दलित मीडिया वाच – हिंदी न्यूज़ अपडेट 15.06.15

दलित मीडिया वाच
हिंदी न्यूज़ अपडेट 15.06.15

प्लॉट पर कब्जा करने से रोका तो दबंगों ने 2 साल के मासूम को जमीन पर पटका, मौतदैनिक भास्कर
http://www.bhaskar.com/news/MP-GWA-HMU-MAT-latest-gwalior-news-025504-2069821-NOR.html
किडनैप कर युवक से दुष्कर्मनवभारत टाइम्स
http://navbharattimes.indiatimes.com/state/punjab-and-haryana/other-cities-of-punjab/haryana/kidnap-misdemeanor-tax-man/articleshow/47666684.cms
रिपोर्ट लिखाने के लिए थाने पर धरना – अमर उजाला
http://www.amarujala.com/news/city/shahjahanpur/shahjahanpur-crime-news/the-report-on-the-picket-station-to-enroll-hindi-news/
जामताली के बसहा दलित बस्ती में भारी बवाल अमर उजाला
http://www.amarujala.com/news/city/pratapgarh/pratapgarh-crime-news/crime-in-pratapgarh-hindi-news-59/
बाबा साहेब की प्रतिमा की एक बाजु फिर तोड़ीपंजाब केसरी
http://www.punjabkesari.in/news/article-370813
महाराष्ट्र की तर्ज पर साक्षरता दर बढ़ाने के लिए पंजाब सरकार को लिखेगा आयोग – दैनिक जागरण
http://www.jagran.com/punjab/amritsar-12481602.html
अभाविप ने दलित छात्रों के बीच पैठ बनाने पर दिया जोरअमर उजाला
http://www.amarujala.com/news/city/budaun/budaun-hindi-news/abvp-dalit-students-insisted-on-making-inroads-among-hindi-news/
घूरपुर पहुंचे राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्षअमर उजाला
http://www.amarujala.com/news/city/allahabad/allahabad-crime-news/crime-in-allahabad-hindi-news-10/

Please Watch :

: Dadaji Khobragade

https://vimeo.com/127400150

दैनिक भास्कर

प्लॉट पर कब्जा करने से रोका तो दबंगों ने 2 साल के मासूम को जमीन पर पटका, मौत

http://www.bhaskar.com/news/MP-GWA-HMU-MAT-latest-gwalior-news-025504-2069821-NOR.html

bpl-g2645860-large

गोला का मंदिर इलाके में एक प्लॉट पर कब्जा करने वाले दबंगों का विरोध करने पर पूरे दलित परिवार को पीटा गया। दबंगों ने दो साल के मासूम को जमीन पर दे मारा। मासूम की मां और नानी को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां दो साल के मासूम की रविवार सुबह मौत हो गई। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ हत्या और प्लॉट पर कब्जा व मारपीट करने का मामला दर्ज कर लिया।

गोला का मंदिर थाना क्षेत्र के आदर्श नगर में रहने वाली किशन देवी जाटव का एक प्लॉट यहां है। इस प्लॉट पर लवकुश, मनोज और रामवीर गुर्जर अपना हक जताकर विवाद करते हैं। इसकी शिकायत किशन देवी ने कलेक्टोरेट में की थी। जांच के बाद प्लॉट पर किशनदेवी का हक पाया गया। एक महीने पहले पुलिस को किशन देवी ने सूचना दी थी कि इस प्लॉट पर उन्होंने बाउंड्री वाल बनवाना शुरू कर दी है। इसके बाद पुलिस ने गुर्जर पक्ष को समझाया कि वे किशन देवी के काम में दखल न दें।

लेकिन इसके बाद शनिवार को गुर्जर पक्ष ने किशनदेवी की बाउंड्री के साथ एक और दीवार बनवाकर अपना गेट लगवा दिया। इस पर किशन देवी और परिजन ने आपत्ति जताई तो लवकुश, मनोज और रामहेत ने किशनदेवी के साथ मारपीट कर दी। पास ही किशनदेवी की बेटी राधिका अपने बेटे दिव्यांश (2) काे लेकर बैठी थी। इन लोगों ने राधिका के बाल पकड़कर खींचे और दिव्यांश को छीनकर जमीन पर दे मारा। दिव्यांश को यहां पड़े पत्थर से गंभीर चोट लगी। किशनदेवी के सिर में चोट लगी। उन्हें प्राथमिक इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई। वहीं दिव्यांश को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां रविवार सुबह उसकी मौत हो गई।

