप से मामला शांत हुआ। सदर अस्पताल के चिकित्सकों के मुताबिक मारपीट में संजय ¨सह व उनके पिता को गंभीर चोटें आईं हैं। दोनों के साथ ही गोली से घायल साहब ¨सह व पृथ्वी ¨सह को भी मेडिकल कालेज रेफर किया गया है।

पथरदेवा कस्बे में दो पक्षों के बीच गोली लगने की खबर फैलते ही लोग इमरजेंसी अस्पताल पहुंचने लगे। वहां उमड़ी भीड़ तब हक्का-बक्का रह गई, जब मौके से सुरक्षा कर्मी नदारत रहे। पुलिस के नाम पर जो एक कांस्टेबल मौके पर मौजूद मिला वह भी आधी नींद में था। इधर उपचार कराने जब दोनों पक्ष सदर अस्पताल पहुंचे तो वहां का माहौल तनावपूर्ण हो गया। वाकये की जानकारी कोतवाली प्रभारी को दी गई। तब पुलिस हरकत में आई।

न्यूज़ 18

दबंगों के डर से ग्रामीणों ने किया पलायन,

अब गांव में रहती है पुलिस

http://hindi.news18.com/news/bihar/crooks-fear-villagers-flee-from-village-now-police-lives-in-village-501277.html

खगड़िया के परबत्ता थाने के शिरोमणी गांव में पिछले तीन दिनों से खौफ के साए के कारण सन्नाटा पसरा हुआ है. पूरा गांव खाली नजर आ रहा है. गांव में कोई रह रहा है तो वो है पुलिस.

गांव की दलित बस्ती के लोग गांव से पलायन कर दूसरे गांव में शरण लिए हैं. वहीं जिला प्रशासन पलायन कर गए लोगों को दोबारा गांव में बसाने के प्रयास में जुटा है. परबत्ता का शिरोमणी टोला जहां कलतक लोग आपस में बैठकर अपनी हर समस्या का हल ढूढ़ते थे, लेकिन आज पूरे गांव में खौफ का सन्नाटा पसरा हुआ है. घर का चूल्हा बंद है.

गांव में चारों ओर सिर्फ पुलिस ही पुलिस नजर आ रही है. दबंगों के डर से लोग धीरे-धीरे गांव से पलायन कर दूसरे गांव में शरण लिए हुए हैं. दरअसल तीन दिन पहले गांव का एक लड़का और लड़की प्रेम-प्रसंग में भाग गए थे.

लड़की ऊंची जाति से थी और लड़का दलित परिवार से, बस इसी बात का गुस्सा ऊंची जाति के लोगों को लगा और दलित बस्ती में जाकर जमकर उत्पाद मचाया. कई घरों में तोड़-फोड़ कर जमकर मारपीट की. इस घटना को लेकर लोग आज भी खौफजदा हैं.

वहीं जिला प्रशासन गांव से पलायन कर चुके लोगों को दोबारा गांव में लाने का प्रयास कर रही है. वहीं लोजपा ने पीड़ित परिवार को सुरक्षा देने की मांग की है. बहरहाल गांव में एक ओर जहां ऊंची जाति के लोग पुलिस की कार्रवाई से डरकर गांव छोड़ चुके है, वहीं दूसरी ओर ऊंची जाति के खौफ से दलित बस्ती के लोग गांव छो़ड़ चुके हैं.

ऐसे में जिला प्रशासन के लिए यह चुनौती भरा कदम होगा कि किस तरह से इस माहौल को शांत करें और पलायन कर चुके गांव के लोगों को किस तरह से वापस लाते हैं.

