दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 09.07.15

संदिग्धावस्था में आग से जली युवती, मौतसंदिग्धावस्था में आग से जली युवती, मौत – पर्दाफ़ास

http://hindi.pardaphash.com/news/–782680/782680.html#.VZ4g5V8ipdg

मजदूरी मांगने गई दलित महिला का घर जलाया – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/mathura/mathura-crime-news/house-of-a-woman-burnt-in-mathura-hindi-news/

वृद्ध की हत्या कर शव कुएं में फेंका – अमर उजाला

http://www.amarujala.com/news/city/agra/agra-crime-news/mardar-of-oldman-hindi-news/

शौच गयी महिला से दुष्कर्म का प्रयास – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/etawah-12571134.html

थानाधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग – प्रेस नोट

http://www.pressnote.in/jaisalmer-news_278616.html

कुपोषण की शिकार बालिका ने तोड़ा दम – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/jaunpur-12568373.html

कोटेदार को पैसा लौटाने का निर्देश – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/ballia-12571066.html

खाताधारकों ने सेंट्रल बैंक घेरा – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/etawah-12572152.html

जातिगत जनगणना को ले राजद सड़क पर – दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/bihar/patna-city-12573889.html

अवरोध और विरोध- जनसत्ता

http://www.jansatta.com/chopal/jansatta-editorial-ftii-delhi-university-avrodh-aur-virodh/31583/

Please Watch :

Samaddar: Is Bengal an exception in terms of dalit movements?

https://www.youtube.com/watch?v=ZwmBY8LwRwQ

पर्दाफ़ास

संदिग्धावस्था में आग से जली युवती, मौत संदिग्धावस्था में आग से जली युवती, मौत

http://hindi.pardaphash.com/news/–782680/782680.html#.VZ4g5V8ipdg

लखीमपुर-खीरी। जिले के थाना मितौली इलाके मे बुधवार को एक दलित लड़की की आग से जलकर संदिग्ध परिस्थितियों मे मौत हो गई। मृतका के परिजनो ने लड़की को जबरन अज्ञात लोगो द्वारा आग लगाये जाने का आरोप लगाया है।

177371

जानकारी के अनुसार ग्राम दरी निवासी शम्भु गौतम की 18 वर्षीय पुत्री उत्तरा देवी दोपहर करीब डेढ बजे गाँव के पश्चिम ओर स्थित वीर महतिया के गन्ने के खेत में शौच के लिए गई थी। कुछ समय बाद लोगो को उस लड़की की चीख पुकार सुनाई दी जिस पर ग्रामीणों ने मौके पर जाकर देखा तो लड़की बेहोशी की हालत में बुरी तरह जली हुई पड़ी थी। घटना की सूचना पाकर पहुचे परिजन आनन फानन में उसे लेकर बेहजम सीएचसी गए जहाँ उसकी गम्भीर हालत के चलते डाक्टरों ने उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

ग्रामीणों के अनुसार मृतका उत्तरा देवी अपने पिता व पूरे परिवार सहित लखीमपुर में पिपरिया बाईपास पर भट्टे पर मजदूरी करती थी जहाँ कुछ मनचले लड़को ने उसके साथ छेड़खानी का प्रयास किया था जिससे आहत परिजन लड़की को लेकर वापस अपने घर चले आये थे तथा इस दौरान हुयी बारिश के चलते भट्टे पर काम काज भी ठप हो गया था। बताते हैं कि बुधवार को भी कुछ अज्ञात युवक मोटरसाइकिल से उसके गाँव गए थे। 

एक ओर जहां कुछ लोग इस घटना को प्रेमप्रसंग तथा मनचलो की हरकत से जोड़ रहे है, वही दूसरी ओर घटना स्थल पर गन्ने का खेत जो की गीला था, वहीं पर लड़की की चप्पल ,लोटा व माचिस का पाया जाना लड़की द्वारा स्वयं आग लगाने की ओर इंगित करता है।

घटना के बाबत जानकारी करने पर एसओ जावेद अख्तर ने बताया कि मैं स्वयं घटना स्थल का निरीक्षण करने गया था लेकिन अभी तक परिजनों द्वारा कोई तहरीर प्राप्त नहीं है, परिजनो द्वारा तहरीर मिलने के बाद ही कार्यवाही की जायेगी। 