दो आरोपी गिरफ्तार: पुलिस ने शनिवार शाम को झगड़े के बाद किशनदेवी की शिकायत पर लवकेश, रामवीर और मनोज के खिलाफ प्लाॅट पर हत्या, जबरन कब्जा करने, मारपीट का मामला दर्ज कर लिया है। वहीं लवकेश की शिकायत पर किशनदेवी और राधिका के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने लवकेश और मनोज को गिरफ्तार कर लिया है।

मां की गोद से खींचा और पत्थर पर पटक दिया
मृतक दिव्यांश के पिता दीपक का कहना है कि घटना के समय दिव्यांश अपनी मां राधिका की गोद में था। हमलावर उनकी सास किशनदेवी को पीट रहे थे। राधिका उन्हें बचाने आई तो इन लोगों ने राधिका के बाल पकड़कर पटक दिया अौर बच्चे को गोद से छीनकर जमीन पर दे मारा। दीपक का कहना है कि उनकी शादी को छह साल हो गए हैं और दिव्यांश इकलौता बेटा था। उसकी मौत की खबर सुनकर राधिका बेसुध हो गई। दीपक पिछले एक साल से ससुराल में ही रह रहा था।
फर्जी रजिस्ट्री पर कब्जा करने का दावा
दीपक ने बताया कि उनकी सास किशन देवी ने 2010 में इस प्लॉट को खरीदा था। लवकेश का परिवार इस प्लॉट को अपना बताकर 2012 की फर्जी रजिस्ट्री दिखाने लगा था।

इलाज के दौरान बच्चे की मौत, हत्या का मामला दर्ज
झगड़े में घायल हुए बच्चे की इलाज के दौरान मौत हो गई है। हत्या का मामला दर्ज कर दो आरोपियों को पकड़ा गया है।” -वीरेंद्र जैन, एएसपी

नवभारत टाइम्स

किडनैप कर युवक से दुष्कर्म

http://navbharattimes.indiatimes.com/state/punjab-and-haryana/other-cities-of-punjab/haryana/kidnap-misdemeanor-tax-man/articleshow/47666684.cms

रोहतक : फाइनेंसर ने अपने साथियों के साथ मिलकर एक दलित युवक को किडनैप उसके साथ दुष्कर्म किया। खोखराकोट के इस दलित युवक के मुताबिक, उसने प्राइवेट फाइनेंसर से 9 हजार रुपये कर्ज लिए थे। 16 हजार रुपये चुका देने के बावजूद फाइनेंसर संतुष्ट नहीं हुआ। 27 हजार रुपये और देने की मांग कर रहे फाइनेंसर ने 10-12 युवकों के साथ मिलकर शनिवार को उसे अगवा कर लिया। अफीम खिला कर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया। रविवार को युवक की हालत ज्यादा बिगड़ जाने पर खेत में फेंक दिया गया। फाइनेंसर ने मार्च में भी युवक को उठा लिया था और उसकी बहन से 10 हजार रुपये लेकर उसे छोड़ा था। पुलिस का कहना है कि आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

अमर उजाला

रिपोर्ट लिखाने के लिए थाने पर धरना

http://www.amarujala.com/news/city/shahjahanpur/shahjahanpur-crime-news/the-report-on-the-picket-station-to-enroll-hindi-news/

लखीमपुर खीरी के मोहम्मदी क्षेत्र की एक दलित महिला ने दो वकीलों समेत तीन लोगों पर गैंगरेप का आरोप लगाया है। उसके पति ने शनिवार को रोजा थाने में तहरीर दी, पर अब तक रिपोर्ट न लिखे जाने पर दंपति थाने में ही धरना देकर बैठ गए हैं।

खीरी के एक गांव के युवक ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया है कि मोहम्मदी के एक वकील ने एक मामले में सुलह कराने के लिए उसकी पत्नी को शनिवार की शाम चार बजे शाहजहांपुर बुलाया था। आरोप है कि वकील ने उसकी पत्नी को हथौड़ा चौराहे पर अपनी कार में बैठा लिया और दूसरे वकील से बात कराने के लिए जिला अस्पताल ले गया, जहां समझौता कराने वाला दूसरा वकील नहीं मिला। साथ वाले वकील ने कहा कि रविवार को हम वकील साहब से मिलकर तुम्हारा काम करवा देंगे !