दैनिक जागरण

वाल्मीकि समाज ने की श्मशान की भूमि सुरक्षित करने की मांग

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/saharanpur-12662589.html

बेहट (सहारनपुर) : अति दलित हिताय संगठन के बैनर तले बाल्मीकि समाज के लोगों ने मरवा गांव में समाज के लोगों द्वारा इस्तेमाल की जा रही श्मशान की भूमि को सुखदा अधिनियम के अंर्तगत यथास्थिति रखे जाने की मांग की है। इस दौरान इन लोगों ने एसडीएम को एक ज्ञापन भी सौंपा।

अति दलित हिताय सामाजिक संगठन के अध्यक्ष संजय ढ़ीगरा के नेतृत्व में वाल्मीकि समाज के लोगों ने तहसील पर प्रदर्शन करते हुए डीएम को संबोधित ज्ञापन एसडीएम शीतल प्रसाद गुप्ता को सौंपा। ज्ञापन में मरवा गांव के निकट श्मशान की भूमि को इसी उद्देश्य से इस्तेमाल किए जाने की मांग की गई है। आरोप है कि कुछ लोग उक्त भूमि को गलत तरीके से अपने नाम कराकर श्मशान घाट न होना बता रहे हैं, जबकि यह भूमि पूर्व में बंजर दर्ज थी।

ज्ञापन के माध्यम से क्षेत्र के प्रत्येक गांव में वाल्मीकि समाज के लिए मृत्यु के उपरांत अंतिम संस्कार के लिए अलग श्मशान भूमि उपलब्ध कराए जाने की मांग की। संगठन द्वारा सुखदा अधिनियम के अंतर्गत ऐसी जमीनों को जो विगत 20 वर्षो से संस्कार के कार्य में लाई जा रही है, उनमें यथास्थिति रखने की मांग की गई है। इस दौरान अमित कुमार, शिव कुमार, ब्लाक अध्यक्ष नाथीराम, फूलचंद नेता, प्रदीप, सुरेन्द्र, यशपाल, महिपाल, तेजपाल, मांगेराम, अजय, विशाल, विक्की, फग्गू, मोनी, ममता, गीता व तोसी आदि रहे।

अमर उजाला

मुआवजे के लिए 14 महीने से धरने पर बैठे दलित किसान की मौत

http://www.amarujala.com/feature/samachar/national/dalit-farmer-death-sitting-on-compensation-for-the-of-14-month-lay-off-hindi-news-rs/

नई भू अधिग्रहण नीति से मुआवजे की मांग को लेकर 14 माह से धरने पर बैठे एक दलित किसान की बुधवार को मौत हो गई। इस किसान के पास मात्र दो बीघा जमीन थी और उसका भी अधिग्रहण हो गया था। अब आस थी कि मुआवजा मिले। अब आक्रोशित किसानों ने ऐलान किया कि यह लड़ाई किसी सूरत में बंद नहीं होगी।

नई भू अधिग्रहण नीति से मुआवजा दिए जाने की मांग को लेकर शताब्दीनगर में किसानों का चार जून 2014 से धरना चल रहा है। किसानों ने ऐलान कर रखा है कि जब तक उनकी जमीन वापस नहीं कर दी जाती या नई नीति से मुआवजा नहीं दिया जाता, धरना जारी रहेगा।

भाकियू नेता विजयपाल घोपला, जगमाल, डा. अमरवीर आदि के मुताबिक कंचनपुर घोपला निवासी दलित किसान शोभाराम (70) 14 माह से यहीं धरने पर थे। बुधवार सुबह वह धरना स्थल से शौच के लिए गए और गश खाकर गिर पड़े। उन्हें उठाकर एक निजी चिकित्सक के यहां ले जाया गया, जहां शोभाराम को मृत घोषित कर दिया गया।

किसानों ने इसकी सूचना उनके परिजनों को दी। इसके बाद शव को घर ले जाया गया। शाम को शोभाराम का अंतिम संस्कार कर दिया गया।

दैनिक जागरण

मनहेड़ा ने सुनी दलित समुदाय की समस्याएं

http://www.jagran.com/punjab/ropar-12665103.html

संवाद सहयोगी, नूरपुरबेदी : पंजाब राज्य महिला कमिशन की वाइस चेयरपर्सन सतवीर कौर मनहेड़ा ने नूरपुरबेदी क्षेत्र का दौरा कर वाल्मीकि व दलित समाज के लोगों की समस्याएं सुनीं।