अमर उजाला

मजदूरी मांगने गई दलित महिला का घर जलाया

http://www.amarujala.com/news/city/mathura/mathura-crime-news/house-of-a-woman-burnt-in-mathura-hindi-news/

रिफाइनरी क्षेत्र स्थित गांव बमूरी में एक दलित महिला ने मजदूरी के बकाया रुपये मांगे तो दबंगों ने उसका घर जला दिया। इससे पहले उसके पुत्र को जमकर पीटा और आग में फेंकने का प्रयास किया। दबंगों के दुस्साहस के आगे गांव का भी व्यक्ति बीचबचाव की हिम्मत नहीं कर सका।

थाना रिफाइनरी अंतर्गत गांव बमूरी निवासी दलित महिला बादामी देवी पत्नी विजय सिंह ने कुछ दिन पहले ही गांव के पप्पू उर्फ चंद्रसेन पुत्र होती के यहां मजदूरी की थी। बुधवार की सुबह बादामी मजदूरी के बकाया रुपये मांगने के लिए पप्पू के घर गई। इससे गुस्साए पप्पू ने उसे फटकार दिया। 

acr300-559d6b0931626fire

महिला के विरोध करने पर पप्पू ने उसे देख लेने की धमकी देते हुए भगा दिया। आरोप है कि बुधवार शाम को पप्पू अपने पुत्रों के साथ बादामी देवी के खेतों की ओर पहुंचा। वहां काम कर रहे बादामी के पुत्र गुलाब सिंह के साथ जमकर मारपीट की। इसके बाद गुलाब को घसीटते हुए गांव में लाए और यहां उसकी मां के साथ भी मारपीट की। महिला के घर को आग के हवाले कर दिया। 

जब आग ने विकराल रूप ले लिया तो फिर बादामी के बेटे गुलाब को आग में फेंकने का भी प्रयास किया गया। हालांकि, फिर उन्होंने इरादा बदल दिया और वहां से चले गए। सूचना मिलने पर सीओ राजेश सोनकर फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। घायल गुलाब को उपचार के लिए जिला अस्पताल भिजवाया गया। 

गुलाब के भाई सोनू की तहरीर के आधार पर पप्पू उर्फ चंद्रसेन पुत्र होती और उसके पुत्र केदार, मानवेंद्र एवं दिगंबर के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज की गई है। क्षेत्राधिकारी रिफाइनरी राजेश सोनकर ने कहा कि मजदूरी के रुपये मांगने पर झगड़ा हुआ है। पीड़ित की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों की तलाश की जा रही है।

अमर उजाला

वृद्ध की हत्या कर शव कुएं में फेंका

http://www.amarujala.com/news/city/agra/agra-crime-news/mardar-of-oldman-hindi-news/

सैंया के गांव अयेला में लड़की भगाने के आरोपी युवक के पिता जंगलिया (65) की दबंगों ने गोली मारकर हत्या कर दी। शव को घर के सामने बने कुएं में फेंक दिया। घटना के बाद से गांव में जातीय तनाव फैल गया है। पुलिस हमलावरों की तलाश कर रही है।

सवर्ण बहुल गांव में दलित जंगलिया पत्नी गुलाबवती के साथ रहते थे। उनके चारों बेटे शंकर, सोनू, रवि और विजय गांव से बाहर रहकर मजदूरी करते हैं। पुलिस ने बताया कि रवि के प्रेम संबंध गांव की सवर्ण युवती से चल रहे थे। 22 जून को रवि उसके मुरैना स्थित ससुराल से भगा ले गया था। मुरैना के दिमनी थाने में रिपोर्ट दर्ज कराए जाने के बाद पुलिस ने रवि को गिरफ्तार कर जेल भेजा था, जबकि विवाहिता मायके लौट गई थी। इस घटना के बाद से जंगलिया के परिवार से लड़की के परिवारीजनों की रंजिश हो गई थी। दबंग सवर्णों ने जंगलिया और गुलाबवती को घर से निकालकर ताला लगा दिया था। 

acr300-559d895592bd73

ग्रामीणों ने बताया कि मंगलवार को पंचायत में दंपति को गांव छोड़ने का फरमान सुनाया गया था। इस शर्त पर घर की चाबी सौंपी गई थी। पंचायत के बाद बुधवार दोपहर दो बजे दंपति सामान समेटने घर पहुंचा था। गुलाबवती ने पुलिस को बताया कि तभी लड़की के परिवारीजनों ने धावा बोल दिया। जंगलिया की गोली मारकर हत्या करके शव घर के सामने कुएं में फेंक दिया। गुलाबवती जान बचाकर भाग निकली। इसके बाद हमलावरों ने घर से जेवर और नगदी आदि लूट ली। 

