दलित मीडिया वाच-हिंदी न्यूज़ अपडेट 11.06.15

दलित मीडिया वाच

हिंदी न्यूज़ अपडेट  11.06.15

चलती कार में बसपा नेता से दुराचार का प्रयास, डीआइजी को शिकायत दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/lucknow-city-12465722.html

मनरेगा भवन में खींचकर युवती से दुष्कर्म दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/pilibhit-12466830.html

बेटियों पर टूट पड़े शैतान दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-12466161.html

कब आएंगे राजस्थान के दलितों के अच्छे दिन‘ – राजेश्थान पत्रिका

http://rajasthanpatrika.patrika.com/story/rajasthan/atrocities-is-growing-on-dalits-ncrb-1088332.html

दलित की शादी में दबंगों का हुड़दंग, दूल्हा घोड़ी पर बैठा तो जान से मारने की धमकी न्यूज़ 18

http://hindi.news18.com/news/rajasthan/dalit-groom-assaulted-for-riding-on-horse-in-jhunjhunu-475482.html

मालिक के नाम से जेल पहुंचा भट्ठा मजदूर दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/mainpuri-12465551.html

सरोकार हिन्दू जिनके पास नहीं है भारतीयता का पैसा पल पल इंडिया

http://www.palpalindia.com/2015/06/11/Pakistan-ancestral-village-migrated-India-good-leaving-thousands-Hindu-Indian-citizenship-government-looking-gaze-think-country-news-hindi-india-96294.html

दलित अधिकार बचाओ मोर्चाचलाएगा सदस्यता अभियान दैनिक जागरण

http://www.jagran.com/news/state-12465924.html

दैनिक जागरण

चलती कार में बसपा नेता से दुराचार का प्रयास, डीआइजी को शिकायत

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/lucknow-city-12465722.html

01

लखनऊ। चलती कार में बसपा की एक नेता से सामूहिक दुराचार के प्रयास का सनसनीखेज मामला सामने आया है। बलिया जिले की मूल निवासी पीडि़ता ने थानेदार से लगायत पुलिस अधीक्षक तक गुहार लगाई लेकिन जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो उसने बुधवार को आजमगढ़ पहुंचकर डीआइजी प्रशांत कुमार को मामले से अवगत कराया। डीआजी ने एसपी से जवाब-तलब करते हुए मामले की जांच का निर्देश दिया। आरोपी भी बसपा का ओहदेदार नेता बताया गया है।

बलिया जनपद के भीमपुरा तहसील के एक गांव की निवासी दलित महिला व बसपा नेता ने अपनी ही पार्टी के जोन कोआर्डिनेटर पर दुराचार के प्रयास का आरोप लगाया है। आरोप के मुताबिक वह ३० मई को बलिया के फेफना में वाहन का इंतजार कर रही थी। उसे अपने मौसी के घर गाजीपुर जाना था। इसी दौरान उधर से गुजर रहे जनपद के पार्टी नेता की उस पर नजर पड़ी तो उन्होंने गाड़ी रोक दी और यह कहकर कार में बैठा लिया कि उन्हें भी उधर से ही जाना है। चूंकि कार में चालक के बगल वाली सीट पर पहले से ही कोई बैठा था इसलिए उन्हें पिछली सीट पर बैठना पड़ा।

आरोप के मुताबिक गाड़ी थोड़ी ही दूर बढ़ी थी कि वह छेडख़ानी करने लगे। प्रतिरोध पर आपा खो बैठे और कपड़े आदि फाड़ डाले। हालांकि कड़े विरोध के चलते वह अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो सके। अंतत: वह हिदायत देकर निकल लिए कि इस घटना का जिक्र किसी से किया तो बहुत बुरा होगा। पीडि़त महिला के मुताबिक जब उसने परिवार में घटना का जिक्र किया तो एफआइआर दर्ज कराने का निर्णय लिया गया। प्राथमिकी के लिए वह भीमपुरा थाने पहुंची तो यह कहकर लौटा दिया गया कि मामला यहां से संबंधित नहीं है।