पीड़िता के पति का आरोप है कि साथ वाला वकील उसकी पत्नी को अपनी कार से मोहम्मदी वापस ला रहा था, तभी अटसलिया-मोहम्मदी मार्ग पर एक राइस मिल के पास दो आरोपी, जिसमें एक वकील और था, मिले और उसकी पत्नी के बाल खींचकर झाड़ियों की ओर ले गए और रिवाल्वर के बल पर दोनों वकीलों व एक अन्य ने उसके साथ दुराचार किया। किसी तरह पीड़िता बचकर रोजा थाने आई। उसने एक सिपाही के मोबाइल से अपने पति को घटना की जानकारी दी। पीड़ित अपनी पत्नी के साथ शनिवार से रोजा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए अड़ा हुआ है।

सीओ सदर अनुराग दर्शन, प्रभारी निरीक्षक आरएन चौधरी सहित महिला पुलिस ने भी पीड़िता के बयान लिए हैं। पीड़िता ने पुलिस को घटनास्थल भी दिखाया जहां पुलिस को टूटी हुई चूड़ियां आदि मिली हैं। मामला दो वकीलों से जुड़ा होने के कारण पुलिस बैकफुट पर नजर आ रही है। पुलिस ने दोनों आरोपी वकीलों को बुलाकर मामला निपटाने का समय दिया है।

सामूहिक रेप का मामला संदिग्ध है, लेकिन इतना जरूर है कि महिला आरोपियों से पीड़ित है और चार साल से अपने गांव से पलायन किए हुए है। दोनों पक्षों के बीच समझौते के आसार बन रहे हैं। बात नहीं बनी तो तहरीर के आधार पर रिपोर्ट दर्ज की जाएगी।

अनुराग दर्शन, सीओ सदर रोजा थाना क्षेत्र में गैंगरेप का मामला फर्जी है। इस पूरे मामले को विभाग का एक सिपाही ही हवा दे रहा है। इसका आरोपियों से विवाद है। पीड़ित के मोबाइल पर सिपाही की कॉल आ रही थीं। गंभीरता को देखते हुए उचित कदम उठाए जा रहे हैं।

-आरएन चौधरी, प्रभारी निरीक्षक रोजा पुलिस ने आरोपियों से साठगांठ कर ली है। मुझ पर समझौते का दबाव बनाने के लिए मेरे साथ मारपीट की है। रविवार को मुझे जमीन पर बैठाकर फर्जी मुकदमे में बंद करने की धमकी दी और आरोपियों को कुर्सी पर बैठाकर बात की गई। बलात्कार पीड़िता महिला का पति

अमर उजाला

जामताली के बसहा दलित बस्ती में भारी बवाल

http://www.amarujala.com/news/city/pratapgarh/pratapgarh-crime-news/crime-in-pratapgarh-hindi-news-59/

acr300-557dc640c450214ptp43_2707988_CMY

रानीगंज थाना क्षेत्र के बसहा जामताली गांव की दलित बस्ती में रविवार दोपहर भारी बवाल हो गया। सई नदी में नहाने को लेकर हुए विवाद के बाद कुंभापुर बुढ़ौरा गांव के दबंग युवकों ने लाइसेंसी बंदूक और असलहे से ताबड़तोड़ फायरिंग की। गोली लगने से चार लोग लहूलुहान होकर तड़पने लगे। जबकि पिटाई से महिला समेत तीन लोग घायल हो गए। मारपीट और फायरिंग करने के बाद हमलावर फरार हो गए।

घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने हमलावरों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सड़क पर जाम लगा दिया और मंत्री शिवाकांत ओझा का पुतला फूंका। मौके पर पहुंचे एसपी बलिकरन सिंह यादव ग्रामीणों की बात सुनने के बाद दबंग आरोपियों की तलाश में बुढ़ौरा दबिश देने पहुंचे। करीब पौने तीन घंटे बाद पुलिस ने लाठियां पटककर जाम हटाया। गांव में तनाव के कारण पीएसी तैनात कर दी गई है।

सई नदी के तट पर बसे बसहा गांव की दलित बस्ती की महिलाएं रविवार की दोपहर स्नान करने के लिए नदी की ओर गई थीं। जिस स्थान पर महिलाएं नहा रही थीं, वहीं कुंभापुर बुढ़ौरा गांव के कई युवक भी नहाने पहुंच गए। यह देख बसहा दलित बस्ती के जियालाल व मिथुन उन लोगों को रोकने लगे। इसे लेकर उनके बीच विवाद होने लगा। देखते ही देखते मारपीट शुरू हो गई। दोनों पक्षों के बीच मारपीट होते देख महिलाओं ने शोर मचाया। गांव के लोग दौड़े तो बुढ़ौरा गांव के युवक भाग निकले। करीब बीस मिनट बाद बुढ़ौरा गांव के दर्जन भर युवकों ने बाइक से पहुंचकर दलित बस्ती में धावा बोल दिया।