सीओ खेरागढ़ राजेंद्र यादव सर्किल की फोर्स के साथ गांव पहुंचे। पुलिस ने कुएं से शव को निकाला। गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। सीओ ने बताया कि घटना में गांव के शिशुपाल और घनश्याम का नाम प्रकाश में आए हैं। तहरीर नहीं मिली है। हमलावरों की तलाश की जा रही है।

गुलाबवती डर के मारे खेतों में छुपी रही

सवर्ण बहुल गांव में घटना के बाद दहशत फैल गई। गुलाबवती डर के मारे खेतों में छुपी रही। ग्रामीणों को घटना की जानकारी थी, लेकिन कई घंटे तक किसी ने पुलिस को सूचना नहीं दी। बाद में चौकीदार ने पुलिस को वृद्ध की हत्या करके शव कुएं में फेंके जाने की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस गांव पहुंची।

दैनिक जागरण

शौच गयी महिला से दुष्कर्म का प्रयास

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/etawah-12571134.html

बकेवर, संवादसूत्र : थाना क्षेत्र के ग्राम गोपियापुरा में बुधवार की सुबह खेतों में शौच के लिए गयी एक महिला को अहेरीपुर निवासी दो लोगों ने दुष्कर्म का प्रयास किया। शोर मचाने पर खेतों में काम कर रहे लोगों ने दोनों लोगों को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया।

उक्त गांव निवासी पीड़िता ने थाने में तहरीर देते हुए बताया कि वह जैसे ही शौच क्रिया के लिए खेत में गयी, तभी घात लगाये बैठे भूरे पुत्र कल्लू खां व इरेन्द्र पुत्र पंचीलाल कुशवाहा निवासी अहेरीपुर ने आकर पकड़ लिया। छेड़छाड़ व दुष्कर्म करने का प्रयास करने पर उसने जब शोर मचाया तो खेतों में काम करने वाले लोग एकत्र होकर आ गये और मौके पर ही आरोपियों को दबोच लिया। पीड़िता के प्रार्थना पत्र के आधार पर पुलिस ने दलित एक्ट व छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर लिया है, जांच सीओ भरथना राघवेन्द्र ¨सह को सौपी गयी है।

प्रेस नोट

थानाधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग

http://www.pressnote.in/jaisalmer-news_278616.html

पोकरण | क्षेत्र के दलित समाज के समाजसेवी तथा लोहार की गांव के लोगों ने एसपी के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंप रामदेवरा थानाधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने की मांग की है।

उन्होंने ज्ञापन में बताया कि लोहारकी गांव में 7 जुलाई को चंद्रप्रकाश पुत्र स्व. रेंवताराम (14)गर्ग गायों को लेकर जा रहा था। उस दौरान दिनेश प्रेमाराम ने रास्ता रोककर मारपीट की। जिस पर रामदेवरा थाना को सूचना देने पर पुलिसकर्मी मेडिकल करवाने के लिए लेकर गए। तब छात्र का बड़ा भाई मुकेश भी उसके साथ गाड़ी में गया। पुलिसकर्मी उसे रामदेवरा थाना ले जाकर हवालात में बंद कर दिया।

वहीं दिनभर अमानवीय व्यवहार किया। दोपहर में लगभग 5 बजे थानाधिकारी आए तथा पुलिसकर्मियों ने उसके साथ मारपीट की। रात्रि को 12 बजे थानेदार ने थाने से बाहर निकाला और कपड़े पहनने के लिए दिए।

दैनिक जागरण

कुपोषण की शिकार बालिका ने तोड़ा दम

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/jaunpur-12568373.html

चंदवक (जौनपुर): एक तरफ केंद्र व प्रदेश सरकार का स्वास्थ्य महकमा कुपोषण के खिलाफ प्रदेशव्यापी अभियान चलाया है। डीएम व सीडीओ प्रत्येक जिले में गांवों को गोद लेकर कुपोषण को समाप्त करने को प्रयासरत हैं वहीं जमीनी हकीकत है कि गांवों में कुपोषण के शिकार बच्चे दम तोड़ रहे हैं। ऐसा ही एक मामला पोखरा गांव की दलित बस्ती का है, जहां कुपोषण की शिकार दो वर्षीय बालिका ने दम तोड़ दिया।