इस मौके पर नूरपुरबेदी पहुंचने पर उनका जोरदार स्वागत किया गया। उन्होंने कहा कि वह पिछड़े वर्ग की समस्याओं से अवगत हैं तथा जल्द ही मुख्यमंत्री से मिल समाधान निकालने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि महिला वर्ग की सुरक्षा के लिए सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं बनाए गई हैं, जिसका वह अधिक से अधिक लाभ उठाएं। उन्होंने कहा कि महिला पर यदि किसी भी तरह का अत्याचार का मामला उनके ध्यान में आता है तो वह पंजाब महिला कमिशन के कार्यालय में संपर्क कर सहायता प्राप्त कर सकते हैं।

इस मौके पर वाल्मीकि व दलित समाज ने मनहेड़ा को सिरोपा भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके गुरचरण ¨सह खालसा, सरपंच भारत भूषण हैप्पी, रमेश कुमार, सतीश धमाणा, अध्यक्ष सोहन लाल, मदन लाल, संजीव कुमार, नीलम आदि मौजूद थे।

राजस्थान  पत्रिका

जाटों ने किया दिल्ली-फिरोजपुर रेलवे ट्रैक जाम

http://rajasthanpatrika.patrika.com/story/india/delhi-firozpur-railway-track-stopped-by-jat-1271161.html

 जींद। हरियाणा के जींद जिले के धरौंदी गांव में गत दिनों दलितों को प्लाटों पर कब्जा दिलाने के दौरान हुए विवाद ने तूल पकड़ लिया है और जाटों ने बुधवार को आंदोलन का एलान करके गांव मेें दिल्ली-फिरोजपुर रेलवे ट्रैक जाम कर दिया।

सैंकड़ों की तादात में लोग रेलवे ट्रेक के बीच में बैठ गए। जाटों की मांग है कि इस प्रकरण में मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी और परिजनों को 25 लाख रूपए की अनुग्रह राशि दी जाए और दोषी अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया जाए। गांव में हालात तनावपूर्ण हैं जिसे देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है।

गौरतलब है कि गत 18 जुलाई को प्रशासन द्वारा दलितों को सौ-सौ गज के प्लाटों पर कब्जा दिलाने के दौरान जाटों और दलितों में झड़प हो गई थी। झगड़े के दौरान चाकु लगने से जाट समुदाय के विक्रम नामक युवक की मौत हो गई थी और संदीप घायल हो गया था। घटना के बाद गांव से करीब 150 दलित परिवार पलायन कर गए थे।

जाटों ने बुधवार को गांव में युवक की मौत के बाद शोकसभा का आयोजन किया था जिसमें बड़ी संख्या में लोग पहुंचे और यह महापंचायत में तब्दील हो गई। मृतक की पत्नी को नौकरी और अनुग्रह राशि नहीं मिलने पर लोगों ने आंदोलन का एलान करते हुए तुरंत दिल्ली-फिरोजपुर रेलवे ट्रैक जाम कर दिया।

जींद रेलवे स्टेशन के अधीक्षक अनिल यादव ने बताया कि जाटों के इस प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली की तरफ से जींद होते हुए पंजाब जाने वाली कई मेल गाडिय़ों का रास्ता बदल कर वाया पानीपत कर दिया गया है।

दैनिक जागरण

दलित छात्र-छात्राओं की क्यों नहीं आई शुल्क प्रतिपूर्ति?