दलित बस्ती में घुसे दबंग युवकों ने लोगों के साथ गालीगलौज करने के साथ ही मारपीट शुरू कर दी। आरोप है कि हमलावरों ने लाइसेंसी बंदूक व असलहे से फायरिंग की। गोली लगने से सुभाष सरोज (23) पुत्र बलिगोविंद, प्रदीप (25), ललित किशोर सरोज (58) व चौहरजा सरोज (60) घायल हो गए। सई नदी से नहाकर लौट रही लालती देवी को भी हमलावरों ने पीट दिया। लोगों की गुहार सुनकर ग्रामीण दौड़े तो हमलावर फायरिंग करते हुए भाग निकले। गोली लगने से घायल चारों लोगों को स्थानीय अस्पताल भेजा गया। वहां से डाक्टरों ने सभी को जिला अस्पताल भेज दिया। यहां से भी तीन लोगों को डाक्टरों ने हालत गंभीर देखकर इलाहाबाद रेफर कर दिया।

इधर घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने जामताली बाजार में जाम लगा दिया। इससे पट्टी-रानीगंज, जामताली- प्रतापगढ़ और जामताली से बीरापुर मार्ग अवरुद्ध हो गया। घटना की खबर मिलने पर एसओ संजय शर्मा पौन घंटे के बाद मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों के उग्र तेवर व दो वर्गों के मामले को देख पुलिसकर्मियों के होश उड़ गए। थोड़ी देर बाद एसपी बलिकरन सिंह यादव, एडीएम पुनीत शुक्ला, एएसपी पूर्वी अखिलेश्वर पांडेय, पश्चिमी दिनेश सिंह दलबल के साथ मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों से पूछताछ के बाद एसपी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सीओ पट्टी और कोतवाल को लेकर बुढ़ौरा गांव में दबिश देने पहुंच गए।

सड़क जाम करने वाले ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन व कैबिनेट मंत्री शिवाकांत ओझा के खिलाफ नारेबाजी करते हुए उनका पुतला फूंका। अफसर उग्र ग्रामीणों को समझाने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन वे किसी की बात सुनने को तैयार नहीं हुए। अंत में पौने तीन घंटे बाद पुलिस ने सख्त रुख अपनाते हुए लाठी पटकी तो ग्रामीण सड़क से हटे। इसके बाद सभी मार्गों पर आवागमन बहाल हो सका।

पंजाब केसरी

बाबा साहेब की प्रतिमा की एक बाजु फिर तोड़ी

http://www.punjabkesari.in/news/article-370813

2015_6image_01_21_52481378715-ll

(जलोटा): फगवाड़ा में आज तब भारी तनाव उत्पन्न हो गया जब गांव पलाही के एक पार्क में अज्ञात शरारती तत्वों ने भारत रत्न बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेदकर की प्रतिमा की एक बाजू को तोड़ दिया। इस घटना के विरोध में दलित संगठनों ने 17 जून को पूर्ण फगवाड़ा बंद का ऐलान कर दिया है। बता दें कि फगवाड़ा में उक्त घटना तब घटी है जब मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल स्वयं फगवाड़ा में संगत दर्शन कार्यक्रम करने पहुंचे हुए थे। आरोपी कौन है व उक्त शर्मनाक घटना को कब अंजाम दिया गया, इसे लेकर पुलिस जांच कर रही है। गांव पलाही में घटे उक्त गंभीर घटनाक्रम की सूचना मिलते ही सैंकड़ों दलित परिवारों के अलावा डी.एस.पी. फगवाड़ा मनप्रीत सिंह ढिल्लों, थाना सदर के एस.एच.ओ. सुरिन्द्र सिंह, थाना फगवाड़ा सिटी के एस.एच.ओ. परम सुनील रंधावा भारी पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे।