पोखरा गांव निवासी बबलू राम की दो वर्षीय पुत्री रानी काफी दिनों से कुपोषण का शिकार हो गई थी। निर्धनता के कारण उसका इलाज सही तरीके से नहीं करा पा रहा था। सरकारी व निजी अस्पताल में दिखाया परंतु धन के अभाव में इलाज सही तरीके से नहीं हुआ। गरीबी को देखते हुए गांव के ही समाजसेवी मोनू ¨सह ने एक माह पूर्व सीएमओ को अवगत कराया। इस पर इलाज कराने का आश्वासन मिला। परंतु स्वास्थ्य विभाग की टीम नहीं पहुंच सकी और बालिका ने सोमवार को दम तोड़ दिया। कुपोषण से हुई बालिका की मौत ने केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा कुपोषण के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान की पोल खोल दी। गांव में और भी बच्चे कुपोषण से पीड़ित हैं।

दैनिक जागरण

कोटेदार को पैसा लौटाने का निर्देश

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/ballia-12571066.html

हल्दीरामपुर (बलिया): बिल्थरारोड तहसील के लोहिया समग्र ग्राम बहुताचक उपाध्याय गांव के मिडिल स्कूल पर जिलाधिकारी मुरली मनोहर लाल ने चौपाल लगाकर नागरिक समस्याओं को जाना व उनके निस्तारण का निर्देश दिया। कोटेदार द्वारा कार्डधारक से अधिक मूल्य लिए जाने को गंभीरता से लेते हुए पैसा वापस करने का निर्देश दिया। डीएम की चौपाल में प्रमोद राम व समरजीत ¨सह ने अपात्रों को लोहिया आवास आवंटित करने की शिकायत की। कहा कि इंदिरा आवास लाभार्थियों को ही सुविधा शुल्क के आधार पर लोहिया आवास का लाभ दिया गया है। डीएम ने तत्काल बीडीओ को जांच व कार्रवाई के आदेश दिए।

साथ ही मालती देवी पत्?नी जगधारी व विमला देवी पति सुभाष को आवंटित लोहिया आवास का भौतिक निरीक्षण भी किया। नक्शा के हिसाब से आवास न बनने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए डीएम ने तत्काल आवास को नक्शा के हिसाब से दुरूस्त करते हुए आवास में शौचालय व किचन बनवाने का भी निर्देश दिया। उमेश पाण्डेय व हरिवंश उपाध्याय ने गांव की गड़ही को प्रधान द्वारा पटवा दिए जाने का आरोप लगाया। जिससे गांव में जल निकासी की समस्या गंभीर हो गई है।

डीएम ने उक्त गड़ही का भी निरीक्षण किया और बीडीओ को मनरेगा से तुरंत खुदवाने का आदेश दिया। गांव में हुए अन्य विकास कार्यो में घोर लापरवाही व अनियमितता की शिकायत के साथ ही बिना काम हुए ही कागजों में खड़जा निर्माण हो जाने की शिकायत पर सीडीओ के. बालाजी ने सचिव, प्रधान व अन्य पदाधिकारियों को सभी विकास कार्य के दस्तावेज प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।

गांव के दलित बस्ती में वर्तमान प्रधान के कार्यकाल में एक भी शौचालय निर्माण न किए जाने व नवनिर्मित नाली पर ढक्कन न लगाएं जाने की भी लोगों ने शिकायत की। वहीं समरजीत ¨सह ने जंगल के नाम से चर्चित गांव के दो एकड़ भूमि के लगे पेड़ों को प्रधान द्वारा कटवाने व पट्टा करने की साजिश की शिकायत की तो डीएम ने तत्काल पुन: पेड़ लगाने व पट्टा न करने का आदेश दिया।

इस दौरान सीडीओ के बालाजी, एएसपी के.सी. गोस्वामी, बीएसए राकेश ¨सह, एसडीएम रामानुज ¨सह, एक्सईएन ¨सचाई नंद जी गुप्ता, जिला कृषि अधिकारी जेपी यादव, कार्यक्रम अधिकारी रामभवन वर्मा, नायब तहसीलदार चंद्रभूषण प्रताप, बीडीओ सीयर अजय गुप्ता, सचिव प्रमोद पाण्डेय, थानाध्यक्ष नन्हें राम सरोज आदि मौजूद थे।