उसके बाद वह चितबड़ागांव थाने गई। वहां भी पुलिस ने मामले को संज्ञान में नहीं लिया। आरोप के मुताबिक चूंकि मामला बीएसपी के बड़े नेता का है इसलिएं एसपी ने भी रुचि नहीं ली। डीआइजी, आजमगढ़ मंडल प्रशांत कुमार ने बताया कि मामला बेहद गंभीर है। एसपी बलिया से मामले की जानकारी ली गई। उन्हें जांच कर आवश्यक कार्रवाई का निर्देश दिया गया है। दोषी पाए जाने पर कानून अपना काम करेगा। किसी को बख्शा नहीं जाएगा।

दैनिक जागरण

मनरेगा भवन में खींचकर युवती से दुष्कर्म

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/pilibhit-12466830.html

पीलीभीत: मनरेगा भवन की ओर गई युवती को पहले से ही घात लगाए बैठे युवक ने दबोच लिया और उसके संग दुष्कर्म किया। चीखपुकार पर युवक जातिसूचक गालियां देता हुआ भाग गया। पुलिस ने घटना की रिपोर्ट दर्ज की है।

थाना क्षेत्र के ग्राम लोहरपुर फुल्हर निवासी एक युवती बुधवार करीब तीन बजे घर से मनरेगा भवन की ओर गई थी।

जैसे ही वह वहां पहुंची पहले से ही घात लगाए बैठे गांव के ही एक युवक ने उसे दबोच लिया। युवक ने अंदर ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। चीखपुकार पर युवक को परिजनों ने भी रंगे हाथ पकड़ लिया। उसके बाद युवक जातिसूचक गालियां देता हुआ भाग गया। पुलिस ने घटना की सियाराम के विरुद्ध दुष्कर्म के अलावा दलित उत्पीड़न की रिपोर्ट दर्ज की है।

दैनिक जागरण

बेटियों पर टूट पड़े शैतान

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-12466161.html

मीरगंज/आंवला : बेटियों को दरिंदगी से बचाना चुनौती साबित हो रहा है। आए दिन दरिंदगी की हैवानियत का शिकार हो रही हैं। कहीं शादी समारोह में द¨रदगी होती है तो कहीं खेत पर। बुधवार को भी दो ऐसी ही घटनाएं सामने आई। एक घटना में दो द¨रदों ने खेत से चारा लेकर लौट रही 14 साल की किशोरी को द¨रदगी का शिकार बनाया तो दूसरी में छह साल की मासूम के अपहरण का प्रयास 65 साल के बुजुर्ग ने किया।

किशोरी को खेत में खींचा

आंवला के एक गांव में 14 वर्षीय किशोरी सोमवार शाम करीब पांच बजे खेत से चारा लेकर घर लौट रही थी। रास्ते में राकेश के खेत के पास ग्राम पनवड़िया के सूरजपाल पुत्र दिलसुख व उदयपाल पुत्र कन्हई लाल ने नशे की हालत में किशोरी को खेत में खींच लिया। आरोपियों ने किशोरी के कपड़े फाड़ डाले। किशोरी ने चीखने का प्रयास किया तो उसके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया और दुष्कर्म किया। इसके बाद वे फरार हो गए। किशोरी ने घर पहुंचकर आपबीती सुनाई। थाने पहुंचे तो पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर किशोरी को मेडिकल के लिए भेज दिया। दबिश के दौरान आरोपी घर से फरार मिले।

छह साल की बच्ची के अपहरण का प्रयास

बुजुर्ग ने छह साल की मासूम बच्ची के अपहरण का प्रयास किया। लोगों ने उसे पकड़ लिया और पिटाई के बाद पुलिस को सौंप दिया। फतेहगंज पश्चिमी प्रतिनिधि के अनुसार गाव कुरतरा निवासी छह वर्षीय रूबी पुत्री मोहनस्वरुप मंगलवार गर्मी की छुट्टियां बिताने बुआ कुसुम के घर फतेहगंज पश्चिमी के मुहल्ला माली में आई हुई है।

बुधवार दोपहर काली मंदिर के पास अकेली खेल रही थी। अचानक वहां पहुंचा मुहल्ला अंसारी चौड़ा खड़ंजा निवासी हिसाब हुसैन पुत्र मुहम्मद हुसैन रूबी को कंधे पर डालकर चल दिया। रूबी के फूफा के भाई अमन ने देखा तो शोर मचा दिया। लोगों ने आरोपी को दौड़ाकर पकड़ा और जमकर पिटाई लगाई। इसके बाद पुलिस को सौंप दिया। लोग थाने पहुंचे और एसओ अखिलेश यादव से शिकायत की तो उन्होंने रिपोर्ट दर्ज करा दी।