इस दौरान अम्बेदकर सेना मूल निवासी पंजाब के प्रधान हरभजन सुमन, बसपा के पूर्व प्रदेश महासचिव जरनैल नंगल, बसपा पार्षद रमेश कौल, तेजपाल बसरा पूर्व बसपा पार्षद, डा.राजिन्द्र कलेर, डा.यश बरना, डा. जगदीश,परमिन्द्र बोध, बलविन्द्र बोध, आकाश बंगड़, पूॢणमा सुमन बसपा पार्षद, हैप्पी, अशोक कुमार, जसवीर सरोय, मंजीत,जसपाल, प्यारे लाल चक्क हकीम सहित भारी संख्या में विभिन्न दलित संगठनों के नेताओं व कार्यकत्र्ताओं ने मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, पंजाब सरकार, फगवाड़ा प्रशासन व पुलिस एवं लोकल भाजपा विधायक सोमप्रकाश कैंथ के खिलाफ जमकर नारेबाजी करनी शुरू कर दी।

उन्होंने फगवाड़ा-चंडीगढ़ मेन बाईपास, स्थानीय फगवाड़ा-होशियारपुर रोड पर पंजाब सरकार व पुलिस प्रशासन का स्यापा करना शुरू कर धरना देकर आरोपियों की गिरफ्तारी करने की मांग रख आंदोलन शुरू कर दिया। इसी भांति फगवाड़ा बाईपास पर बाबा गद्दिया इलाके के करीब दलित संगठनों के नेताओं ने पंजाब सरकार व लोकल प्रशासन के विरुद्ध नारेबाजी कर सड़क पर ट्रैफिक जाम कर धरना लगा दिया।

दैनिक जागरण

महाराष्ट्र की तर्ज पर साक्षरता दर बढ़ाने के लिए पंजाब सरकार को लिखेगा आयोग

http://www.jagran.com/punjab/amritsar-12481602.html

जागरण संवाददाता, अमृतसर : राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष डा. राजकुमार वेरका ने कहा कि महाराष्ट्र की तर्ज पर पंजाब में भी अनुसूचित जाति श्रेणी में साक्षरता दर बढ़ाने के लिए वह राज्य सरकार को पत्र लिखेंगे।

डा. वेरका ने कहा कि शिक्षा विभाग के मुताबिक महाराष्ट्र में सामान्य वर्ग की साक्षरता दर 82.3 फीसद है, जबकि अनुसूचित जाति की 79.7 फीसद है, जो सराहनीय है। इसी तरह 381 हॉस्टल अनुसूचित जाति के लड़कों के लिए तथा 163 हॉस्टल लड़कियों के लिए बनाये गए हैं। हॉस्टल में सभी सहूलियतें मुफ्त में दी जा रही हैं।

आयोग के अध्यक्ष पीएल पूनिया और उपाध्यक्ष डॉक्टर राजकुमार वेरका की अध्यक्षता में मुंबई में महाराष्ट्र राज्य का रिव्यू किया गया। इस दौरान दलित उत्पीड़न के मामले बढ़ने पर चिंता जताई गई, लेकिन महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के लोगों की पढ़ाई लिखाई अच्छी होने पर आयोग ने शिक्षा विभाग की पीठ भी थपथपाई है। बैठक में चीफ सेक्रेटरी, डीजीपी के अलावा तमाम सरकारी विभागों के अधिकारी मौजूद थे। केंद्र सरकार से आने वाली मदद को महाराष्ट्र सरकार द्वारा पूरी तरह इस्तेमाल न कर पाने पर आयोग ने राज्य सरकार को फटकार लगाई और स्पष्ट कर दिया कि अगर केंद्र से आने वाली दलित समुदाय के लिए मदद को पूरी तरह इस्तेमाल ना किया गया तो केंद्र उनको मदद देना बंद कर देगा।

डॉ. वेरका ने बताया कि महाराष्ट्र में दलित उत्पीड़न के मामले पहले से अधिक हुए हैं। विशेषकर अहमदनगर, लातूर, बीड, सतारा जिलों में दलित उत्पीड़न के मामले बहुत अधिक सामने आये हैं। इसे रोकने के लिए डीजीपी को सख्त निर्देश दिए गए और ये भी कहा गया कि जिन पर दलित उत्पीड़न हुआ है उनको जल्द से जल्द रिलीफ फंड जारी किया जाये। आयोग ने अनुसूचित जाति की नौकरियों के बैकलॉक को जल्दी खोलने के निर्देश भी दिए हैं।

अमर उजाला

अभाविप ने दलित छात्रों के बीच पैठ बनाने पर दिया जोर

http://www.amarujala.com/news/city/budaun/budaun-hindi-news/abvp-dalit-students-insisted-on-making-inroads-among-hindi-news/

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के ब्रज प्रांत का तीन दिवसीय प्रांतीय अभ्यास वर्ग कासगंज में हुआ, इसमें पूर्वोत्तर और दलित छात्रों के बीच पैठ बनाने पर जोर दिया गया।