दैनिक जागरण

खाताधारकों ने सेंट्रल बैंक घेरा

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/etawah-12572152.html

इटावा, जागरण संवाददाता : सेंट्रल बैंक के चांदनपुर ग्राहक सेवा केंद्र पर जमाकर्ताओं का लाखों रुपये डूबने का मामला एक माह से अधिक समय गुजरने के बावजूद सुलझ नहीं सका है। बैंक प्रबंधन द्वारा लगातार टाल-मटोल का रवैया अपनाये जाने से आखिरकर बुधवार को जर्माकर्ताओं का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने बड़ी संख्या में बैंक की मुख्य शाखा नौरंगाबाद का घेराव कर नारेबाजी करते हुए दोषी कर्मचारियों पर कार्रवाई की मांग की। प्रदर्शन के दौरान एक महिला जमाकर्ता बेहोश होकर गिर पड़ी। चांदनपुर की इस महिला ने 40 हजार रुपये जमा किए थे।

जमाकर्ताओं ने सामाजिक संस्था दलित अल्पसंख्यक पिछड़ा वर्ग जनकल्याणकारी संस्थान के बैनर तले प्रदर्शन किया। जमाकर्ताओं ने खाते से धन हड़पे जाने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई किए जाने, जांच सीबीसीआईडी से कराए जाने की मांग की है। सवाल उठाया गया है कि केंद्र के संचालक देवेश कुमार शाक्य की मृत्यु कैसे हुई, उसके बाद बैंक की धनराशि का आदान-प्रदान किसकी निगरानी में चेकआउट होता रहा। सारे मामले की जांच कर जमाकर्ताओं को उनका धन लौटाया जाए।

प्रदर्शन की जानकारी होने पर सीओ सिटी शिवराज ¨सह, शहर कोतवाल विनोद यादव मौके पर पहुंचे और शांति व्यवस्था कायम की। उनकी मौजूदगी में जमाकर्ताओं की तरफ से प्रतिनिधि मंडल बैंक मैनेजर आरके कन्नाौजिया से मिला। उन्होंने एक सप्ताह की मोहलत मांगते हुए पूरे मामले की जांच करवाकर दोषी लोगों पर कार्रवाई और समस्या के संतोषजनक निदान का आश्वासन दिया।

दैनिक जागरण

जातिगत जनगणना को ले राजद सड़क पर

http://www.jagran.com/bihar/patna-city-12573889.html

पटना। जनगणना-2011 में सामाजिक, आर्थिक एवं जाति आधार पर जिन आंकड़ों का रिकार्ड तैयार हुआ है उसे केन्द्र सरकार सार्वजनिक करे। इन्हीं आंकड़ों के अनुसार ही योजना एवं बजट में महत्व व अधिकार मिलना है। जन-जन से जुड़े इन आंकड़ों का सच जब तक सबके सामने नहीं होगा तब तक उनके साथ इंसाफ की उम्मीद नहीं की जा सकती। यह बातें राजद की पटना साहिब इकाई के नेताओं ने बुधवार को अनुमंडल कार्यालय के समक्ष विरोध-प्रदर्शन के दौरान कहीं। बाद में इन नेताओं ने प्रधानमंत्री का पुतला फूंका।

आंदोलन का नेतृत्व कर रहे राजद के प्रदेश महासचिव प्रदीप मेहता ने कहा कि दलित, अल्पसंख्यक, पिछड़े एवं समाज के अन्य वर्गो से जुड़े आंकड़ों को केन्द्र सरकार सार्वजनिक करे। इनके पूर्ण विकास के लिए आबादी के अनुसार ही बजट, योजना तथा अन्य क्षेत्रों में हिस्सेदारी मिलनी चाहिए। राजद नेता उमेश पंडित ने आरोप लगाया कि केन्द्र सरकार केवल कारपोरेट घरानों के विकास को लेकर काम कर रही है। विरोध प्रदर्शन में मो. जावेद, असगर अली, कुंवर बल्लभ, विवेक साव, अरूण स्वर्णकार, डॉ. इकबाल अहमद, रंजीत चंद्रवंशी, अभय गोस्वामी समेत अन्य थे।