दलित किशोरी से दरिंदगी

फतेहगंज पश्चिमी : थाना क्षेत्र के गांव गांव सफरी निवासी दलित की पंद्रह वर्षीय बेटी बुधवार को घर में अकेली थी। उसके पिता पेंशन लेने भोजीपुरा स्थित बैंक गए थे और मां किसी काम से गांव में गई थीं। दोपहर लगभग 1 बजे किशोरी को घर में अकेला देख गांव का ही यशपाल पुत्र देवदत्त घुस आया। इसके बाद वह किशोरी को जबरन घर से घसीटते हुए खेत में ले गया। वहां रस्सी से उसके हाथ-पैर बांध दिए और मुंह में कपड़ा ठूंसकर दुष्कर्म किया।

धमकाने की नीयत से पापुलर के पेड़ से डंडा तोड़कर उसे पीटा। जब किशोरी बेहोश हो गई तो आरोपी वहां से भाग गया। वहां से गुजरे राहगीर ने कराहने की आवाज पर उसे देखा और परिजनों को जानकारी दी। देर शाम पीड़िता थाने पहुंची और घटना की तहरीर दी। आरोपी फरार है। पुलिस ने उसके पिता को हिरासत में ले लिया। सूचना पर सीओ कालू सिंह भी थाने पहुंचे और घटना की जानकारी ली। सीओ ने बताया कि इस मामले में दुष्कर्म, मारपीट व एससीएसटी की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

वर्जन

पीड़िता का मेडिकल करा दिया गया है। तीनों मामलों की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। एक मामले के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

राजेश्थान पत्रिका

कब आएंगे राजस्थान के दलितों के अच्छे दिन

http://rajasthanpatrika.patrika.com/story/rajasthan/atrocities-is-growing-on-dalits-ncrb-1088332.html

 

02

जयपुर नागौर के डांगावास में दलित परिवारों पर अत्याचार के मामले में सरकार घिरती नजर आ रही है। हालांकि सरकार ने अपने हाथ बचाते हुए पूरे मामले को सीबीआई को सौंप दिया है, लेकिन इस घटना ने सवाल खड़ा कर दिया है कि विकास के पथ पर आगे बढ़ते राजस्थान में दलितों के ‘अच्छे दिन  कब आएंगे?

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार साल 2013 में दलितों पर अत्याचार के देश भर में दर्ज कुल मामलों में 16.45 प्रतिशत प्रदेश के हैं, जबकि यहां सिर्फ सवा करोड़ दलित ही निवास करते हैं। वहीं बिहार जहां पर करीब पौने दो करोड़ दलित निवास करते हैं, वहां 17 प्रतिशत मामले दर्ज हुए।

उत्तर प्रदेश जहां पर करीब सवा चार करोड़ दलित रहते हैं, वहां 18 प्रतिशत मामले ही दर्ज हुए। इस तरह जनसंख्या के औसत के आधार पर देखा जाए तो देश भर में राजस्थान दलितों पर अत्याचार के मामले में सबसे आगे आ रहा है।

 

बेकार गईं कोशिशें

गंगानगर में, नागौर में, हनुमानगढ़ में, करौली, भरतपुर, टोंक, सवाई माधोपुर, समेत प्रदेश के करीब एक दर्जन से भी ज्यादा जिलों में दलित परिवारों की अच्छी-खासी संख्या है। दलितों पर अत्याचार कम करने के लिए सरकारी स्तर पर प्रयास भी हुए हैं।

पिछले सालों में एससी-एसटी न्यायालयों की संख्या बढ़कर 25 जिलों तक जा पहुंची है। 33 में से 25 जिलों में दलितों को उनके ही जिले में ही न्याय की सुविधा है। साथ ही सभी जिलों में अनुसूचित जाति-जनजाति प्रकोष्ठ भी बनाया गया है।