अभ्यास वर्ग में शामिल होकर लौटे जिला संयोजक सहदेव सागर ने बताया कि अधिवेशन में राष्ट्रीय अध्यक्ष हरी बोरकर, राष्ट्रीय मंत्री सुनील आंबेकर ने भारत को जानों का नारा दिया। साथ ही उत्तर भारत के छात्रों से भेदभाव दूर करने पर जोर दिया। उनका कहना था कि इसाई मशीनरी कमजोर दलित छात्रों को बरगलाकर धर्म परिवर्तन कर रही हैं, इनकी मंशा को अब रोकना है। दलित छात्रों को संगठन से जोड़कर उनका मार्गदर्शन करना है। सागर ने बताया कि अब परिषद की सदस्यता मोबाइल से काल करने पर भी हो जाएगी।

उन्होंने बताया कि इस सत्र में ही बदायूं जिले के संगठन मंत्री भरत सिंह चौहान को फिरोजाबाद और अलीगढ़ के संगठन मंत्री रुद्र लक्ष्मीकांत अवस्थी को बदायूं भेजा गया है। नगर मंत्री वैभव महाजन को जिला सह संयोजक मनोनीत किया गया है। उनको ही सदस्यता प्रमुख का दायित्व दिया गया है। इस वर्ग में जिले से योगेश शर्मा, विवेक उपाध्याय, अमर सिंह, रिषभ त्रिपाठी, अशोक कुमार, जितेंद्र, विकास, राहुल, सचिन ने सहभागिता की।

अमर उजाला

घूरपुर पहुंचे राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष

http://www.amarujala.com/news/city/allahabad/allahabad-crime-news/crime-in-allahabad-hindi-news-10/

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष पीएल पुनिया रविवार सुबह दलित शंकरलाल के घर पहुंचे। घटना के बारे में शंकरलाल के घरवालों से बातचीत भी की। हालांकि दीपक की लाश मिलने के बाद से ही दलितों के घर के पुरुष फरार हैं। घर में केवल महिलाएं और बच्चे हैं। पीएल पुनिया शंकरलाल की पत्नी फूला देवी से मिले और उनसे घटना के बारे में पूछा। फूला देवी ने बताया कि रात में उनके घर पर कुछ युवक आए थे, जिन्होंने परिवार को धमकी दी। साथ ही पुलिस भी उन्हें परेशान कर रही है। इस पर पीएल पुनिया ने थाना प्रभारी से पूछताछ की और घटना के बारे में जानकारी ली। शंकरलाल की पत्नी ने अध्यक्ष से सुरक्षा एवं निष्पक्ष जांच की गुहार लगाई।

पीएल पुनिया गांव में उस घर तक भी गए, जहां खून के छींटों पर पोछा लगाकर दीपक की हत्या का साक्ष्य मिटाया गया था। इसके बाद उस खेत में गए, जहां दीपक की लाश मिली थी। वह तकरीबन आधे घंटे तक गांव में रहे। बाद में सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने घटना की निंदा की और पूरे मामले की निष्पक्ष एवं उच्च स्तरीय जांच की मांग की। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि घटना की वजह तात्कालिक थी। इस दौरान वह भाजपा पर निशाना साधने में भी पीछे नहीं रहे।

कहा कि दलितों के उत्थान के लिए बीजेपी सरकार के पास कोई नीति नहीं है। यहां तक कि बजट भी कम कर दिया गया है। केंद्र सरकार दलितों के लिए जुबानी बात कर रही है। उन्होंने कहा कि यूपी में दलितों का उत्पीड़न बढ़ा है। आयोग समीक्षा करेगा कि यूपी में दलितों के विकास के लिए सरकार ने कितना काम किया। उन्होंने कहा कि दलित जागरूक हो रहा है। जिसके चलते सामंतवादी लोग उनका विरोध करते हैं और ऐसी निंदनीय घटनाएं होती हैं।

आरोप लगाया कि भाजपा सांप्रदायिकता के बूते विधानसभा चुनाव जीतना चाहती है। प्रदेश सरकार पर निशाना साधा और कहा कि मंत्री बेलगाम हो गए हैं। पत्रकारों और सरकारी कर्मचारियों पर हमले के आरोपी मंत्री खुलेआम घूम रहे हैं। मांझी के बीजेपी के प्रति बढ़े लगाव पर बोले कि मांझी अपने निजी हित के लिए बीजेपी के साथ हैं।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s