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/saharanpur-12667006.html

सहारनपुर : शुल्क प्रतिपूर्ति न आने से परेशान जनपद के हजारों दलित-छात्राएं परेशान घूम रहे हैं। इनका कहना है कि जब सब बच्चों की शुल्क प्रतिपूर्ति आ रही है तो उनकी क्यों काटी जा रही है। देवबंद कालेज के ऐसे ही छात्र-छात्राओं ने डीएम से मिलकर उन्हें इस समस्या से अवगत कराते हुए शुल्क प्रतिपूर्ति दिलाने की मांग की है।

देवबंद कालेज आफ हायर एजुकेशन देवबंद के बीएड छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति न मिलने से उनके सामने समस्या उत्पन्न हो गई है। कालेज बार-बार फीस जमा करने का दबाव बनाया जा रहा है परंतु उनके पास इतना धन नहीं है कि वह फीस जमा कर सकें। बुधवार को उन्होंने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर शुल्क प्रतिपूर्ति जल्दी दिलवाए जाने की मांग की। छात्र विशेष कुमार, शबनम, सीमा रानी, विपिन कुमार, रुबी, मालती, अंकित कुमार, रविता देवी का कहना है कि वे सभी अनुसूचित जाति के छात्र-छात्राएं हैं। शासनादेश के अनुसार उनकी शुल्क प्रतिपूर्ति 51,250 रुपए आने थे।

मगर उनके खातों में सिर्फ पांच हजार रुपए ही आए हैं। इस शुल्क का भुगतान समाज कल्याण विभाग द्वारा कालेज को किया जाना था परंतु अभी तक समाज कल्याण विभाग द्वारा शुल्क का भुगतान नहीं किया गया। समाज कल्याण अधिकारी का कहना है कि कालेज की गलती के कारण शुल्क प्रतिपूर्ति कम आई है। जबकि कालेज का कहना है कि इसमें समाज कल्याण विभाग की गलती है।

इसलिए दोनो की जांच कराकर उनकी शुल्क प्रतिपूर्ति दिलाई जाए। उन्होंने कहा कि कालेज 51 हजार 250 रुपये शुल्क जमा करने का दबाव बना रहा है। शुल्क जमा न करने पर परीक्षा से वंचित करने की धमकी दी जा रही है। उन्होंने मांग की है कि जल्द शुल्क का भुगतान करवाया जाए जिससे उनका भविष्य खराब न हो। इस मौके पर अनेक छात्र-छात्राएं मौजूद रहे। जनपद में अकेले देवबंद ही नहीं करीब तीन दर्जन कालेज के दलित छात्र-छात्राओं की शुल्क प्रतिपूर्ति नहीं आने से हजारों बच्चों का भविष्य अंधकारमय होता जा रहा है।

दैनिक जागरण

स्कालरशिप बंद करने के विरोध में प्रदर्शन

http://www.jagran.com/punjab/kapurthala-12666941.html

फगवाड़ा : पंजाब स्टूडेंट फेडरेशन कर ओर से बुधवार को रामगढि़या कालेज, सेंट सोल्जर कालेज व डीएवी कालेज के आगे अर्थी फूंक रोष प्रदर्शन किया। इस मौके पर विद्यार्थियों ने पंजाब सरकार के खिलाफ जोरदार नारेबाजी की गई व पोस्ट मैट्रिक स्कालरशिप स्कीम को बंद करने के फैसले के खिलाफ संघर्ष तेज करने का ऐलान किया। इस मौके पर प्रदेश उपाध्यक्ष मनजिंद्र सिंह ढेसी ने कह कि पंजाब सरकार दलित विद्यार्थियों से शिक्षा का अधिकार छीन रही है तथा निजी कालेजों से मिलीभगत कर दलित विद्यार्थियों की फीस माफ करने के बावजूद दोबारा फीस वसूल करने का निर्णय लिया है।

सरकार व यूनिवर्सिटियों के इस फैसले से 3 लाख नौजवानों का भविष्य खतरे में है। क्योंकि फीस नहीं दे पाने की हालत में विद्यार्थी पढ़ाई छोड़ने के लिए विवश हैं तथा दूसरी तरफ निजी कालेजों की फीसें जो कि मनमर्जी से वसूल की जा रही हैं वह वहन करने की क्षमता लोगों में नहीं है। उन्होंने माग की कि स्कालरशिप स्कीम को जल्द से जल्द लागू कर विद्यार्थियों से वसूल की गई फीस वापिस की जाए। उन्होंने कहा कि यदि उनकी मांगे नहीं मानी गई तो संघर्ष और तेज किया जाएगा।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s