इतना ही नहीं, एससी-एसटी के सदस्य अपनी पीड़ा सीधे पुलिस के उच्च अधिकारियों तक निशुल्क पहुंचा सकें, इसके लिए सीआईडी-सीबी ने फ्री टेलीफोन हेल्पलाइन नंबर (18001806025) भी जारी किया है। लेकिन इतने प्रयास होने के बाद भी सरकार की इच्छाशक्ति में कमी होने के कारण ही अपराधों में बढ़ोतरी हो रही है।

 

कभी जमीन के लिए तो कभी घोड़ी चढ़े दूल्हे को लेकर फसाद

प्रदेश में दलित लोगों से मारपीट और लूटपाट के मामले सामान्य बातों को लेकर सामने आते हैं। इसी साल फरवरी में नागौर में पैंसठ वर्षीय महिला को उसकी छह बीघा भूमि के लिए जलाकर मार डाला गया था। पिछले साल भीलवाड़ा में एक दलित दूल्हे ने घोड़ी चढ़कर बिंदोरी क्या निकाली उसका सामूहिक बहिष्कार कर दिया गया। नागौर में ही पिछले साल एक दलित महिला की  कुएं से पानी भरने के विवाद के कारण हत्या कर दी गई थी।

वर्ष    संख्या

2012    6910

2013    8116

2014    8415

न्यूज़ 18

दलित की शादी में दबंगों का हुड़दंग, दूल्हा घोड़ी पर बैठा तो जान से मारने की धमकी

http://hindi.news18.com/news/rajasthan/dalit-groom-assaulted-for-riding-on-horse-in-jhunjhunu-475482.html

03

झुंझुनूं के परसरामपुरा गांव में मंगलवार की रात एक दलित दूल्हे की शादी समारोह के दौरान दबंगों ने दूल्हे व उसके परिवार वालों की पिटाई कर डाली.

शादी समारोह में दबंगों की इस दबंगई में दूल्हे का भाई और दो महिलाएं घायल हो गए. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों का अस्पताल पहुंचाया.  घटना के बाद दलित समाज के लोगों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया. हालांकि, स्थानीय विधायक राजकुमार शर्मा ने मौके पर पहुंचकर समझाइश की और आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई के आश्वासन पर मामला शांत हुआ.

घोड़ी पर बैठने पर जान से मारने की धमकी:

घटना के बाद से ही दलित परिवार सहमा हुआ है. परिवार से जुड़े लाेगों की माने तो दबंगों ने दूल्हे को घोड़ी पर बैठाने पर जान से मारने की धमकी दी है. शादी 11 जून को होनी है और दूल्हा बारात लेकर सीकर जाने वाला है. पीड़ित परिवार ने इस दौरान लिस प्रशासन से सुरक्षा की मांग की है. पुलिस ने इस मामले मे पर्चा बयान दर्ज किए हैं और पीड़ितों को सुरक्षा देने का वादा किया है.

पुलिस सुरक्षा के बीच हो रही शादी की रश्में:

मंगलवार रात की इस घटना के बाद से मौके पर पुलिस बल तैनात है. बुधवार को शादी वाले घर में चाक-भात आदि शादी की तमाम रश्में पुलिस सुरक्षा के बीच हुई हैं. दलित परिवार के यहां शादी में मेहमानों से ज्यादा पुलिस वाले नजर आ रहे हैं.

एकजुट हुआ दलित समाज, आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग:

दलित परिवार के अनुसार दबंगों की नाराजगी इस बात को लेकर कि कोई दलित शादी समारोह को धूमधाम से कैसे आयोजित कर रहा है. वहीं घटना की जानकारी मिलते ही समाज के अन्य लोग भी घटनास्थल पर पहुंच गए और हमले के विरोध में नारेबाजी करने लगे. समाज के लोगों ने मांग की है कि हमलावरों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए.

यह है पूरा मामला:

पुलिस के अनुसार परसरामपुरा गांव मे दिनेश नायक की शादी से पूर्व का प्रतिभोज कार्यक्रम आयोजित हो रहा था. तभी कुछ लोगों ने उन पर हमला बोल दिया. अचानक हुए इस हमले के कारण दूल्हे दिनेश व उसके परिजनों को संभलने तक का मौका नहीं मिला.  इस दौरान दूल्हे का भाई, बुआ और एक अन्य मेहमान घायल हो गए. वारदात के कुछ देर बाद ही हमलावर वहां से फरार हो गए. वहीं, सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को गांव के राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में ले जाकर उनका उपचार करवाया.