जनसत्ता

अवरोध और विरोध

http://www.jansatta.com/chopal/jansatta-editorial-ftii-delhi-university-avrodh-aur-virodh/31583/

कला जगत मानो परम शोक की अवस्था से गुजर रहा है। पुणे के भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान पर गजेंद्र चौहान की महाभारतीय छाया पड़ने की खबर से खलबली का-सा माहौल है। इससे जुड़े तमाम पक्ष प्रिंट मीडिया से लेकर विजुअल मीडिया तक छाए हैं। दोनों तरफ तलवारें तनी हुई हैं, न तो छात्र मानने को तैयार हैं, न हमारे युधिष्ठिरजी लाज बचाने के लिए पीछे हट रहे हैं।

अब सतह को कुरेद कर परतों को खोलने की जरूरत है। यह समझने की जरूरत है कि इस घटना में प्रतिबंधित किए जाने जैसी बू क्यों आ रही है, वैसी ही जैसी दिल्ली विश्वविद्यालय के अंकुर नामक एक थियेटर सोसाइटी के साथ हुआ था। एक समांतर रेखा खिंचती-सी दिख रही है, जिसमें चौहान को पदभार संभालने ही नहीं दिया जाएगा और अंकुर को मंचन नहीं करने दिया जाएगा, में कोई विशेष फर्क नहीं दिख रहा। आखिर चौहान को जो जिम्मेदारी दी गई, वह है क्या! वह एक प्रशासनिक जिम्मेदारी है, जिसमें वे दूसरों की बौद्धिकता और स्वच्छंदता को कैसे नियंत्रण में ले आएंगे, समझ के बाहर की बात है।

दूसरी दलील कि चौहान से पहले कई नामचीन लोगों ने इस संस्थान की शोभा बढ़ाई है, बतौर अध्यक्ष इन महानुभावों ने कौन से झंडे गाड़े, भले उनकी निजी उपलब्धि चाहे जो रही हो। रहा हिंदुत्ववादियों के राष्ट्रीय दृष्टिकोण के बोलबाले का खतरा, तो यह महज एक खोखला नारा लगता है, क्योंकि राष्ट्र की परिकल्पना के संदर्भ में अभी तक भारतीय परिप्रेक्ष्य में किसी इस्लामी, सिख या क्रिस्तानी सोच से हमारा परिचय नहीं हुआ है। फिर हिंदू सोच के राष्ट्रवाद से ऐसी घिन क्यों? एक स्वर वहां से भी उठे, इससे इतना डर और परहेज क्यों? जब हम टैगोर जैसे मनीषी के राष्ट्रवाद, अंतरराष्ट्रीयतावाद की पहेली को समझते और सराहते रहे, तो फिर आज कलाजगत में तथाकथित राष्ट्रवादियों को महामारी की तरह क्यों देखा जा रहा है?

ऐसे में क्या अन्य दृष्टिकोण, जिनमें कुछ नया या अलग करने की संभावना हो, उन्हें जड़ से कुचल डालना कुछ वैसा ही नहीं है, जैसे ब्राह्मणवाद द्वारा दलित आवाज को उठने से पहले ही खत्म कर देना! अभी तक कला, साहित्य और सिनेमा में वामपंथ और उससे जुड़ी हस्तियों का वर्चस्व असह्य बात नहीं रही है, पर आज दक्षिणपंथी तनी हुई मसें, रौब और अकड़ दिखाना निश्चय ही अपने किस्म का एक ब्राह्मणवाद है, वैसा ही ब्राह्मणवाद जिसका वामपंथ हमेशा से विरोध करता रहा है, फिर आज छात्रों को जमीन में लोटने की जरूरत क्यों आन पड़ी?

यह जबरदस्त पूर्वग्रह ही तो कहीं दक्षिणपंथियों के राजनीतिक सत्ता को पाते ही, अनाप-शनाप जुमलों, हरकतों और धृष्टता के लिए जिम्मेदार नहीं है, क्योंकि कला, साहित्य और शिक्षा किसी की जागीर होने से रही! फिर कितने भी चौहान आ जाएं इतनी बेताबी क्यों? और अगर यह बेसब्री किसी खतरे का आगाज है, तो फिर जनतांत्रिक और मौलिक तौर पर प्रत्युत्तर तैयार करें, जिद से कभी धाराएं नहीं पलटतीं।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s