दैनिक जागरण

मालिक के नाम से जेल पहुंचा भट्ठा मजदूर

http://www.jagran.com/uttar-pradesh/mainpuri-12465551.html

मैनपुरी: दलित के साथ मारपीट के मामले में चार साल से फरार चल रहे भट्ठा मालिक ने अपने स्थान पर अपने भट्ठे के मजदूर को जेल भेज दिया। मामले का खुलासा हुआ, तो लोग हैरान रह गए। अदालत ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

घिरोर क्षेत्र के गांव नगला घना निवासी अमर सिंह ईंट भट्ठा मालिक हैं। उनके विरुद्ध दलित के साथ मारपीट का मामला स्पेशल जज एससी/एसटी कोर्ट में विचाराधीन है। अदालत में हाजिर न होने के कारण उनके विरुद्ध चार साल पहले वारंट जारी किया गया था, मगर पुलिस अमर सिंह को गिरफ्तार कर कोर्ट के समक्ष पेश नहीं कर सकी।

अदालत के आदेश के बाद पुलिस ने इश्तहार चस्पा करने की कार्रवाई की। फिर कोर्ट ने आरोपी के विरुद्ध कुर्की की कार्रवाई करने का आदेश दिया। पुलिस के दबाव बनाने पर अमर सिंह ने अपने स्थान पर भट्ठे के मजदूर को कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे जेल भेज दिया। सुनवाई के बाद अदालत ने जमानत अर्जी खारिज कर दी।

भट्ठा मजदूर की ओर से जमानत खारिज होने के बाद उच्च न्यायालय में जमानत अर्जी पेश की गई। क्षेत्र के लोगों को पता था कि अमर सिंह जेल में है। इसी बीच मंगलवार को अमर सिंह घूमता दिखाई दिया, तो उनके विपक्षी सतर्क हो गए। कोर्ट में जाकर जानकारी की, तो पता चला कि अमर सिंह की जमानत अर्जी निरस्त हो चुकी है और वह जेल में है। एक ही व्यक्ति का जेल और बाहर होना संभव नहीं था। नगला घना निवासी गणेश चंद ने अधिवक्ता सुरेश चंद्र यादव के माध्यम से बुधवार को अदालत में प्रार्थनापत्र प्रस्तुत किया। जानकारी दी कि अमर सिंह के नाम से जिस को जेल भेजा है, वह असली अमर सिंह नहीं है।

उधर, अमर सिंह के नाम से जेल भेजे व्यक्ति का रिमांड भी बुधवार को कोर्ट में पेश किया। जहां उससे पूछताछ हुई, तो उसने सच्चाई से पर्दा हटा दिया। उसने बताया कि वह बरनाहल क्षेत्र के गांव नगला मांधाता में रहता है। उसका नाम सोपाली है। वह अमर सिंह के भट्ठे पर मजदूरी करता था। अमर सिंह ने उसे चालाकी से अपने स्थान पर जेल भिजवा दिया। अदालत ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं। एसओ दिवाकर सिंह ने बताया कि मामले की जानकारी मिल गई है। जांच कर दोषी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पल पल इंडिया

सरोकार हिन्दू जिनके पास नहीं है भारतीयता का पैसा.

http://www.palpalindia.com/2015/06/11/Pakistan-ancestral-village-migrated-India-good-leaving-thousands-Hindu-Indian-citizenship-government-looking-gaze-think-country-news-hindi-india-96294.html

04

पाकिस्तान में अपना पुश्तैनी गाँव घर सदा के लिए छोड़ भारत चले आए हज़ारों हिंदू भारतीय नागरिकता के लिए सरकार की ओर टकटकी लगाए देख रहे हैं.उन्हें लगता है कि उनका कोई देश नहीं है, क्योंकि पाकिस्तान उनके लिए अब बीती बात है और भारत ने उन्हें अभी अपनाया नहीं है.पाकिस्तान के ये हिंदू अल्पसंख्यक हाल में केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के जोधपुर दौरे के दौरान उनसे मिले और अपना दर्द बयां किया.

सरकार से गुहारपाकिस्तान के हिंदू अल्पसंख्यकों के लिए काम कर रहे सीमान्त लोक संगठन के मुताबिक़, राजनाथ सिंह ने ज़रूरी कार्यवाई का वादा किया है, मगर बेघर होने के दर्द ने इन अल्पसंख्यकों की रातों की नींद उड़ा रखी है.पाकिस्तान के सिंध प्रांत से आए गंगाराम कहते हैं, ज़िंदगी वहां बहुत दुश्वार थी, मगर यहाँ भी आसान नहीं है. हम पर अब भी पाकिस्तानी होने की इबारत चस्पा है.” चाहे कुछ भी हो जाए अब हम वापस उस मुल्क का रुख़ नहीं करेंगे.

केंद्र सरकार ने क़रीब दो माह पहले पाकिस्तान से आए इन हिंदुओं की नागरिकता के लिए देशभर में शिविर लगाए थे.इनमें चार शिविर राजस्थान में भी आयोजित किए गए थे, लेकिन नागरिकता की मंज़िल अब भी दूर है, क्योंकि इन हिंदुओं के मुताबिक़, नागरिकता का शुल्क इतना भारी है कि उनकी फटी जेब इसको पूरा नहीं कर सकती.

जेब पर भारी फ़ीससीमान्त लोक संगठन के अध्यक्ष हिंदू सिंह सोढ़ा कहते हैं, नागरिकता देने का अधिकार अब पूरी तरह केंद्र सरकार के हाथ में है. हमारी मांग है कि नागरिकता देने का अधिकार ज़िला कलेक्टर को दिया जाना चाहिए.सोढ़ा के मुताबिक़, इससे पहले वर्ष 2005-06 में शिविर लगाकर 13 हज़ार पाकिस्तानी हिंदुओं को हाथोंहाथ भारतीय नागरिकता दी गई थी, क्योंकि उस समय नियम और फ़ीस में ढील दी गई थी.

इन हिंदुओं में ज़्यादातर या तो दलित हैं या फिर आदिवासी भील समुदाय के हैं.

इनमे से एक, प्रेम भील ने अपने पूरे परिवार के साथ 2005 में भारत का रुख़ किया था.

दरबदरप्रेम बताते हैं, उस वक्त पांच साल भारत में गुजारने के बाद नागरिकता मिल रही थी, अब इसे सात साल कर दिया गया है. मगर बड़ी समस्या नागरिकता शुल्क की है, ये अभी पांच हज़ार से लेकर 25 हज़ार तक है. इसमें छह श्रेणियाँ हैं.

दैनिक जागरण

दलित अधिकार बचाओ मोर्चाचलाएगा सदस्यता अभियान

http://www.jagran.com/news/state-12465924.html

‘दलित अधिकार बचाओ मोर्चा’ राज्य में दलित वर्ग के साथ हो रहे अन्याय, सामाजिक शोषण व अत्याचारों पर अंकुश लगाने के लिए अगले छह माह में सवा लाख स्वयंसेवकों की भर्ती करेगा। भर्ती अभियान के तहत महानगर के हर वार्ड में एक-एक हजार सदस्य मोर्चा के साथ जोड़े जाएंगे।

यह जानकारी दलित अधिकार मोर्चा के चेयरमैन रमनजीत लाली, अध्यक्ष चौधरी यशपाल और संरक्षक एसपी सागर ने स्थानीय घाटी मोहल्ला स्थित भगवान वाल्मीकि मंदिर में हुई बैठक में दी। उन्होंने कहा कि सरकार दलित समाज का हर क्षेत्र में अनदेखी कर रही है। दलितों पर दिन-प्रतिदिन अत्याचार बढ़ते जा रहे है। सरकारी कर्मचारियों व विद्यार्थियों के साथ भेदभाव हो रहा है।

इस अवसर पर चौधरी रामचंद तलवंडी, मलकीत जानागल, महिंदर सिंह ढंढारी, राजन कुमार लवली, हरि दर्शन, सोहन लाल चौहान, राजेश खोखर, पूर्व पार्षद सोहन लाल, ज्ञान सिंह बाली, एसपी बंगड़ व केवल स्वामी उपस्थित थे।

News Monitored by Kuldeep Chandan & Kalpana Bhadra

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s